Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi

लैंसडाउन पर्यटन स्थल – बर्फबारी के सुंदर दृश्य

उत्तराखंड राज्य के पौडी गढवाल जिले में स्थित लैंसडाउन एक खुबसूरत व स्वच्छ हिल्स स्टेशन है। लैंसडाउन समुद्रतल से 1706 मीटर की ऊंचाई पर बसा है। अपने अब तक के जीवन काल में मैने भारत वर्ष के अनेको पर्यटन स्थलो की सैर की है। और बहुत से पर्यटन स्थलो पर तो कई कई बार जाना हुआ है। ऐसा इसलिए भी मुमकिन हुआ है कि क्योकि यह मेरे काम और व्यपार का एक हिस्सा भी है।

अपनी अब तक की लाइफ में भारत के जितने भी भी पर्यटन स्थलो पर गया हूँ। मैने लैंसडाउन से ज्यादा स्वच्छ पर्यटन स्थल नही देखा। इस पर्यटन स्थल की साफ सफाई की व्यवस्था हकीकत में तारीफ के योग्य है।

यहा साफ सफाई की ऐसी व्यवस्था शायद इसलिए भी हो, क्योकि यह पूरा क्षेत्र गढवाल राइफल्स की सैन्य छावनी है। यह छावनी गढवाल राइफल्स का गढ भी है। जितनी स्वच्छता यहा के रख रखाव में है, उतनी ही शुद्धता यहा के वातावरण में भी मौजूद है। जिसका श्रेय यहा की पहाडीयो घाटियो में दूर तक फैलै चीड के वृक्ष व अन्य वन्य संपदा को जाता है।

जो यहां के वातावरण को शुद्धता के साथ साथ हरियाली और मनोहारी दृश्य भी प्रदान करते है। दूर दिखाई देती हिमालय की बर्फ से ढकी चोटिया व यहा का शांत वातावरण पर्यटको का मन मोह लेता है।

इस खूबसूरत हिल्स स्टेशन को अंग्रेजो ने 1887 में बसाया था। पहले इस स्थान को कालूडांडा के नाम से जाना जाता था। उस समय के वायसराय अॉफ इंडिया लॉर्ड लैंसडाउन के नाम पर ही इसका नाम बदलकर (लैंसडाउन) रखा गया था।

 

आप भुल्ला ताल को विडियो के माध्यम से भी देख सकते है:–

लैंसडाउन के पर्यटन स्थल

लैंसडाउन में पर्यटको के देखने के लिए ज्यादा स्थल तो नही है। यहा के दर्शनीय स्थलो में भुल्ला ताल, टिप-एन-टॉप, गढवाल राइफल्स वॉर ममोरियल और म्यूजियम, पुराना चर्च, संतोषी माता मंदिर आदि प्रमुख है। आइए इनमे से कुछ के बारे में विस्तार से जानते है।

लैंसडाउन भुल्ला ताल
भुल्ला ताल का सुंदर दृश्य
लैंसडाउन भुल्ला ताल
भुल्ला ताल में बोटिंग करते पर्यटक
रेस्टोरेंट भुल्ला ताल लैंसडाउन
रेस्टोरेंट भुल्ला ताल
हट्स और पार्क भुल्ला ताल लैंसडाउन
हट्स और पार्क भुल्ला ताल

भुल्ला ताल

भुल्ला ताल गढवाल रेजिमेंट के वीर शहीदो को समर्पित एक छोटी सी व खूबसूरत झील है। जिसकी लम्बाई 140 मीटर तथा चौडाई 40.5 मीटर है। परंतु इस छोटी सी झील में आप बोटिंग का आनंद उठा सकते है। झील के चारो ओर कई खुबसूरत हट्स बने है। जहां बैठकर आप प्रकृति के दृश्यो का आनंद उठा सकते है। जब आप यहा बैठकर प्रकृति के दृश्यों का आनंद ले रहे हो, तो आपके बच्चे आपको परेशान न करे इसके लिए हट्स के पास ही बच्चो के खेल कूद और मनोरंजन के लिए झूले, व अन्य उपकरण भी है। झील और उसके चारो ओर के भाग की एक तार बांउड्री है। बांउड्री के बाहर कई खुबसूरत रिजॉर्ट व एक रेस्टोरेंट है। झील में प्रवेश के लिए व बोटिंग के लिए अलग अलग शुल्क लगता है।

आम नागरिक प्रवेश शुल्क– 20 रूपये प्रतिव्यक्ति

सैन्य अधिकारी व परिजन प्रवेश शुल्क– 10 रूपये प्रतिव्यक्ति

आम नागरिक बोटिंग शुल्क — 80 रूपये प्रतिव्यक्ति

सैन्य अधिकारी व परिजन बोटिंग शुल्क– 30 रूपये प्रतिव्यक्ति।

 

 

आप टिप-एन-टॉप से दिखाई देने वाले दृश्यों को विडियो के माध्यम से भी देख सकते है:–

टिप-एन-टॉप

भुल्ला तिल से टिप एन टॉप की दूरी लगभग 1.5 किलोमीटर है। भुल्ला ताल जाने वाले मार्ग से ही एक मार्ग ऊपर की ओर टिप एन टॉप पर जाता है। टिप एन टॉप इस सैन्य क्षेत्र के पहाड की चोटी है। जहा से हिमालय पर्वत की बर्फ से ढकी चोटिया दिखाई पडती है। तथा नीचे की ओर हजारो फीट गहराई। यहा पार छोटे छोटे कॉटेज और एक रेस्टोरेंट भी है। इन कॉटेज में आप रात्री में ठहर सकते है। यहा पर कार पार्किंग के 20 रूपये शुल्क के अलावा व्यू प्वाइंट का कोई शुल्क नही लगता है।

टिप एन टॉप लैंसडाउन
टिप-एन-टॉप से दिखाई बर्फ की चोटियां
पर्यटक कॉटेज टिप-एन-टॉप लैंसडाउन
पर्यटक कॉटेज टिप-एन-टॉप

गढवाल रेजिमेंट संग्रहालय

यह संग्रहालय छावनी मुख्यालय और परेड ग्रांउड के पास स्थित है। इस संअगरहालय में गढवाल रेजिमेट के अब तक के इतिहास, व हथियारो को संग्रहीत करके रखा गया है।

 

पुराना चर्च

100 साल पुराना यह छोटा सा चर्च खूबसूरत व दर्शनीय है।

सिद्धबली मंदिर कोटद्धार

 

लैंसडाउन कैसे पहुंचे

लैसडाउन पहुंचने के लिए उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले की नजीबाबाद तहसील से कोटद्धवार के लिए मार्ग जाता है नजीबाबाद से कोटद्वार की दूरी 25 किलोमीटर है। कोटद्वार से लैंसडाउन की दूरी 44 किलोमीटर है। यदि आप ट्रैन से जाने का प्लान बना रहे है तो बडी लाइन का मुख्य स्टेशन नजीबाबाद पहुंचे। नजीबाबाद से कोटद्वार के लिए रेलवे की शटल सेवा चलती है। कुछ ट्रेने सीधी भी कोटद्वार जाती है। दिल्ली से सीधी बस सेवाएं भी कोटद्वार के लिए चलती है। कोटद्वार से आप लोकल बस व टैक्सी द्वारा आसानी से कोटद्ववार पहुंच सकते है।

 

 

 

 

 

 

उत्तराखंड पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें

 

 

आफिस के काम का बोझ   शहर की भीड़ भाड़ और चिलचिलाती गर्मी से मन उब गया तो हमनें लम्बी
गणतंत्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है । अगर पर्यटन की
पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
बर्फ से ढके पहाड़ सुहावनी झीलें, मनभावन हरियाली, सुखद जलवायु ये सब आपको एक साथ एक ही जगह मिल सकता
हिमालय के नजदीक बसा छोटा सा देश नेंपाल। पूरी दुनिया में प्राकति के रूप में अग्रणी स्थान रखता है ।
नैनीताल मल्लीताल, नैनी झील
देश की राजधानी दिल्ली से लगभग 300किलोमीटर की दूरी पर उतराखंड राज्य के कुमांऊ की पहाडीयोँ के मध्य बसा यह
मसूरी के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
उतरांचल के पहाड़ी पर्यटन स्थलों में सबसे पहला नाम मसूरी का आता है। मसूरी का सौंदर्य सैलानियों को इस कदर
कुल्लू मनाली पर्यटन :- अगर आप इस बार मई जून की छुट्टियों में किसी सुंदर हिल्स स्टेशन के भ्रमण की
हर की पौडी हरिद्वार
उत्तराखंड राज्य में स्थित हरिद्वार जिला भारत की एक पवित्र तथा धार्मिक नगरी के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है।
भारत का गोवा राज्य अपने खुबसुरत समुद्र के किनारों और मशहूर स्थापत्य के लिए जाना जाता है ।गोवा क्षेत्रफल के
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
हरिद्वार जिले के बहादराबाद में स्थित भारत का सबसे बड़ा योग शिक्षा संस्थान है । इसकी स्थापना स्वामी रामदेव द्वारा
खजुराहो ( कामुक कलाकृति का अनूठा संगम भारत के मध्यप्रदेश के झांसी से 175 किलोमीटर दूर छतरपुर जिले में स्थित
भारत की राजधानी दिल्ली के पुरानी दिल्ली इलाके में स्थित ऐतिहासिक मुगलकालीन किला है " लाल किला"। लाल पत्थर से
जामा मस्जिद दिल्ली के सुंदर दृश्य
जामा मस्जिद दिल्ली मुस्लिम समुदाय का एक पवित्र स्थल है । सन् 1656 में निर्मित यह मुग़ल कालीन प्रसिद्ध मस्जिद
उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जनपद के पलिया नगर से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित दुधवा नेशनल पार्क है।
पीरान कलियर शरीफ उतराखंड के रूडकी से 4किमी तथा हरिद्वार से 20 किमी की दूरी पर स्थित   पीरान  कलियर
सिद्धबली मंदिर उतराखंड के कोटद्वार कस्बे से लगभग 3किलोमीटर की दूरी पर कोटद्वार पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्ग पर भव्य सिद्धबली मंदिर
राधा कुंड उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर को कौन नहीं जानता में समझता हुं की इसका परिचय कराने की शायद
भारत के गुजरात राज्य में स्थित सोमनाथ मंदिर भारत का एक महत्वपूर्ण  मंदिर है । यह मंदिर गुजरात के सोमनाथ
जिम कार्बेट नेशनल पार्क उतराखंड राज्य के रामनगर से 12 किलोमीटर की दूरी  पर स्थित जिम कार्बेट नेशनल पार्क  भारत का
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
जम्मू कश्मीर भारत के उत्तरी भाग का एक राज्य है । यह भारत की ओर से उत्तर पूर्व में चीन
जम्मू कश्मीर राज्य के कटरा गाँव से 12 किलोमीटर की दूरी पर माता वैष्णो देवी का प्रसिद्ध व भव्य मंदिर
मानेसर झील या सरोवर मई जून में पडती भीषण गर्मी चिलचिलाती धूप से अगर किसी चीज से सकून व राहत
भारत की राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन तथा हजरत निजामुद्दीन दरगाह के करीब मथुरा रोड़ के निकट हुमायूँ का मकबरा स्थित है। यह
कुतुबमीनार के सुंदर दृश्य
पिछली पोस्ट में हमने हुमायूँ के मकबरे की सैर की थी। आज हम एशिया की सबसे ऊंची मीनार की सैर करेंगे। जो
भारत की राजधानी के नेहरू प्लेस के पास स्थित एक बहाई उपासना स्थल है। यह उपासना स्थल हिन्दू मुस्लिम सिख
पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कमल मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर की थी। इस पोस्ट
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध स्थल स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर

 

 

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.