Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
सकराय माता मंदिर या शाकंभरी माता मंदिर सीकर राजस्थान हिस्ट्री इन हिंदी

सकराय माता मंदिर या शाकंभरी माता मंदिर सीकर राजस्थान हिस्ट्री इन हिंदी

राजस्थान के सीकर जिले में सीकर के पास सकराय माता जी का स्थान राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक है। मालकेत नामक पर्वतमाला यहां आकर मंडलाकार हो गई है। जिसके बीच बडे बडे आम के पेडों की शीतल छाया है और उनके बीच से शक्रगंगा की पतली धारा बह रही है। जो कही कही पर छोटे छोटे कुंडो में आकर विस्तृत भी हो जाती है। यही पर शक्रगंगा के दाहिने तट पर सकराय माता का मंदिर भव्य रूप में स्थित है। सकराय माता मंदिर का निर्माण वि.संवत् 1972-80 में हुआ था। इससे पहले जो प्राचीन मंदिर यहां था वह सन् 1053 ईसवीं के लगभग बना हुआ था। यह शेखावटी का प्राचीनतम तीर्थ स्थल है। यहां वर्ष में तीन मेले लगते है। चैत्र व आसोज के माह के नवरात्रि मे नौ दिन का और भाद्रपद में चार दिन का। यह एक सिद्धपीठ भी है। वर्षभर में यहां लाखों की संख्या में श्रृदालु यात्री आते है।

 

सकराय माता मंदिर का इतिहास




सकराय माता मंदिर का पौराणिक इतिहास बताता है कि यहाँ शक्र यानी इंद्र ने तपस्या की थी। जिसके फलस्वरूप यहां बहने वाली धारा शक्रगंगा के नाम से विख्यात हुई, और यहां स्थापित जगदंबा की प्रतिमाएं शक्रमाता के नाम से जानी गई। बाद में शक्रमाता से सकराय माता शब्द बन गया। इतिहासकार गौरीशंकर हीराचंद ओझा ने शंकरा माता शब्द से सकराय माता होना बताया है। जिससे इसे शाकंभरी माता मंदिर भी कहा जाता है। ऐसा भी बताते है कि इधर से पांडव गुजरे थे। ऐसी और भी कई कतिपय दंतकथाएं प्रचलित है। यह स्थान बहुत पुराना है। जिसके प्रमाण स्वरूप यहां से प्राप्त मंदिर के जीर्णोद्धार संबंधी तीन शिलालेखों का हिन्दी अनुवाद प्रस्तुत है।

 

सकराय माता मंदिर के सुंदर दृश्य
सकराय माता मंदिर के सुंदर दृश्य





यह अनुवाद 1953 ईसवीं में इतिहासकार गौरीशंकर हीराचंद ओझा जब यहां आये थे तब उन्होंने किया था। सबसे पुराना शिलालेख संवत् 749 द्वितीय आषाढ़ सुदी 2 का है। इस शिलालेख के शुरुआत में सकराय देवी की स्तुति है। फिर इस मंदिर का मंडप बनाने वालों का परिचय है। मंदिर का मंडप बनाने वालों में सबसे पहले धेसरवंश के सेठ यशोवर्दन उसके पुत्र राम, उसके पुत्र मंडन तथा धरकरवंश के सेठ मंण्डन, उसके पुत्र यशोवर्दन उसके पुत्र गर्ग अनन्तर, किसी दूसरे वंश के भट्टीयक उसके पुत्र वर्धन, उसके पुत्र गणादित्य और देवल के साथ ही तीसरे धरकर वंशीय शिव उसके पुत्र शंकर, उसके पुत्र वैष्णवाक, उसके पुत्र आदित्य वर्धन आदि के नाम है। इन सेठो ने मिलकर भगवती शंकरा देवी (सकराय माता ) के सामने का मंडप बनवाया था।

 



दूसरा शिलालेख इस मंदिर के उत्तरी भाग के बाहर लगा हुआ है। इस लेख के बीच का आंशिक भाग बिगड़ गया है। जिससे पूरा आशय नहीं मिलता है। यह विग्रराज चौहान के समय का प्रतीत होता है। इसमें वच्छराज तथा उसकी पत्नी दायिका के नाम पढ़े जाते है। वच्छराज विग्रराज का काका था। ऐसा हर्ष के शिलालेख में पाया जाता है। इसमें सकराय माता मंदिर के जीर्णोद्धार का वर्णन है। अंत में संवत् 55 माघ सुदी पंचमी लिखा हुआ है। अनुमान है कि इसमें शुरू के दो अंक 1 और 0 छोड दिए गए है। ठीक संवत् 1055 होना चाहिए।

 




तीसरा लेख 1057 का है। इस लेख का आशय इस प्रकार है — संवत् (105) 6 सावण वदी 1 के दिन महाराजधिराज दुर्लभ के राज्य के समय श्री शिवहरी के पुत्र तथा उसके भतीजे सिद्धराज ने शंकरा देवी का मंडप कराया। काम किया सींवट के पुत्र आहिल ने जो देवी के चरणों में नित्य प्रणाम करता है। प्रशस्ति खोदी बहुरू के पुत्र देव रूप ने।




इस विवरण में दूसरे व तीसरे शिलालेखों के संवतों से अन्य अनुमान भी लगाया जा सकता है। जैसा कि दोनों संवतों में केवल एक वर्ष का अंतर है। जो जीर्णोद्धार के सम्बंध में ठीक नहीं जंचता। अतः अंतिम दिनों शिलालेखों में से किसी एक का संवत् काफी प्राचीन होना चाहिये।

 

सिद्धपीठ



यहां प्रबंध हेतु नाथ पंथियों की गद्दी है। यहां के सर्वप्रथम नाथपंथी मठाधीश शिवनाथ जी महाराज थे। जिनके बारें में बताया जाता हैं कि वो कश्मीर के किसी महाराजा के पुत्र थे। और अपने अन्य तीन भाइयों सहित सन्यास ले चुके थे। जब शिवनाथ जी यहां आये तो सकराय माता की पूजा एक गुर्जर भोपा करता था। जिसका नाम जैला था। थोड़े दिनों में इन दोनों में मित्रता हो गई और शिवनाथ जी महाराज यहां पूजा करने लगे, क्योंकि जैला को पूजा के लिए दूसरे गांव से आना पड़ता था। एक दिन माता के दोनों भक्तों में एक दूसरे के चमत्कार की चर्चा चल पड़ी और इसी बात में शिवनाथ जी ने सिंह का रूप धारण किया, जब वे पूर्व स्थिति में आये तो उन्हें जीवन से पूर्ण विरक्ति हो गयी और उन्होंने जीवन समाधि लेने का निश्चय किया। साथ ही उनके दस चेलों ने भी यही निश्चय किया पर उनमें से एक को जो यादव था और पास ही के राजपुरा नामक ग्राम का निवासी था। माता जी के प्रबंध हेतु छोड़ दिया। इसी वंश में आज भी यहां मठाधिपति रहते है। शिवनाथ जी को यहां सिद्धि प्राप्त हुई थी इसलिए यह एक सिद्धपीठ भी कहलाता है। इन शिवनाथ जी के पद चिन्ह पर यहां देवालय बना हुआ है। साथ ही होथराज, राजपुरा, व पुष्कर में भी इनके देवालय बने हुए है।




श्री शिवनाथ जी महाराज के बाद घूणीनाथ जी, दयानाथ जी, पृथ्वीनाथ जी, करणीनाथ जी, शिवनाथ जी (द्वितीय) के नाम मिलते है। जो सबसे महत्वपूर्ण नाम है वह मठाधीश श्री बालकनाथ जी के गुरू गुलाबनाथ जी का है। ये बड़े ही सरल स्वर ज्ञानी, बहुश्रुत और व्यवहार कुशल महात्मा थे। इस स्थान को विशेष रूप से पूजवाने का श्रेय इन्हीं को है। इन्हीं के समय में लाखों की लागत से नवीन मंदिर का निर्माण हुआ।

 

मंदिर और आसपास सुंदर दृश्य
मंदिर और आसपास सुंदर दृश्य




यहां श्री सकराय माता जी के मंदिर के अलावा शक्रगंगा के वामकूल पर जय शंकर का मंदिर है जो बहुत प्राचीन है। इसमें स्थित प्रतिमा गुप्त कालीन है। यही एक मदन मोहन जी का मंदिर है। जो लगभग 500 वर्ष पुराना है। यह और जय शंकर का मंदिर लगभग एक ही ढंग के बने है। यहां माता जी के स्थान के अतिरिक्त लगभग डेढ़ किलोमीटर पर खो कुंड नामक स्थान है। जहाँ ठंडे पानी का कुंड है। और आसपास में चारों ओर आमों की घनी छाया तथा लाल कनेरो की बहार है। ऐसी किंवदंती है कि यहाँ रावण ने भगवान शिव की तपस्या की थी और इसी नाम पर यहां रावणकेश्वर महादेव का मंदिर है। कहते है कि पहले यहां 84 मंदिर थे, पर अब केवल तीन शेष है। यही से थोड़ी दूर पर नाग कुंड है। जहाँ पर विशेष रूप से नाग प्रतिमाएं दर्शनीय है। इन स्थानों के अतिरिक्त थोडी थोड़ी दूर पर टपकेश्वर और वराही माता नामक स्थान है। जहाँ पर अच्छे रमणीय दृश्य है। इस तरह यह स्थान एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थान होने के नाते धर्म केंद्र तो है ही साथ ही प्रकृति प्रेमियों का भी महत्वपूर्ण पर्यटन केंद्र है।

 

राजस्थान पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

 

पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी
प्रिय पाठको जैसा कि आप सब जानते है। कि हम भारत के राज्य राजस्थान कीं सैंर पर है । और
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार
जैसलमेर के दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
जैसलमेर भारत के राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत और ऐतिहासिक नगर है। जैसलमेर के दर्शनीय स्थल पर्यटको में काफी प्रसिद्ध
अजमेर का इतिहास
अजमेर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्राचीन शहर है। अजमेर का इतिहास और उसके हर तारिखी दौर में इस
अलवर के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
अलवर राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत शहर है। जितना खुबसूरत यह शहर है उतने ही दिलचस्प अलवर के पर्यटन स्थल
उदयपुर दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
उदयपुर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख शहर है। उदयपुर की गिनती भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलो में भी
नाथद्वारा दर्शन धाम के सुंदर दृश्य
वैष्णव धर्म के वल्लभ सम्प्रदाय के प्रमुख तीर्थ स्थानों, मैं नाथद्वारा धाम का स्थान सर्वोपरि माना जाता है। नाथद्वारा दर्शन
कोटा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
चंबल नदी के तट पर स्थित, कोटा राजस्थान, भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। रेगिस्तान, महलों और उद्यानों के
कुम्भलगढ़ का इतिहास
राजा राणा कुम्भा के शासन के तहत, मेवाड का राज्य रणथंभौर से ग्वालियर तक फैला था। इस विशाल साम्राज्य में
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख जिला है। राजस्थान को महलों और भवनो की धरती भी कहा जाता
पुष्कर तीर्थ के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर जिले मे स्थित पुष्कर एक प्रसिद्ध नगर है। यह नगर यहाँ स्थित प्रसिद्ध पुष्कर
करणी माता मंदिर देशनोक के सुंदर दृश्य
बीकानेर जंक्शन रेलवे स्टेशन से 30 किमी की दूरी पर, करणी माता मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले के देशनोक शहर
बीकानेर के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोधपुर से 245 किमी, अजमेर से 262 किमी, जैसलमेर से 32 9 किमी, जयपुर से 333 किमी, दिल्ली से 435
जयपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भारत की राजधानी दिल्ली से 268 किमी की दूरी पर स्थित जयपुर, जिसे गुलाबी शहर (पिंक सिटी) भी कहा जाता
सीकर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सीकर सबसे बड़ा थिकाना राजपूत राज्य है, जिसे शेखावत राजपूतों द्वारा शासित किया गया था, जो शेखावती में से थे।
भरतपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भरतपुर राजस्थान की यात्रा वहां के ऐतिहासिक, धार्मिक, पर्यटन और मनोरंजन से भरपूर है। पुराने समय से ही भरतपुर का
बाड़मेर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
28,387 वर्ग किमी के क्षेत्र के साथ बाड़मेर राजस्थान के बड़ा और प्रसिद्ध जिलों में से एक है। राज्य के
दौसा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
दौसा राजस्थान राज्य का एक छोटा प्राचीन शहर और जिला है, दौसा का नाम संस्कृत शब्द धौ-सा लिया गया है,
धौलपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
धौलपुर भारतीय राज्य राजस्थान के पूर्वी क्षेत्र में स्थित है और यह लाल रंग के सैंडस्टोन (धौलपुरी पत्थर) के लिए
भीलवाड़ा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भीलवाड़ा भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख ऐतिहासिक शहर और जिला है। राजस्थान राज्य का क्षेत्र पुराने समय से
पाली के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
पाली राजस्थान राज्य का एक जिला और महत्वपूर्ण शहर है। यह गुमनाम रूप से औद्योगिक शहर के रूप में भी
जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोलोर जोधपुर से 140 किलोमीटर और अहमदाबाद से 340 किलोमीटर स्वर्णगिरी पर्वत की तलहटी पर स्थित, राजस्थान राज्य का एक
टोंक राजस्थान के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
टोंक राजस्थान की राजधानी जयपुर से 96 किमी की दूरी पर स्थित एक शांत शहर है। और राजस्थान राज्य का
राजसमंद पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
राजसमंद राजस्थान राज्य का एक शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। राजसमंद शहर और जिले का नाम राजसमंद झील, 17
सिरोही के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सिरोही जिला राजस्थान के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है। यह उत्तर-पूर्व में जिला पाली, पूर्व में जिला उदयपुर, पश्चिम में
करौली जिले के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
करौली राजस्थान राज्य का छोटा शहर और जिला है, जिसने हाल ही में पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है, अच्छी
सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सवाई माधोपुर राजस्थान का एक छोटा शहर व जिला है, जो विभिन्न स्थलाकृति, महलों, किलों और मंदिरों के लिए जाना
नागौर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के जोधपुर और बीकानेर के दो प्रसिद्ध शहरों के बीच स्थित, नागौर एक आकर्षक स्थान है, जो अपने
बूंदी आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
बूंदी कोटा से लगभग 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शानदार शहर और राजस्थान का एक प्रमुख जिला है।
बारां जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
कोटा के खूबसूरत क्षेत्र से अलग बारां राजस्थान के हाडोती प्रांत में और स्थित है। बारां सुरम्य जंगली पहाड़ियों और
झालावाड़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
झालावाड़ राजस्थान राज्य का एक प्रसिद्ध शहर और जिला है, जिसे कभी बृजनगर कहा जाता था, झालावाड़ को जीवंत वनस्पतियों
हनुमानगढ़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
हनुमानगढ़, दिल्ली से लगभग 400 किमी दूर स्थित है। हनुमानगढ़ एक ऐसा शहर है जो अपने मंदिरों और ऐतिहासिक महत्व
चूरू जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
चूरू थार रेगिस्तान के पास स्थित है, चूरू राजस्थान में एक अर्ध शुष्क जलवायु वाला जिला है। जिले को। द
गोगामेड़ी धाम के सुंदर दृश्य
गोगामेड़ी राजस्थान के लोक देवता गोगाजी चौहान की मान्यता राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, मध्यप्रदेश, गुजरात और दिल्ली जैसे राज्यों
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
शील की डूंगरी के सुंदर दृश्य
शीतला माता यह नाम किसी से छिपा नहीं है। आपने भी शीतला माता के मंदिर भिन्न भिन्न शहरों, कस्बों, गावों
सीताबाड़ी के सुंदर दृश्य
सीताबाड़ी, किसी ने सही कहा है कि भारत की धरती के कण कण में देव बसते है ऐसा ही एक
गलियाकोट दरगाह के सुंदर दृश्य
गलियाकोट दरगाह राजस्थान के डूंगरपुर जिले में सागबाडा तहसील का एक छोटा सा कस्बा है। जो माही नदी के किनारे
श्री महावीरजी धाम राजस्थान के सुंदर दृश्य
यूं तो देश के विभिन्न हिस्सों में जैन धर्मावलंबियों के अनगिनत तीर्थ स्थल है। लेकिन आधुनिक युग के अनुकूल जो
कोलायत धाम के सुंदर दृश्य
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम उस पवित्र धरती की चर्चा करेगें जिसका महाऋषि कपिलमुनि जी ने न केवल
मुकाम मंदिर राजस्थान के सुंदर दृश्य
मुकाम मंदिर या मुक्ति धाम मुकाम विश्नोई सम्प्रदाय का एक प्रमुख और पवित्र तीर्थ स्थान माना जाता है। इसका कारण
कैला देवी मंदिर फोटो
माँ कैला देवी धाम करौली राजस्थान हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहा कैला देवी मंदिर के प्रति श्रृद्धालुओं की
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के दक्षिण भाग में उदयपुर से लगभग 64 किलोमीटर दूर उपत्यकाओं से घिरा हुआ तथा कोयल नामक छोटी सी
एकलिंगजी टेम्पल के सुंदर दृश्य
राजस्थान के शिव मंदिरों में एकलिंगजी टेम्पल एक महत्वपूर्ण एवं दर्शनीय मंदिर है। एकलिंगजी टेम्पल उदयपुर से लगभग 21 किलोमीटर
हर्षनाथ मंदिर के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के सीकर से दक्षिण पूर्व की ओर लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर हर्ष नामक एक
रामदेवरा धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान की पश्चिमी धरा का पावन धाम रूणिचा धाम अथवा रामदेवरा मंदिर राजस्थान का एक प्रसिद्ध लोक तीर्थ है। यह
नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य
नाकोड़ा जी तीर्थ जोधपुर से बाड़मेर जाने वाले रेल मार्ग के बलोतरा जंक्शन से कोई 10 किलोमीटर पश्चिम में लगभग
केशवरायपाटन मंदिर के सुंदर दृश्य
केशवरायपाटन अनादि निधन सनातन जैन धर्म के 20 वें तीर्थंकर भगवान मुनीसुव्रत नाथ जी के प्रसिद्ध जैन मंदिर तीर्थ क्षेत्र
गौतमेश्वर महादेव धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के दक्षिणी भूखंड में आरावली पर्वतमालाओं के बीच प्रतापगढ़ जिले की अरनोद तहसील से 2.5 किलोमीटर की दूरी
रानी सती मंदिर झुंझुनूं के सुंदर दृश्य
सती तीर्थो में राजस्थान का झुंझुनूं कस्बा सर्वाधिक विख्यात है। यहां स्थित रानी सती मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां सती
ओसियां के दर्शनीय स्थल
राजस्थान के पश्चिमी सीमावर्ती जिले जोधपुर में एक प्राचीन नगर है ओसियां। जोधपुर से ओसियां की दूरी लगभग 60 किलोमीटर है।
डिग्गी कल्याण जी मंदिर के सुंदर दृश्य
डिग्गी धाम राजस्थान की राजधानी जयपुर से लगभग 75 किलोमीटर की दूरी पर टोंक जिले के मालपुरा नामक स्थान के करीब
रणकपुर जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
सभी लोक तीर्थों की अपनी धर्मगाथा होती है। लेकिन साहिस्यिक कर्मगाथा के रूप में रणकपुर सबसे अलग और अद्वितीय है।
लोद्रवा जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
भारतीय मरूस्थल भूमि में स्थित राजस्थान का प्रमुख जिले जैसलमेर की प्राचीन राजधानी लोद्रवा अपनी कला, संस्कृति और जैन मंदिर
गलताजी टेम्पल जयपुर के सुंदर दृश्य
नगर के कोलाहल से दूर पहाडियों के आंचल में स्थित प्रकृति के आकर्षक परिवेश से सुसज्जित राजस्थान के जयपुर नगर के

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.