Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi

Punjab tourist place पंजाब के दर्शनीय स्थल

पंजाब भारत के उत्तर-पश्चिमी भाग मे स्थित है। पंजाब शब्द पारसी भाषा के दो शब्दो “पंज” और “आब” से बना है। पंज का तात्पर्य पाँच और आब का तात्पर्य पानी अथार्त नदियां। यानि पाँच नदियाँ- रावी, झेलम, सतलुज, व्यास और चेनाब के मध्य बसा पंजाब प्रांत अत्यंत ही हरा-भरा और ऊपजाऊ क्षेत्र है। (punjab tourist place)

पंजाब राज्य का निर्माण 1947 मे भारत और पाकिस्तान के विभाजन के पश्चात हुआ। पुराने राज्य को पंजाब और हरियाणा के रूप में विभाजन के पश्चात 1 नवम्बर 1966 को पंजाब राज्य का गठन हुआ। उत्तर पश्चिमी दिशा मे स्थित होने के कारण बाहरी राजाओ- पारसी, मौर्य, पार्थियन, कुषाणो और मुगलो के आक्रमणो का डटकर मुकाबला करता आया है। गुरूनानक जी पहले गुरू थे जिन्हौने सिक्ख धर्म की स्थापना शांति, भाई-चारा,सदभावना और सहनशीलता के उद्देश्य से कि तथा नौ गुरूओ ने इसका पालन किया। पटियाला के महाराजा रणजीत सिंह जी का पंजाब के लिए अति विशिषट योगदान रहा है। पंजाब सदैव से ही पर्यटको को अपने विभिन्न सिक्ख तीर्थ स्थलो ( गुरूद्धारे) विशाल किलो, ऐतिहासिक भवनो, त्यौहारो, भंगडा नृत्य, विशिष्ट भोजन और अतिथि सत्कार मे दक्ष विचारो के लिए प्रसिद है। पंजाब के प्रमुख त्यौहारो मे लोहडी, होली, होला मोहल्ला, वैशाखी, दिवाली और गुरू पर्व है। यहा की मुख्य भाषा पंजाबी है इसके अलावा यहा हिन्दीं और अंग्रेजी भाषा भी अच्छी तरह बोली व समझी जाती है। पंजाब के पर्यटन स्थलो व ऐतिहासिक शहरो की सूची लम्बी है मगर हम पंजाब के कुछ प्रसिद पर्यटन स्थलो के बारे मे जानेगे।

Punjab tourist place
पंजाब के दर्शनीय स्थल

Punjab tourist place in chandigardh
Capital of punjab chandigardh
Chandigardh tourist place
चंडीगढ और उसके दर्शनीय स्थल

चंडीगढ:-
यह भारत का पहला सुनियोजित आधुनिक नगर है। जिसे पंजाब और हरियाणा दानों ही राज्यो की राजधानी होने का गौरव प्राप्त है। यह 1966 से ही केन्द्र शासित प्रदेश रहा है। यह नगर महान फ्रांसीसी वास्तुकार ली कॉर्बुशियर की योजना पर आधारित सुरूचिपूर्ण और सुव्यवस्थित ढंग से निर्मित किया गया है। इसे विभिन्न सेक्टरो मे विभाजित किया गया है। प्रत्येक सेक्टर मे अपने बाजार, अस्पताल, धार्मिक स्थल, पार्क, खेलकूद के मैदान और विद्यालय निर्मित है। यहां पर सिथित कला दीर्घाए, संग्रहालय, रॉक गार्डन, गुलाब उद्यान, सुखना झील और सरकारी भवन आदि पर्यटको के लिए देखने योग्य स्थल है।

Punjab tourist place near amritsar

Amritsar tourist place
Tourist place in amritsar
अमृतसर:-
अमृतसर पंजाब का सबसे महत्वपूर्ण और पवित्र शहर माना जाता है। यहा पर सिक्खो का सबसे बडा गुरूद्धारा स्वर्ण मंदिर स्थित है जिसका पूरा नाम हरमिंदर साहब है। यह पवित्र गुरूद्घारा एक सरोवर के बीच मे बना है। और इसके गुम्बद पर सोने की परत चढी हुई है। इसके आलावा अमृतसर में पर्यटको के देखने योग्य कई और भी कई प्रमुख दर्शनीय स्थल है।
दुर्गियाना मंदिर:-
यह प्रसिद मंदिर इस मंदिर को हरमंदिर साहिब से प्रेरित होकर बनाया गया है। यह भी एक सरोवर के बीच मे बना हुआ है तथा इसके गर्भगृह पर सोने की परत चढाई गयी है यह मंदिर बिल्कुल हरमंदिर साहिब जैसा दिखने वाला मंदिर है।
जलियाँवाला बाग:- जलियाँवाला बाग शहिदो की स्थली है। यहा पर 13 अप्रैल 1919 को अंग्रेज सेना ने जनरल डायर के नेत्वत में कई सौ प्रदर्शनकारी को मौत के घाट उतार दिया था यह स्थल भारत के आजादी के इतिहास के सबसे बडे कांड का गवाह है। अधिकतर पर्यटक इसे देखने जरूर आते है। इसके आलावा अमृतसर मे आप आकाल तख्त, संग्रहालय और रामबाग उद्यान भी देख सकते है।

अमृतसर के निकट के पर्यटन स्थलो मे अमृतसर से 10 किलोमीटर की दूरी पर रामतीरथ है। यहा लव और कुश की जन्म स्थली और प्रसिद मंदिर है।

तरन तारन अमृतसर से 22 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। यहा पर पर्यटक प्राचीन और प्रसिद सुनहरी गुम्बद वाला गुरूद्घारा और पवित्र तालाब के दर्शन कर सकते है।

जम्मू कश्मीर के पर्यटन स्थल

नैना देवी मंदिर बिलासपुर

कालिका देवी

ज्वाला देवी मंदिर कांगडा

आनन्दपुर साहिब:- Punjab tourist place
आनन्दपुर साहिब चंण्डीगढ से 90 किलोमीटर की दूरी पर स्थिथ है। यह नगर गुरू तेगबहादुर सिंह जी द्धारा 1665 में स्थापित किया गया था। यहा सिक्खो का प्रमुख तीर्थ स्थल है। पाँच तख्तों मे से एक तख्त गुरूद्धारा केशगढ साहिब तथा अन्य गुरूद्धारे देखने योग्य है।

कीरतपुर साहिब:- Punjab tourist place
कीरतपुर साहिब सिक्खो का पवित्र नगर है। पीर बुढान और तीन सिक्ख गुरूओ की समाँधिया यहा पर्यटको के लिए देखने व श्रृद्दा के लिए है। इसके आलावा पंजाब के दर्शनीय स्थलो मे:-
भटिण्डा-का ऐतिहासिक किला। Punjab tourist place
व्यास- राधा स्वामी सत्संग आश्रम का मुख्यालय और धार्मिक स्थल

बाघा:- पाकिस्तान जाने के लिए प्रवेशद्धार व यहा होने वाली परेड

Leave a Reply