Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
शाहजहांपुर का इतिहास – शाहजहांपुर दर्शनीय, ऐतिहासिक, पर्यटन व धार्मिक स्थल

शाहजहांपुर का इतिहास – शाहजहांपुर दर्शनीय, ऐतिहासिक, पर्यटन व धार्मिक स्थल

भारत के राज्य उत्तर प्रदेश में स्थित, शाहजहांंपुर राम प्रसाद बिस्मिल, शहीद अशफाकउल्ला खान जैसे बहादुर स्वतंत्रता सेनानियों की जन्मस्थली है और दुनिया की तीसरी सबसे ऊंची हनुमान प्रतिमा का भी घर है। शाहजहाँ के नाम पर, इस शहर की स्थापना दो भाइयों बहादुर खान और दलेर खान ने की थी,  शाहजहाँ के शासनकाल में दोनों का बहुत सम्मान था। शहर में एक समृद्ध संस्कृति, विरासत और इतिहास है। शहर के आसपास के विभिन्न मंदिरों और मस्जिदों के अलावा, यह अपने पार्कों और मैदानों के साथ पॉश छावनी क्षेत्र के लिए भी जाना जाता है। यह शहर अपने कालीन और गहने उद्योग के लिए भी प्रसिद्ध है। सबसे पहले एक नजर शाहजहांपुर के इतिहास पर डाल लेते है।

 

 

 

शाहजहांपुर का इतिहास – शाहजहांपुर हिस्ट्री इन हिन्दी

 

 

Shahjahanpur history history in hindi, About Shahjahanpur history

 

जिला मुख्यालय और नगरपालिका बोर्ड शाहजहाँपुर एक ऐतिहासिक शहर है। महान मुगल सम्राट शाहजहाँ के नाम पर इस शहर का नाम शाहजहाँपुर रखा गया था। वास्तव में शाहजहांपुर की स्थापना, दलेर खान और बहादुर खान द्वारा की गई थी। दलेर खान और बहादुर खान दोनों दरिया खान के बेटे थे, जो मुगल सम्राट जहांगीर की सेना में एक वकील थे। मुगल सम्राट जहाँगीर को सम्राट शाहजहाँ ने उत्तराधिकारी बनाया था। सत्ता में आने के बाद दलेर खान और बहादुर खान ने बादशाह शाहजहाँ के अधीन काम किया। दोनों बेटों को शाहजहाँ के शासन में वफादार माना जाता था। दलेर खान की सेवाओं से सम्राट बहुत प्रभावित हुए और उन्हें 14 गाँव और एक किले के निर्माण की अनुमति दी गई।
बादशाह के आदेश के अनुसार दलेर खान ने गरारा और खन्नौत नदी के तट पर नैनार खेरा में एक किला बनाया। उन्होंने 14 गांवों में “पठान” जाति के 52 उप-प्रकारों का गठन किया। पठान या पश्तून अफगान शाहजहाँपुर में बसे हुए हैं। वर्तमान में, शाहजहाँपुर में बड़ी संख्या में “मुहल्ले” भी दलेर खान द्वारा गठित उप जातियों में शामिल हैं।

 

 

 

शाहजहाँपुर में स्वतंत्रता संग्राम (Freedom Struggle in Shahjahanpur)

 

शाहजहांपुर शहर का भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में बहुत मजबूत इतिहास है क्योंकि शाहजहांपुर ने कई शक्तिशाली भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों को दिया, जिन्होंने स्वतंत्रता के लिए अपना जीवन और आत्मा दी।
दो मज़ार हैं जो प्रत्येक कोने से शहर को जोड़ते हैं। 1857 के भारतीय विद्रोह के लिए अपने योगदान के लिए एक महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी शहीद अहमद उल्लाह शाह की स्मृति में एक मजार बनाई गई थी। शहीद अहमद उल्लाह शाह ने फैजाबाद में अंग्रेजी ईस्ट इंडियन कंपनी के खिलाफ क्रांति शुरू की और शाहजहांपुर की ओर बढ़ गए, जहां उनकी मृत्यु हो गई। । दूसरी मजार को शहीद अशफाकल्लाह खान की स्मृति में बनाया गया था। उन्होंने शहीद अहमद उल्लाह शाह के बाद लगभग 70 साल में अंग्रेजों के खिलाफ अपनी क्रांति शुरू की, लेकिन उन्हें फैजाबाद की जेल में फांसी दे दी गई।

 

 

 

1857 का भारतीय विद्रोह (Indian Rebellion of 1857)

 

 

शाहजहाँपुर के स्वतंत्रता सेनानियों ने 1857 के भारतीय विद्रोह में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। राष्ट्र के कई हिस्सों के कई स्वतंत्रता सेनानियों ने भारतीय विद्रोह की योजना बनाने के लिए शाहजहाँपुर में एक साथ मिलकर काम किया, जिनमें से उल्लेखनीय व्यक्तित्व क्रमशः फैजाबाद और बरेली से अहमद उल्लाह शाह और बदरूर खान थे। । अहमद उल्लाह शाह, बख्शी और नाज़िम अली के प्रयास अंग्रेजों के खिलाफ विफल रहे। बाद में रोशन सिंह, अशफाकउल्ला खान और राम प्रसाद बिस्मिल द्वारा भारतीय विद्रोह के सफल प्रयास किए गए।

 

 

 

 

मातृदेवी संघ सोसाइटी और रॉबरी (Matrivedi Sangh Society and Robbery)

 

 

पंडित मातृविद संघ का गठन राम प्रसाद बिस्मिल ने 1916 में मुखिया के नेतृत्व में किया था। गेंदा लाल दीक्षित समाज का मुख्य उद्देश्य स्वतंत्रता संग्राम के लिए धन एकत्र करना था। समाज धन इकट्ठा करने में असफल हो गया, इसलिए उसके सदस्यों ने डकैती की योजना बनाई। तब डकैती राम प्रसाद बिस्मिल द्वारा शुरू किए गए हिंदुस्तान रिपब्लिक मूवमेंट के लिए भी धन इकट्ठा करने का मुख्य स्रोत या तकनीक थी। धन की तलाश में चंद्र शेखर आज़ाद, राम प्रसाद बिस्मिल, राजेंद्र लाहिड़ी और अशफाकउल्ला खान की एक टीम ने अगस्त 1925 में काकोरी रेलवे स्टेशन के पास ब्रिटिश सरकार के धन को लूटने की योजना बनाई। यह दल धन लूटने में सफल रहा, लेकिन चार महीने के भीतर लगभग 40 लोग डकैती के सिलसिले में गिरफ्तार हो गए। 1927 में काकोरी ट्रेन डकैती मामले में राम प्रसाद बिस्मिल, अशफाकउल्ला खान, राजेंद्र लाहिड़ी और रोशन सिंह को ब्रिटिश सरकार ने फांसी पर लटका दिया था।

 

 

 

शाहजहांपुर आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
शाहजहांपुर आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य

 

 

 

 

शाहजहांपुर जिला आकर्षक स्थल, शाहजहाँँपुर पर्यटन स्थल, शाहजहाँपुर दर्शनीय स्थल, शाहजहांपुर में घूमने लायक जगह, शाहजहाँपुर टूरिस्ट प्लेस

 

 

Shahjahanpur tourism, Top places visit in Shahjahanpur, Shahjahanpur tourist attraction, Shahjahanpur tourist place

 

शाहजहाँपुर में घूमने के लिए एक सुंदर शहर है। जिला मुखयालय शाहजहांपुर में कई सुंदर पार्क, पूजनीय मंदिर है। वहीं शाहजहाँपुर जिले क्षेत्र में कई ऐतिहासिक महत्व, पर्यटन महत्व, और धार्मिक महत्व के अनेक घूमने लायक जगह है जिनके बारें में हम नीचे विस्तार से जानेंगे।

 

 

 

 

शहीद उद्यान (Shaheed park)

 

शाहजहाँपुर शहर का एक मात्र शहीद पार्क शहर के बीचों बीच स्थित एक सुंदर उद्यान है। हांलाकि यह और उद्यानों की तरह काफी बड़ा तो नहीं है। लेकिन पार्क में लगे सुंदर फूल पौधे, पतिमाएं, और हरा भरा वातावरण शहर के लोगों के साथ साथ पर्यटकों को भी आकर्षित करता है। यह शाम के समय एक अच्छा समय गुजारने के लिए एक उपयुक्त स्थल है। अंधेरा होते ही यह पार्क कृतिम प्रकाश से जगमगा उठता है।

 

 

 

बाबा विश्वनाथ मंदिर (Baba Vishwanath temple)

 

 

शहीद पार्क से कुछ ही दूरी पर स्थित बाबा विश्वनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक सुंदर है। मंदिर के बारें में बताया जाता है की यह काफी प्राचीन है। यह मंदिर हिंदू समुदाय के लिए विशेष आराधना का केंद्र बन चुका है। यहां भगवान शिव, माता पार्वती और श्री गणेश जी, शिवलिंग, नंदी के साथ मां दुर्गा, राधा-कृष्ण, श्रीराम दरबार, रामभक्त हनुमान, शनिदेव आदि की दिव्य प्रतिमाओं की प्राण प्रतिष्ठा हो चुकी है। नवरात्र में जहां इस मंदिर में मां भगवती की आराधना को भक्त उमड़ते हैं, वहीं श्रावण मास में भगवान भोलेनाथ के भक्त जलाभिषेक को उमड़ते रहते हैं। यह शहर का प्रमुख मंदिर बन चुका है।

 

 

 

 

हनुमत धाम (Hanumant dham)

 

 

हनुमत धाम भगवान हनुमान को समर्पित प्रख्यात हिंदू तीर्थस्थलों में से एक है। इस मंदिर में भगवान हनुमान की एक भगवा रंग की मूर्ति स्थापित है। यह छठी सबसे ऊंची भगवान हनुमान की मूर्ति के रूप में प्रसिद्ध है, जो लगभग 104 फीट है। यह बहुत लोकप्रिय हनुमान मंदिर उत्तर प्रदेश राज्य के शाहजहाँपुर में स्थित है। यह शानदार हनुमान मंदिर 10 साल पहले स्थापित किया गया था। यह हुसैन पुरा के बहुत करीब है और कनाट नदी के किनारे स्थित है। जैसा कि उल्लेख किया गया है, हनुमत धाम मंदिर में एक विशालकाय भगवान हनुमान की मूर्ति है जो भगवान राम और सीता उनके हृदय की बैठी हुई दृष्टि को चित्रित करती है। नारंगी रंग की- भगवान हनुमान की प्रतिमा बहुत ही आकर्षक है। बगल में बहती नदी के साथ भगवान हनुमान की मूर्ति बहुत ही सुंदर दिखती है। यह स्थान बस स्टैंड और शाहजहाँपुर के रेलवे स्टेशन से लगभग 4-5 किलोमीटर दूर है।

 

भगवान हनुमान के अनुयायी इस पवित्र स्पर्श मंदिर के अंदर कई त्योहार मनाते हैं। मुख्य त्योहार जिस पर टिप्पणी की जाती है वह है- हनुमान जयंती। हनुमान जयंती के दिन भगवान हनुमान जी का जन्म हुआ था। इस शुभ दिन पर, इस विशेष अवसर को मनाने के लिए बड़ी संख्या में लोग यहां उमड़ते हैं। भक्त भगवान को श्रद्धांजलि देने और अपने परिवार के सदस्यों के लिए आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए एकत्र होते हैं। हनुमान जयंती बहुत धूमधाम से मनाई जाती है और हर साल मंदिर के अंदर दिखाई जाती है। हिंदू लोग भगवान गणेश को प्रसन्न करने के लिए इस प्रतिष्ठित दिन पर कुछ अनुष्ठानों का पालन करते हैं और उनके दर्शन के लिए इस मंदिर में जाते हैं।

 

 

 

बहादुर खां का मकबरा (Bahadur kha ka maqabara)

 

 

शाहजहांपुर शहर की नीवं रखने वाले बहादुर खान को समर्पित यह मकबरा शहर में स्थित एक ऐतिहासिक स्मारक है। हालांकि आज यह दयनीय स्थिति में, परंतु इतिहास में रूची रखने वाले लोगों के लिए एक उपयुक्त स्थान है। नौ जुलाई 1649 को नवाब बहादुर खां की मृत्यु कंधार, अफगानिस्तान में हो गई। नवाब बहादुर खां की इच्छा अनुसार कंधार से शव लाकर शाहजहांपुर में दफनाया गया। नवाब बहादुर खां के छोटे बेटे अजीज खां ने 1713-14 में संगमरमरी मकबरे का निर्माण कराया। 1857 की क्रांति के बाद इस मकबरे को जलालाबाद के ठाकुर ज्ञान सिंह को दे दिया गया। देखभाल न होने के कारण संगमरमर उखड़ गया और धीरे-धीरे कर यह बेरौनक होने लगा।

 

 

 

 

 

उत्तर प्रदेश पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—

 

 

 

 

 

Leave a Reply