Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
विशु पर्व, केरल के प्रसिद्ध त्योहार की रोचक जानकारी हिन्दी में

विशु पर्व, केरल के प्रसिद्ध त्योहार की रोचक जानकारी हिन्दी में

भारत विभिन्न संस्कृति और विविधताओं का देश है। यहा के कण कण मे संस्कृति वास करती है। यहा आप हर कुछ दूरी पर नयी संस्कृति और रितिवाज को देख सकते है। यहां हर राज्य की अपनी अलग संस्कृति और भाषा है। और अलग ही रीतिरिवाज है। संस्कृति और भाषाओं के हिसाब से यहां के हर समुदाय, भाषायी, त्यौहार और उत्सव भी अलग अलग है। हालांकि की कुछ राष्ट्रीय त्यौहार भी है। ईसी तरह  विशु दक्षिण भारत का प्रसिद्ध त्यौहार है तथा केरल राज्य के मुख्य त्यौहार में इसकी गिनती प्रमुखता से होती है। आज के अपने इस लेख मे हम केरल के इस प्रसिद्ध विशु पर्व के बारे मे विस्तार से जानेंगे, कि विशु पर्व क्या है। विशु पर्व क्यों मनाया जाता है। विशु पर्व कहा मनाया जाता है। विशु पर्व का उत्सव कैसे मनाते हैं। विशु पर्व का अर्थ क्या है। विशु पर्व के पिछे की क्या कहानी है आदि के बारे मे विस्तार पूर्वक जानेगें। आइए सबसे पहले जानते है विशु फेस्टिवल क्या है?

 

 

 

विशु पर्व क्या है

 

 

विशु पर्व मलयाली लोगो का त्यौहार है। और यह दक्षिण भारत के राज्यों का एक प्रमुख त्यौहार है। खासकर यह केरल मे अधिक उत्साह और रूची के साथ मनाया जाता है। मलयाली लोग विशु पर्व को बडे उत्साह और सम्मान के साथ में मनाते हैं। हालांकि एक तरह से देखा जाए तो, यह सिर्फ मलयाली लोगों का त्यौहार नहीं है। इस दिन विभिन्न नामों के साथ यह भारत के विभिन्न हिस्सों में भी मनाया जाता है। असम में लोग इसे बिहू के रूप में मनाते हैं, और पंजाब में इस दिन बैशाखी के नाम से जाना जाता है। इसी प्रकार यह तमिलनाडु में पुथेन्दु के नाम से और उड़ीसा में विष्णु संक्रांति के नाम से मनाया जाता है। प्रत्येक राज्य में रीति-रिवाज और अनुष्ठान अलग-अलग और अद्वितीय होते हैं। विशु उत्सव और उसी दिन पडने वाले अन्य सभी त्यौहारों का बहुत अधिक महत्व हैं, लोग इसे उत्साह के साथ मनाते हैं। विशु उत्सव क्या है? यह जानने के बाद आइए आगे जानते है कि विशु त्यौहार कब मनाया जाता है।

 

 

 

विशु पर्व के सुंदर दृश्य
विशु पर्व के सुंदर दृश्य

 

 

 

विशु पर्व कब मनाया जाता है

 

 

विशु पर्व सबसे लोकप्रिय दक्षिण भारतीय त्योहारों में से एक है और इसे व्यापक रूप से केरल और तमिलनाडु में मनाया जाता है। यह इन राज्यों के निवासियों के लिए पारंपरिक नया साल है। इस क्षेत्र में रहने वाले लोग मलयालम भाषा बोलते हैं, इसे मलयालम नव वर्ष भी कहा जाता है।
भारतीय ज्योतिषीय गणना के अनुसार, विशु उत्सव दिवस सूर्य चक्र के राशि चक्र राशि मेस राशि को दर्शाता है। खगोलीय रूप से, यह त्योहार वर्नल विषुव का प्रतिनिधित्व करता है। इसलिए, विशु दिवस को वर्णाल विषुव दिनों में से एक माना जाता है।

मलयालम वर्ष के पहले महीने मेंंदम के पहले दिन को विशु दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह विशु उत्सव की तारीख है जो आम तौर पर अप्रैल मई मे होती है। विशु को दक्षिण भारतीय वैशाखी, बिहू या पुथांडू भी कहते है, क्योंकि इसी तरह के उत्सव भारत के अन्य हिस्सों में उसी तारीख में मनाए जाते हैं।

 

 

 

विशु पर्व क्यों मनाते है

 

 

जैसा कि हमने अपने अब तक लेख मे बताया की विशु फेस्टिवल मलयाली कलेंडर के नव वर्ष के पहले दिन मनाया जाता है। जिससे यह स्पष्ट होता है कि विशु त्योहार मलयाली नव वर्ष का उत्सव के रूप मे मनाया जाता है। और लोग आने वाले नए साल मे अपने उजवल भविष्य की कामना करते है। इस फेस्टिवल का दूसरा महत्व यह है कि यह समय नई फसलो की बुआई का होता है। तो लोग अपनी अच्छी फसल के लिए ईश्वर से कामना करते है। विशु त्यौहार को मनाने के पिछे कई पौराणिक कहानियांं भी प्रचलित हैं, और इसी तरह की एक कहानी के अनुसार विशु वह दिन है, जब भगवान कृष्ण ने नरकासुर नामक एक राक्षस का वध किया था। एक अन्य विश्वास के अनुसार विशु उत्सव सूर्य देव की वापसी के रूप में मनाया जाता है। रावण, राक्षस राजा के लोकगीतों के मुताबिक, महाबली चक्रवर्ती सम्राट राजा रावण ने सूर्य देव या सूर्य भगवान को पूर्व से निकले पर रोक लगा दी थी। कहा जाता है कि रावण की मृत्यु के बाद, विशु के दिन सूर्य या सूर्य देव पूर्व से उगने लगे। तब से, विशु महान उत्साह के साथ मनाया जाता है।

 

 

 

विशु पर्व कैसे मनाते हैं

 

विशु “का अर्थ संस्कृत भाषा में” बराबर “है। इस शुभ विशु दिवस पर एक और महत्वपूर्ण पहलू यह है कि दिन और रात केरल में बराबर होती है। यह संस्कृत में ‘विश्वम’ का अर्थ है जिसका अर्थ समान रात और दिन है। यह दिन भगवान श्रीकृष्ण और भगवान विष्णु पूजा करके मनाया जाता है। इस पर्व की शुरुआत विशुक्कणी से होती है।

 

 

विशु के शुभ दिन की सुबह, शांतिपूर्ण और समृद्ध वर्ष की शुरुआत करने के लिए,वर्ष की पहली दृष्टि को महत्वपूर्ण माना जाता है। सरल तरीकें से समझा जाए तो लोगों का मानना है कि वर्ष के पहले दिन, पहली नजर किसी शुभ दर्शन से की जाए, ताकि वर्ष की शुरुआत शुभ हो। और इस प्रक्रिया या अनुष्ठान को विशुक्कणी के रूप में जाना जाता है, और जिसकी तैयारी विशु पर्व की पूर्व संध्या से होती है, और यह फल, अनाज, सब्जियां, दीपक, फूल, नारियल, सोना, दर्पण, हिंदू पवित्र पुस्तकें: रामायणम या भागवतगीता आदि जैसी विभिन्न शुभ चीजों का संग्रह है जो एक बड़े बर्तन में, भगवान कृष्ण की एक छवि के साथ पूजा कक्ष में रखा जाता है।

 

 

केरल के प्रसिद्ध फेस्टिवल ओणम के बारे मे जानकारी के लिए आप हमारा यह लेख पढें:—-

 

ओणम पर्व की रोचक जानकारी हिन्दी में

 

 

सुनहरा रंगीन कैसिया फिस्टुला, जिसे कोनप्पा के नाम से भी जाना जाता है, आमतौर पर केवल विशु के समय खिलता है और यह विशेष फूल विषुक्कणी की प्रक्रिया में प्रयोग किया जाता है। सुनहरे रंग के ककड़ी, आम, जैकफ्रूट, आदि मुख्य सब्जियां प्रक्रिया में उपयोग की जाती हैं। जिन लोगों के पास विशेष दर्पण है, वाल्ककानाडी, इसका उपयोग करते हैं और जिनके पास यह नहीं है, वे इसे देखने के लिए एक साधारण दर्पण का उपयोग करते हैं।

 

 

विशु दिवस से पहले शाम को बहुत ध्यान से यह बस सेट किया जाता है। यह सब घर की महिला द्वारा किया जाता है। विशु पर्व के दिन घर का बडा सदस्य एक एक कर सभी को उठाता है, और उनकी आंखों पर हाथ रखकर पूजा घर मे ले जाता है। जहां उनको पहले दर्शन भगवान श्रीकृष्ण के कराए जाते है।

 

इस परंपरा का पारंपरिक नाम विशुक्कणी मलयालम शब्द “कानी” से आता है जिसका शाब्दिक अर्थ है “जो पहले देखा जाता है”। तो विशुक्कणु नाम का अर्थ है “जो पहले विशु में देखा जाता है”।

विशुक्कणी की इस परंपरा के तहत, वस्तुओं की एक निर्धारित सूची एकत्र की जाती है और लोग इसे विष्णु सुबह पहली चीज़ देखते हैं। यह परंपरा विष्णु उत्सव मनाते हुए लोगों की दृढ़ धारणा से उत्पन्न होती है कि नए साल में अच्छी चीजें एक भाग्यशाली आकर्षण के रूप में कार्य करती हैं और पूरे वर्ष के लिए अच्छी किस्मत लाती हैं।

इस परंंपरा या अनुष्ठान को पूर्ण करने के बाद दूसरी परंपरा शुरु होती है। जिसे विशुक्केनीतम (Vishukkaineetam) कहा जाता हैं। परिवार के सभी सदस्य स्नान करते हैं, और विशुक्केनेटम पर इकट्ठा होने के लिए नए कपड़े पहनते हैं। यह परंपरा बच्चों मेंं धन वितरित करने के रूप मे जानी जाती है। इसमें परिवार के बडे बुजुर्ग युवाओं और बच्चों रूपये देते हैं।
कुछ अमीर परिवार तो अपने बच्चों के साथ साथ अपने पड़ोसियों, नौकरों आदि को भी पैसे देते है। इस विश्वास में लोग इस परंपरा को पूरा करते हैं कि इस तरह उनके बच्चों को भविष्य में समृद्धि के साथ आशीर्वाद मिलेगा।

 

 

 

विशु पर्व की खुशियां

 

 

विशु उत्सव सभी मलयाली लोगों का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है, और विशु उत्सव का महत्व उनकी तैयारी और उत्सव से आसानी से देखा जा सकता है।
लोग विशु दिवस पर बधाई देते हैं, और बच्चे इस शुभ अवसर का जश्न मनाने के लिए बिजली की झालर, मोमबत्तियां जलाते है, और पटाखे छोडने का आनंद लेते हैं। इस दिन लोग परंपरागत चंदन माथे पर लगाकर पूजा के लिए मंदिर जाते हैं।
इस दिन, सबरीमाला, गुरुवायूर, श्री पद्मनाभा मंदिर आदि जैसे कई प्रसिद्ध मंदिर भक्तों से भर जाते हैं, और यहां विशेष आयोजन भी कृष्ण भगवान के कई भक्तों द्वारा आयोजित किए जाते हैं।

 

 

 

विशु पर्व पर बनाये जाने वाले व्यंजन

 

 

विशु पर्व पर भी और त्योहारों की तरह अनेक पकवान बनाए जाते है। हालांकि, हर त्यौहार की तरह, विशु के पास पारंपरिक व्यंजनों का भी सेट होता है, जो अधिकांश मलायाली परिवारों में तैयार होते हैं। भोजन में मौसमी और साथ ही मुख्य व्यंजन भी शामिल हैं और आमतौर पर केले के पत्ते पर खाया जाता है। विशु कांजी,विशु उत्सव पर स्वाद लेने वाले सबसे प्रामाणिक व्यंजनों में से एक विष्णु कांजी है। यह एक पकवान है जिसमें नारियल के दूध और भारतीय मसालों के साथ चावल होता है। इसमें एक दलिया जैसी स्थिरता है, और आम तौर पर यह पैपड के साथ होता है। केरल के कुछ हिस्सों में, यह विभिन्न दालों, थोड़ा चावल और नमक का उपयोग करके भी बनाया जाता है। कुछ लोग इसमें गुड़ भी जोड़ते हैं। विष्णु कांजी एक भरने वाला पकवान है जिसे नए साल के जश्न पर काफी पसंद किया जाता है।

इसके अलावा विशु कट्टा एक अन्य पकवान जिसे इस अवसर पर काफी पसंद किया जाता है, जो नारियल के दूध, पाउडर चावल और गुड़ का उपयोग करके तैयार किया जाता है। यह स्वाद में मीठा है और बिल्कुल स्वादिष्ट होता है। हालांकि यह कैलोरी में उच्च है, लेकिन इसमें पौष्टिक अवयव हैं जो इसे एक समृद्ध लेकिन स्वस्थ व्यंजन बनाता है। यह एक तरल के बजाय सूखा मिठाई है।

इसके अलावा थोरन भी इस पर्व के वयंजनो का प्रमुख हिस्सा है। यह एक साइड डिश है जिसे आम तौर पर चावल से तैयार किया जाता है। यह एक सूखा, सब्जी पकवान है, जिसे नारियल का उपयोग करके तैयार किया जाता है। परंपरागत रूप से, पकवान गोभी, अनियंत्रित जैकफ्रूट, सेम, कड़वा पाउडर और अधिक जैसे सब्जियों का उपयोग करके तैयार किया जाता है। सब्जियों को अंततः कटा हुआ और हल्दी पाउडर, सरसों के बीज, करी पत्तियों, आदि के साथ होती हैं।

 

मम्पाज़प्पुलीसर यह पकवान एक मौसमी है क्योंकि यह आमों का उपयोग करके तैयार किया जाता है। इसमें एक सूप जैसी स्थिरता है और स्वाद में मीठा और खट्टा है। मम्पाज़प्पुलिसरी को चावल के साथ-साथ खाया जाता है। चूंकि आम एक मौसमी फल है,यह पकवान इस अवसर पर लोगों का पसंदीदा व्यंजन है।

 

 

 

केरल के टॉप 10 फेस्टिवल

 

 

दार्जिलिंग ( एक यादगार सफ़र )Read more.
आफिस के काम का बोझ   शहर की भीड़ भाड़ और चिलचिलाती गर्मी से मन उब गया तो हमनें लम्बी Read more.
गणतंत्र दिवस परेडRead more.
गणतंत्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है । अगर पर्यटन की Read more.
मांउट आबू ( रेगिस्तान का एक हिल्स स्टेशन) – माउंट आबू दर्शनीय स्थल – mauntabu tourist place information in hindiRead more.
पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और Read more.
शिमला(सफेद चादर ओढती वादियाँ) शिमला के दर्शनीय स्थल – shimla tourist place in hindiRead more.
बर्फ से ढके पहाड़ सुहावनी झीलें, मनभावन हरियाली, सुखद जलवायु ये सब आपको एक साथ एक ही जगह मिल सकता Read more.
नेपाल ( मांउट एवरेस्ट दर्शन) नेपाल पर्यटन nepal tourist place information in hindiRead more.
हिमालय के नजदीक बसा छोटा सा देश नेंपाल। पूरी दुनिया में प्राकति के रूप में अग्रणी स्थान रखता है । Read more.
नैनीताल मल्लीताल, नैनी झील
नैनीताल( सुंदर झीलों का शहर) नैनीताल के दर्शनीय स्थलRead more.
देश की राजधानी दिल्ली से लगभग 300किलोमीटर की दूरी पर उतराखंड राज्य के कुमांऊ की पहाडीयोँ के मध्य बसा यह Read more.
मसूरी के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
मसूरी (पहाड़ों की रानी) मसूरी टूरिस्ट पैलेस – masoore tourist placeRead more.
उतरांचल के पहाड़ी पर्यटन स्थलों में सबसे पहला नाम मसूरी का आता है। मसूरी का सौंदर्य सैलानियों को इस कदर Read more.
कुल्लू मनाली (बर्फ से अठखेलियाँ) कुल्लू मनाली दर्शनीय स्थल – kullu manali tourist placeRead more.
कुल्लू मनाली पर्यटन :- अगर आप इस बार मई जून की छुट्टियों में किसी सुंदर हिल्स स्टेशन के भ्रमण की Read more.
हरिद्धार ( मोक्षं की प्राप्ति)Read more.
उतराखंड राज्य में स्थित हरिद्धार जिला भारत की एक पवित्र तथा धार्मिक नगरी के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है। Read more.
गोवा( बीच पर मस्ती) goa tourist place information in hindiRead more.
भारत का गोवा राज्य अपने खुबसुरत समुद्र के किनारों और मशहूर स्थापत्य के लिए जाना जाता है ।गोवा क्षेत्रफल के Read more.

write a comment