Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi

Gangtok tourist place – गंगटोक के दर्शनीय स्थल

प्रिय पाठको पिछली पोस्ट मे हमने भारत के सिक्किम राज्य के चीन के बॉडर्र पर स्थित सबसे ऊचे दर्रे की सैर की और उसके बारे में विस्तार से जाना। इस पोस्ट मे हम सिक्किम राज्य की राजधानी गंगटोक के पर्यटन स्थलो Gangtok tourist place की सैर करेगे और उसके बारे में विस्तार से जानेगें।

सिक्किम भारत के सुंदरतम राज्यो में से एक है। और उससे भी कही अधिक सुंदर यहा की राजधानी गंगटोक है। गंगटोक समुन्द्र तल से 5800 फुट की ऊचाई पर बसा एक खुबसूरत हिल्स स्टेशन है। गंगटोक को स्थानिय लोग गांगतोक या गैंगटोक के नाम से भी पुकारते है। यहां से कंचनजंघा पर्वत माला की खुबसूरती देखते ही बनती है।  सिक्किम राज्य के चीन से सटा होने तथा सिक्किम की राजधानी होने के कारण गंगटोक की महत्वता काफी अधिक मानी जाती है। इसके आलावा पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग टूरिस्ट पैलेस और सिक्किम के नथुला पास के निकट होने के कारण गंगटोक पर्यटको का मुख्य पडाव भी माना जाता है। गंगटोक मे पर्यटको के देखने लायक बहुत से खुबसूरत और मनभावन स्थल है। आईये आगे उन्ही कुछ प्रमुख दर्शनीय स्थलो की सैर करते है।

Gangtok tourist place
गंगटोक के पर्यटन स्थल
गंगटोक टूरिस्ट पैलेस – गंगटोक के दर्शनीय स्थल – tourist place Gangtok – Gangtok tourist place – Sikkim tourist place – सिक्किम के पर्यटन स्थल – सिक्किम टूरिस्ट पैलेस – सिक्किम के दर्शनीय स्थल

ताशी व्यू प्वाइंट:- गंगटोक से ताशी व्यू प्वाइंट की दूरी 8 किलोमीटर के लगभग है। यह पर्यटन स्थल पर्यटको मे काफी लोकप्रीय और पसंदीदा है। यहां से आप कंचनजंघा और सिनोलयू पर्वतो की बर्फ से ढकी सफेद संगमरमर की तरह चमकती चोटीयो के दिलकश नजारे देखे जा सकते है।

आर्किड सेंक्चुअरी:- आर्किड सेंक्चुअरी की गंगटोक से दूरी 3 किलोमीटर के लगभग है। जैसा कि नाम से पता चलता है यह एक आर्किड उद्यान है। यहां आर्किड के पौधो की कम से कम 400 किस्मे संरक्षित है। बसंत ऋतु मे जब यहा फूल खिलते है तो इस सेंक्चुअरी की छठा देखते ही बनती है।
नथुला पास की यात्रा

गणेश टाक तथा हनुमान टाक :- गंगटोक से गणेश टाक की दूरी 7 किलोमीटर के लगभग है।  दोनो स्थलो से कंचनजंघा पर्वत माला के खुबसूरत दृश्य दिखाई पडते है।

Gangtok tourist place

तितली पार्क:- सन् 1992 मे बनाया गया भारत का एकमात्र तितली पार्क है। यह पार्क गंगटोक का मुख्य आकर्षण का केन्द्र है। यह पर आप 400 से भी अधिक प्रजातियों की तितलियो को देखने का सौभाग्य प्राप्त कर सकते है।

नेहरू बोटेनिक गार्डन:- इस गार्डन मे पर्यटक विभिन्न प्रकार की वनस्पतियो के दर्शन कर सकते है। यह गार्डन पिकनिक मनाने वालो के लिए उपयुक्त स्थान है।

गंगटोक के टूरिस्ट प्लेस

कंचनजंघा नेशनल पार्क :- यही पर पर्यटक विभिन्न प्रकार के हिमालयन व पहाडी जीव जन्तु व जानवरो के दर्शन कर सकते है। जिसमे याक, हिमालयन भालू, हिम तेदुआ, तेंदुए की शकल वाली बिल्ली तथा भोकने वाले हिरण प्रमुख है। इसके आलावा इस पार्क वनस्पति सुंदरता भी पर्यटको को खूब भाति है।

डियर पार्क :- जैसा की नाम से ही प्रतित होता है यहा आपको विभिन्न जाति की हिरण देखने को मिलती है। सुंदर फूलो से सजा यह पार्क खुबसूरत दिखाई पडता है।

खेचोपालरी झील :-  सिक्किम वासी इस झील को पवित्र मानते है। यह झील अत्यधिक सुंदर व मनभावन है।

रोपवे :- गंगटोक शहर की हसीन वादियो को ऊचाई से नहारने के लिए गंगटोक के पास से ही रोपवे की सुविधा उपलब्ध है।

Gangtok tourist place

गंगटोक के बौद्ध मठ

त्सुकलाखांग :- यह सिक्किम के पूर्व राजाओ का मंदिर है। इस भव्य व खुबसूरत इमारत मे महात्मा बुद्ध की अनेक खुबसूरत प्रतिमाए स्थापित है।

रमटेक मठ :- रमटेक मठ की दूरी गंगटोक से 23 किलोमीटर के लगभग है। पूरे विश्व मे रमटेक मठ की 200 शाखाएं है। इस मठ का अपना एक विश्वविधालय है। इस मठ में विश्व की कुछ अदभुत धार्मिक कलाकृतिया भी संग्रह है।

ऐनचे मठ :- यह मठ 200 साल पुराना है। यहां आप धार्मिक महत्व की प्राचीन वस्तुओ को बेहद करीब से देख सकते है। यह मठ गंगटोक से 3  किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

पेमायांगत्से मठ :- यह सिक्किम के सबसे प्राचीन मठो मे से एक है। इस मठ की दिवारो पर धार्मिक कथाओ से संबधित आकृतियां देखने योग्य है।

Leave a Reply