Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
शील की डूंगरी चाकसू राजस्थान – शीतला माता की कथा

शील की डूंगरी चाकसू राजस्थान – शीतला माता की कथा

शीतला माता यह नाम किसी से छिपा नहीं है। आपने भी शीतला माता के मंदिर भिन्न भिन्न शहरों, कस्बों, गावों या अपने आसपास जरूर देखें होगें। वैसे तो शीतला माता के मंदिर भारत के अनेक राज्यों में परंतु हिन्दी भाषी राज्यों जैसे मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, हरियाणा खासकर राजस्थान मे अधिकतर है। राजस्थान मे तो शीतला माता को लोक देवी के रूप माना जाता है तथा उनके स्थानों को लोक तीर्थ की दृष्टि से देखा जाता है। शीतला माता कौन थी? शीतला माता को पौराणिक देव अवतार माना जाता है। शील की डूंगरी चाकसू राजस्थान मे माता का प्राचीन स्थान व मंदिर है। यहां हर वर्ष चैत्र के माह में भव्य मेला भी लगता है। अपने इस लेख में हम शील की डूंगरी, शीतला माता मंदिर चाकसू, शीतला माता की कथा, शीतला माता की कहानी आदि के बारें में विस्तार से जानेंगे।

शीतला माता की कथा – शीतला माता की पौराणिक कहानी

चैत्र मास का महिना था। एक दिन शीतला माता ने सोचा इस बात को देखना चाहिए कि पृथ्वी पर लोग मेरा कितना मान रखते है। यही परखने के लिए शीतला माता एक वृद्ध महिला का वेश धारण कर शहर की एक गली से जा रही थी कि किसी ने चावल का गरम गरम पानी (मांड) गली मे डाला यह जलता हुआ पानी शील माता के ऊपर गिरा और शीलमाता के हाथ पांव और शरीर पर फफोले हो गये। सारे शरीर मे जलन होने लगी। शीलमाता पूरे शहर में घूम गई लेकिन उन्हे कही ठंड़क नही मिल सकी। पूरे शहर में से घूमती हुई शीतला माता जब शहर के बाहर पहुंची तो वहां एक कुम्हार की झोपड़ी देखी। झोपड़ी पर पहुंच कर माता ने कहा मै गर्मी से जल रही हूँ, मुझे कोई चीज जो। कुम्हार ने उनको आदर सहित बिठाया और ठंडी छाछ, रावडी मे मिलाकर शीतला माता के सामने रखी। शीतला माता ठंडी छाछ और रावडी खाकर बहुत प्रसन्न हुई और उनको शांति मिली।

शील माता डूंगरी के सुंदर दृश्य
शील की डूंगरी के सुंदर दृश्य

शीतला माता ने फिर कुम्हारी से कहा बेटा मेरे सिर में जुएँ देख दे। कुम्हारी ने जुएँ देखना शुरु किया ज्योही कुम्हारी की नजर पीछे की तरफ गई, कुम्हारी ने उनके सर के दोनों तरफ आंखें देखी तो डर गई। शीतला माता ने कुम्हारी को बतलाया तू डर मत मै शील और वोदरी माता हूँ। शहर में घूमते हुए जल गई थी, तुमने मुझे ठंडी छाछ, रावडी खिलाकर शांति दी है। मै इससे बहुत प्रसन्न हुई हूँ। आज मै तुम्हें एक बात बता देती हूँ। कल सवेरे शहर में आग लग जायेगी। तू एक कोरे करवे में स्वच्छ जल लेकर और मेरा नाम लेकर अपनी झोपड़ी के चारो ओर एक धार निकाल देना इससे तेरी झोपड़ी बच जायेगी। इतना कहकर शीतला माता चली गई।


दूसरे दिन सवेरा होते ही पूरे शहर में आग लग गई। राजा ने अपने आदमियों को भेजा कि देखो कोई मकान बचा है क्या? शहर का चक्कर लगाकर लौटे एक सिपाही ने बतलाया। हजूर गांव के बाहर केवल एक कुम्हारी की झोपड़ी बची है। राजा ने कुम्हारी को बुलाकर रहस्य पूछा। कुम्हारी ने राजा को पूरी घटना बतला दी। पूरी घटना सुनने के बाद राजा ने उसी दिन ढ़िढ़ौरा पिटवाया कि चैत्र के महीने में छठ के दिन भोजन बनाकर सप्तमी को शील और वोदरी माता की पूजा करके ठंडा भोजन खावे। शीतला माता की पूजा छाछ, रावडी, पूआ, पुडी, नारियल आदि से करें। और यह पूजा कुम्हारी ही करेगी। और पूजा की सामग्री और चढ़ावा कुम्हारी ही लेगी।

एक अन्य पौराणिक कथा या पौराणिक मान्यता के अनुसार माता शीतला जी की उत्पत्ति भगवान ब्रह्मा जी से ही हुई थी।  ब्रह्मा जी ने माता शीतला को धरती पर पूजे जाने के लिए भेजा था। देवलोक से धरती पर मां शीतला अपने साथ भगवान शिव के पसीने से बने ज्वरासुर को अपना साथी मानकर लाईं। तब उनके पास दाल के दाने भी थे। उस समय के राजा विराट ने माता शीतला को अपने राज्य में रहने के लिए कोई स्थान नहीं दिया तो माता शीतला क्रोधित हो गईं। 


उसी क्रोध की ज्वाला से राजा की प्रजा के शरीर पर लाल-लाल दाने निकल आए और लोग उस गर्मी से संतप्त हो गए। राजा को अपनी गलती का एहसास होने पर उन्होंने माता शीतला से माफी मांगकर उन्हें उचित स्थान दिया। लोगों ने माता शीतला के क्रोध को शांत करने के लिए ठंडा दूध एवं कच्ची लस्सी उन पर चढ़ाई और माता शांत हुईं। तब से हर साल शीतला अष्टमी पर लोग मां का आशीर्वाद पाने के लिए ठंडे बासी भोजन का प्रसाद मां को चढ़ाने लगे और व्रत करने लगे।

शीतला माता का महत्व, शील की डूंगरी का महत्व

आज भी चैत्र माह के अंधेरे पखवाड़े में शील सप्तम को राजस्थान के हर क्षेत्र में शीतला माता का मेला लगता है। लोग पहले दिन का बना हुआ भोजन सप्तमी को शीतला माता के मंदिर में चढ़ाते है एवं पूजा करते है और फिर भोजन करते है। गीत गाती महिलाएं शीतला माता के मंदिर में जाती है। पूआ, पापड़ी, छाछ, रावडी, गुलगुला, नारियल आदि चढाती है। उस दिन यहां बड़ा मेला भी लगता है। यह दिन यदि शनिवार, रविवार या मंगलवार को पड़ता है तो छटे दिन ही बसेडा (ठंडा) खाया जाता है। राजस्थान में अविवाहित लड़कियां खेजड़ी के नीचे रखे लाल पत्थर पर नियमित पानी डालती है। वह वर्षभर पानी इसलिए डालती है कि माता शांत रहें। विवाह के समय भी शीतला की पूजा होती है। विवाह हो जाने के बाद दूल्हा दुल्हन जात देने के लिए शीतला माता के मंदिर जाकर पूजा करते है। लाल कपडें में गुड, गुलगुले व पैसे रखकर चढ़ाते है।



शीतला माता के मंदिर की पूजा आज भी कुम्हार जाति के ही लोग करते है। राजस्थान एवं आसपास के अनेक राज्यों में शीतला माता मातृलक्षिका देवी के रूप में पूजी जाती है। शीतला माता को देश के भिन्न भिन्न भागों में अलग अलग नामों के साथ पूजा जाता है। जहां वह उत्तर प्रदेश में माता या महामाई के नाम से जानी जाती है। वही पश्चिमी भारत में माई अनामा और राजस्थान में सेढ़, शीतला तथा सेढ़ल माता के रूप में विख्यात है। शीतला माता को एक पौराणिक देव माना गया है।हर हिन्दू चाहे वह किसी भी धर्म जाति का हो उसकी यह मान्यता है कि माता माई एक दिन उसके घर अवश्य आती है। वह यही मनौती करता है कि माता माई बिना कोई नुकसान पहुंचाएं शांति से लौट जाएं। शीतला माता को मुस्लमान जाति के लोग भी मानते है।

भारत में चेचक एक भयंकर रोग माना जाता है। इस रोग को माता, शीतला माता, सेढ़ल, महामाया, माई ऊलामा आदि नामों से भी अलग अलग प्रान्तों में पुकारा जाता है। लोगों की ऐसी मान्यता है कि चेचक का प्रकोप माता की रूष्ठता के कारण ही होता है। शील को बच्चों की संरक्षिका माना जाता है और इसी रूप में इसे पूजा जाता है। शीतला का अर्थ ठंड से है। ऐसी भी मान्यता है कि अधिक तेज बुखार के बाद शीतला के आने पर ठंडक हो जाती है। इसलिए इसे माता कहते है। उदाहरण के तौर पर आपने सुना होगा कुछ लोग कहते है कि बच्चे के माता निकल आई। या उस व्यक्ति के माता निकल रही है आदि। ऐसे मे चेचक के मरीज को कपडों में लपेटे अंधेरे कमरें में रखते है। माता शांति चाहती है। अतः किसी को जोर से बोलने तक नहीं दिया जाता। तथा घर में घी तेल का तड़का नहीं लगाया जाता। घर वालों को नहाने तथा नये कपड़े पहनने नहीं दिये जाते। इसको छूत की बिमारी मानते है। अतः कई तो इस बिमारी के मरीज का हाल पूछने भी नहीं जाते। कोई दवाई नहीं दी जाती केवल नीम की पत्तियों की वंदनवार घर के दरवाजें पर लगाई जाती है। गधा माता की सवारी माना जाता है। अतः घर में माता का प्रकोप होने पर गधे को रोज कुछ न कुछ खाने को दिया जाता है। टोने टोटके आदि किए जाते है। एक घड़े मे कुछ खाने की सामग्री रखकर मरीज के चारों ओर सात वार घुमाकर पास के चौराहे पर रख दिया जाता है। कुछ लोग ऐसा भी मानते है कि मरीज का कोई रिश्तेदार रात को कुएँ पर जाकर पानी की घूंट मुंह में भरकर अचानक मरीज पर फैंक देता है तो उसके बाद मरीज जल्दी ठीक हो जाता है। ऐसी भी मान्यता है। चेचक के मरीज की मृत्यु के बाद उसे जलाया नहीं जाता बल्कि दफनाया जाता है। चेचक में मरीज बदसूरत हो जाता है। कभी कभी तो आंखें तक चली जाती है। फिर भी माता की ही मरजी मानी जाती है। और कोई इलाज नहीं किया जाता। हालांकि यह मान्यताएं धीरे धीरे कम होती जा रही है। लोग कुरितियां समझकर इनका त्याग करते जा रहे है।

शील की डूंगरी के सुंदर दृश्य
शीलमाता डूंगरी के सुंदर दृश्य

शील की डूंगरी का मेला – शीतला माता चाकसू का मेला

शीतला माता की स्मृति में हर वर्ष भव्य मेला लगता है। यह मेला चैत्र की अंधेरे पक्ष में सप्तमी को राजस्थान के हर क्षेत्र में लगता है। मुख्य और प्रसिद्ध मेला शील की डूंगरी पर लगता है। शील की डूंगरी शीतला माता का प्राचीन स्थल माना जाता है। शील की डूंगरी कहा है? जयपुर जिले में जयपुर-कोटा मुख्य मार्ग पर जयपुर से लगभग 70 किमी दूर चाकसू स्टेशन है। चाकसू से करीब 5 किमी दूरी तय कर तालाब के किनारे शील की डूंगरी स्थित है। यहां एक टीले के ऊपर माता शीतला का मंदिर है। इस मंदिर पर ही भव्य मेला लगता है। चाकसू रेलवे स्टेशन भी है। मेले के समय जयपुर, टौंक, कोटा आदि स्थानों से दिन भर बसे चलती रहती है। बिना मेले के भी इस मार्ग पर नियमित बसे आती जाती रहती है।

शीतला माता के मंदिर का निर्माण जयपुर के भूतपूर्व महाराजा श्री माधोसिंह ने करवाया था। मेले में राज्य के हर हिस्से से लोग माता के दर्शन करने आते है। बैलगाड़ियों, पैदल तथा अन्य साधनों से लाखो लोग इस मेले में पहुंचते है। रंगबिरंगी वेषभूषा पहने लोग रात भर जागरण करते है। तथा नाच गाकर शीतला माता के भजन गाते है। शीतला सप्तमी के दिन लगभग एक लाख से अधिक यात्री माता के दर्शन करते है। मीणा और गूजर जाति के लोग यहां आकर अपनी पंचायत लगाते है। और आपसी झगडे तय करते है।


परम्परा के अनुसार शील की डूंगरी का पुजारी भी कुम्हार होता है। कुम्हार जाति के लोग हर पन्द्रह दिन बाद बारी बारी से माता की दिन में दो बार आरती उतारते है। और अपने हिस्से का पुजापा लेते है। मेले के दिन जो भी रूपया पैसा अथवा पुजापा एकत्रित होता है। उसे सभी बराबर बांट लेते है। पंचायत समितियों की स्थापना के बाद अब चाकसू पंचायत समिति इस मेले में पानी, बिजली, सफाई आदि की व्यवस्था करती है। वहां इस दिन पशुओं का मेला भी आयोजित होता है। खेल कूद होते है तथा कृषि पशुपालन, सहकारिता एवं जन स्वास्थ्य विभागो की ओर से प्रदर्शनी भी लगायी जाती है। रात्रि को फिल्म प्रदर्शन आदि भी आयोजित किये जाते है। दिन भर खेल कूद व झूले झूलने के बाद संध्या को लोग नाचते गाते माता की मनौती मनाते हुए अपने अपने गंतव्यों को लौटते है।


प्रिय पाठकों आपको हमारा यह लेख कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं। यह जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है

प्रिय पाठकों यदि आपके आसपास कोई ऐसा धार्मिक, ऐतिहासिक या पर्यटन महत्व का स्थान है जिसके बारे मे आप पर्यटकों को बताना चाहते है तो आप अपना लेख कम से कम 300 शब्दों मे हमारे submit a post संस्करण में जाकर लिख सकते है। हम आपके द्वारा लिखे गए लेख को आपकी पहचान के साथ अपने इस प्लेटफार्म पर शामिल करेगें

राजस्थान पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़े:—

पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी
प्रिय पाठको जैसा कि आप सब जानते है। कि हम भारत के राज्य राजस्थान कीं सैंर पर है । और
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार
जैसलमेर के दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
जैसलमेर भारत के राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत और ऐतिहासिक नगर है। जैसलमेर के दर्शनीय स्थल पर्यटको में काफी प्रसिद्ध
अजमेर का इतिहास
अजमेर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्राचीन शहर है। अजमेर का इतिहास और उसके हर तारिखी दौर में इस
अलवर के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
अलवर राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत शहर है। जितना खुबसूरत यह शहर है उतने ही दिलचस्प अलवर के पर्यटन स्थल
उदयपुर दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
उदयपुर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख शहर है। उदयपुर की गिनती भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलो में भी
नाथद्वारा दर्शन धाम के सुंदर दृश्य
वैष्णव धर्म के वल्लभ सम्प्रदाय के प्रमुख तीर्थ स्थानों, मैं नाथद्वारा धाम का स्थान सर्वोपरि माना जाता है। नाथद्वारा दर्शन
कोटा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
चंबल नदी के तट पर स्थित, कोटा राजस्थान, भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। रेगिस्तान, महलों और उद्यानों के
कुम्भलगढ़ का इतिहास
राजा राणा कुम्भा के शासन के तहत, मेवाड का राज्य रणथंभौर से ग्वालियर तक फैला था। इस विशाल साम्राज्य में
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख जिला है। राजस्थान को महलों और भवनो की धरती भी कहा जाता
पुष्कर तीर्थ के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर जिले मे स्थित पुष्कर एक प्रसिद्ध नगर है। यह नगर यहाँ स्थित प्रसिद्ध पुष्कर
करणी माता मंदिर देशनोक के सुंदर दृश्य
बीकानेर जंक्शन रेलवे स्टेशन से 30 किमी की दूरी पर, करणी माता मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले के देशनोक शहर
बीकानेर के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोधपुर से 245 किमी, अजमेर से 262 किमी, जैसलमेर से 32 9 किमी, जयपुर से 333 किमी, दिल्ली से 435
जयपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भारत की राजधानी दिल्ली से 268 किमी की दूरी पर स्थित जयपुर, जिसे गुलाबी शहर (पिंक सिटी) भी कहा जाता
सीकर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सीकर सबसे बड़ा थिकाना राजपूत राज्य है, जिसे शेखावत राजपूतों द्वारा शासित किया गया था, जो शेखावती में से थे।
भरतपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भरतपुर राजस्थान की यात्रा वहां के ऐतिहासिक, धार्मिक, पर्यटन और मनोरंजन से भरपूर है। पुराने समय से ही भरतपुर का
बाड़मेर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
28,387 वर्ग किमी के क्षेत्र के साथ बाड़मेर राजस्थान के बड़ा और प्रसिद्ध जिलों में से एक है। राज्य के
दौसा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
दौसा राजस्थान राज्य का एक छोटा प्राचीन शहर और जिला है, दौसा का नाम संस्कृत शब्द धौ-सा लिया गया है,
धौलपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
धौलपुर भारतीय राज्य राजस्थान के पूर्वी क्षेत्र में स्थित है और यह लाल रंग के सैंडस्टोन (धौलपुरी पत्थर) के लिए
भीलवाड़ा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भीलवाड़ा भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख ऐतिहासिक शहर और जिला है। राजस्थान राज्य का क्षेत्र पुराने समय से
पाली के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
पाली राजस्थान राज्य का एक जिला और महत्वपूर्ण शहर है। यह गुमनाम रूप से औद्योगिक शहर के रूप में भी
जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोलोर जोधपुर से 140 किलोमीटर और अहमदाबाद से 340 किलोमीटर स्वर्णगिरी पर्वत की तलहटी पर स्थित, राजस्थान राज्य का एक
टोंक राजस्थान के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
टोंक राजस्थान की राजधानी जयपुर से 96 किमी की दूरी पर स्थित एक शांत शहर है। और राजस्थान राज्य का
राजसमंद पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
राजसमंद राजस्थान राज्य का एक शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। राजसमंद शहर और जिले का नाम राजसमंद झील, 17
सिरोही के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सिरोही जिला राजस्थान के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है। यह उत्तर-पूर्व में जिला पाली, पूर्व में जिला उदयपुर, पश्चिम में
करौली जिले के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
करौली राजस्थान राज्य का छोटा शहर और जिला है, जिसने हाल ही में पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है, अच्छी
सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सवाई माधोपुर राजस्थान का एक छोटा शहर व जिला है, जो विभिन्न स्थलाकृति, महलों, किलों और मंदिरों के लिए जाना
नागौर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के जोधपुर और बीकानेर के दो प्रसिद्ध शहरों के बीच स्थित, नागौर एक आकर्षक स्थान है, जो अपने
बूंदी आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
बूंदी कोटा से लगभग 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शानदार शहर और राजस्थान का एक प्रमुख जिला है।
बारां जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
कोटा के खूबसूरत क्षेत्र से अलग बारां राजस्थान के हाडोती प्रांत में और स्थित है। बारां सुरम्य जंगली पहाड़ियों और
झालावाड़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
झालावाड़ राजस्थान राज्य का एक प्रसिद्ध शहर और जिला है, जिसे कभी बृजनगर कहा जाता था, झालावाड़ को जीवंत वनस्पतियों
हनुमानगढ़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
हनुमानगढ़, दिल्ली से लगभग 400 किमी दूर स्थित है। हनुमानगढ़ एक ऐसा शहर है जो अपने मंदिरों और ऐतिहासिक महत्व
चूरू जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
चूरू थार रेगिस्तान के पास स्थित है, चूरू राजस्थान में एक अर्ध शुष्क जलवायु वाला जिला है। जिले को। द
गोगामेड़ी धाम के सुंदर दृश्य
गोगामेड़ी राजस्थान के लोक देवता गोगाजी चौहान की मान्यता राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, मध्यप्रदेश, गुजरात और दिल्ली जैसे राज्यों
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
सीताबाड़ी के सुंदर दृश्य
सीताबाड़ी, किसी ने सही कहा है कि भारत की धरती के कण कण में देव बसते है ऐसा ही एक
गलियाकोट दरगाह के सुंदर दृश्य
गलियाकोट दरगाह राजस्थान के डूंगरपुर जिले में सागबाडा तहसील का एक छोटा सा कस्बा है। जो माही नदी के किनारे
श्री महावीरजी धाम राजस्थान के सुंदर दृश्य
यूं तो देश के विभिन्न हिस्सों में जैन धर्मावलंबियों के अनगिनत तीर्थ स्थल है। लेकिन आधुनिक युग के अनुकूल जो
कोलायत धाम के सुंदर दृश्य
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम उस पवित्र धरती की चर्चा करेगें जिसका महाऋषि कपिलमुनि जी ने न केवल
मुकाम मंदिर राजस्थान के सुंदर दृश्य
मुकाम मंदिर या मुक्ति धाम मुकाम विश्नोई सम्प्रदाय का एक प्रमुख और पवित्र तीर्थ स्थान माना जाता है। इसका कारण
कैला देवी मंदिर फोटो
माँ कैला देवी धाम करौली राजस्थान हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहा कैला देवी मंदिर के प्रति श्रृद्धालुओं की
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के दक्षिण भाग में उदयपुर से लगभग 64 किलोमीटर दूर उपत्यकाओं से घिरा हुआ तथा कोयल नामक छोटी सी
एकलिंगजी टेम्पल के सुंदर दृश्य
राजस्थान के शिव मंदिरों में एकलिंगजी टेम्पल एक महत्वपूर्ण एवं दर्शनीय मंदिर है। एकलिंगजी टेम्पल उदयपुर से लगभग 21 किलोमीटर
हर्षनाथ मंदिर के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के सीकर से दक्षिण पूर्व की ओर लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर हर्ष नामक एक
रामदेवरा धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान की पश्चिमी धरा का पावन धाम रूणिचा धाम अथवा रामदेवरा मंदिर राजस्थान का एक प्रसिद्ध लोक तीर्थ है। यह
नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य
नाकोड़ा जी तीर्थ जोधपुर से बाड़मेर जाने वाले रेल मार्ग के बलोतरा जंक्शन से कोई 10 किलोमीटर पश्चिम में लगभग
केशवरायपाटन मंदिर के सुंदर दृश्य
केशवरायपाटन अनादि निधन सनातन जैन धर्म के 20 वें तीर्थंकर भगवान मुनीसुव्रत नाथ जी के प्रसिद्ध जैन मंदिर तीर्थ क्षेत्र
गौतमेश्वर महादेव धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के दक्षिणी भूखंड में आरावली पर्वतमालाओं के बीच प्रतापगढ़ जिले की अरनोद तहसील से 2.5 किलोमीटर की दूरी
रानी सती मंदिर झुंझुनूं के सुंदर दृश्य
सती तीर्थो में राजस्थान का झुंझुनूं कस्बा सर्वाधिक विख्यात है। यहां स्थित रानी सती मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां सती
ओसियां के दर्शनीय स्थल
राजस्थान के पश्चिमी सीमावर्ती जिले जोधपुर में एक प्राचीन नगर है ओसियां। जोधपुर से ओसियां की दूरी लगभग 60 किलोमीटर है।
डिग्गी कल्याण जी मंदिर के सुंदर दृश्य
डिग्गी धाम राजस्थान की राजधानी जयपुर से लगभग 75 किलोमीटर की दूरी पर टोंक जिले के मालपुरा नामक स्थान के करीब
रणकपुर जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
सभी लोक तीर्थों की अपनी धर्मगाथा होती है। लेकिन साहिस्यिक कर्मगाथा के रूप में रणकपुर सबसे अलग और अद्वितीय है।
लोद्रवा जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
भारतीय मरूस्थल भूमि में स्थित राजस्थान का प्रमुख जिले जैसलमेर की प्राचीन राजधानी लोद्रवा अपनी कला, संस्कृति और जैन मंदिर
गलताजी टेम्पल जयपुर के सुंदर दृश्य
नगर के कोलाहल से दूर पहाडियों के आंचल में स्थित प्रकृति के आकर्षक परिवेश से सुसज्जित राजस्थान के जयपुर नगर के
सकराय माता मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के सीकर जिले में सीकर के पास सकराय माता जी का स्थान राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक

1 comment found

  1. Apne bhut achchi jankari share ki hai uske liye thanks, maine apne school time main bhut suna tha ki isko mata nikal aayi h main sochti thi mata konsi bimari hoti h, jo totkon se theek hoti h aaj apki blog padhkar sab kuch clear ho gya aakhir mata naam ki bimari ka kya karan h

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.