Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
बांदीपुर नेशनल पार्क जीप सफारी और जंगल में ट्रैकिंग का आनंद

बांदीपुर नेशनल पार्क जीप सफारी और जंगल में ट्रैकिंग का आनंद

बांदीपुर नेशनल पार्क, मैसूर से 80 किमी की दूरी और ऊटी से 70 किमी और बैंगलोर से 215 किमी दूरी पर बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान भारत के अच्छी तरह से संरक्षित राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है। यह कर्नाटक के चमारजनगर जिले में स्थित है। चमारजनगर मैसूर और ऊटी के बीच तमिलनाडु और कर्नाटक का सीमावर्ती जिला है। नागरहोल और बंदीपुर नेशनल पार्क कबीनी जलाशय से अलग हैं। बंदीपुर नेशनल पार्क की यात्रा आपके ऊटी पैकेजों में भी शामिल होनी चाहिए और बैंगलोर से सबसे अच्छी 2 दिन की यात्रा में शामिल होना चाहिए।

 

वायनाड टूर पैकेज के हिस्से के रूप में वायनाड के साथ 874 वर्ग किलोमीटर में फैला, बंदीपुर नेशनल पार्क का भी दौरा किया जा सकता है। यह प्रसिद्ध नीलगिरी बायोस्फीयर रिजर्व का हिस्सा नागहरोल नेशनल पार्क, मुदुमलालाई राष्ट्रीय उद्यान (ऊटी की ओर 12 किमी) और वायनाड वन्यजीव अभयारण्य के साथ है। बंदीपुर वन मैसूर के महाराजाओं का निजी खेल रिजर्व होता था। यह अभयारण्य परियोजना बाघ योजना से संबंधित 15 अभयारण्यों में से एक है। 1974 में वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत बंदीपुर को राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था।

 

यह लगभग 70 बाघों और 3000 से अधिक एशियाई हाथियों के साथ-साथ अन्य जानवरों जैसे तेंदुए, धोल, गौर, स्लॉथ भालू और विभिन्न प्रकार के पक्षीयो का घर है। गोपालस्वामी बेटा बांदीपुर रेंज में सबसे ऊंची चोटी है।
जीप सफारी (1 घंटा), मिनी बस सफारी (45 मिनट) और हाथी सफारी (20 मिनट) जंगल विभाग द्वारा व्यवस्थित की जाती हैं। लागत और समय बदलते रहते हैं और कभी-कभी वे बिना किसी पूर्व सूचना के सफारी को रद्द करते हैं।
पार्क का प्रवेश बिंदु और व्याख्या केंद्र मेलकामानहल्ली गांव के बाद राजमार्ग पर बांदीपुर गांव में स्थित है। पार्क के अंदर निजी वाहनों की अनुमति नहीं है। निजी जीप सफारी की व्यवस्था जंगल लॉज (पार्क के बाहर मेलकमानहल्ली में) और तुस्कर ट्रेल्स (मंगल गांव में पार्क से 4 किमी – मैसूर की ओर) द्वारा की जाती है।
बंदीपुर नेशनल पार्क जाने का सबसे अच्छा समय जून से अक्टूबर तक है।

 

बांदीपुर नेशनल पार्क के सुंदर दृश्य
बांदीपुर नेशनल पार्क के सुंदर दृश्य

 

 

 

बांदीपुर नेशनल पार्क में गतिविधियां

 

 

 

मिनी बस सफारी बांदीपुर (Mini bus safari bandipur)

 

 

 

बांदीपुर नेशनल पार्क मिनी बस सफारी की सुविधा देता है। मिनी बस सफारी बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान का दौरा करने का सबसे आसान और सस्ता तरीका है। पार्क 45 मिनट की बस सफारी का आयोजन करता है। जिसमे आप शेयर्ड तौर पर प्रति सवारी चार्ज देकर मिनी बस सफारी का आनंद उठा सकते। बस सफारी मे आप जंगली जीवजंतुओं को विचरज करते हुए काफी नजदीक से देख सकते है।

 

 

 

जीप सफारी (Jeep safari)

 

 

 

बांदीपुर नेशनल पार्क के वन्यजीवन को अधिकतम नजदीक और पूर्ण रूप से देखने और समझने का सबसे अच्छा तरीका निजी जीप सफारी है। वर्तमान में, निजी जीप सफारी केवल दो ऑपरेटरों – जंगल लॉज और टस्कर ट्रेल्स द्वारा अनुमत हैं। जंगल लॉज बंदीपुर से पहले मेलकमानहल्ली गांव में स्थित है और तुस्कर ट्रेल्स मैसूर को जाने वाली सडक पर 4 किमी मंगल गांव स्थित है।
निजी जीप में एक अनुभवी गाइड होता है जो पर्यटकों को वन्यजीवन को पहचानने में मदद करता है। सफारी की अवधि 2-3 घंटे है और यह वन्यजीव मे रूची रखने वालो और फोटोग्राफर के लिए आदर्श है। शुरुआती सुबह और शाम सफारी बाघों जैसे वन्यजीवन को देखने के लिए सबसे अच्छे अवसर प्रदान करते हैं।
सफारी समय: 6:30 से 9:30 पूर्वाह्न और 3:30 से 6:30 बजे तक
जीप सफारी (9 0 मिनट): निजी और विभाग जीप दोनों उपलब्ध हैं। लागत बदलती रहती है।

 

 

 

हाथी की सवारी (Elephant ride)

 

 

 

बांदीपुर नेशनल पार्क में हाथी की सवारी की भी सुविधा उपलब्ध है, हाथी की सवारी बंदीपुर के आगंतुकों को अद्वितीय अनुभव प्रदान करती है। हाथी की सवारी की अवधि 20 मिनट है और यह सफारी नहीं है। सवारी एक हाथी पर पार्क के चारों ओर पर्यटकों को ले जाती है। वन विभाग अनुरोध पर लगभग एक घंटे (या अधिक) हाथी की सवारी भी आयोजित करता है, जो आपको जंगल में अंदर तक ले जाता है।

 

 

 

नेचर वॉक, ट्रैकिंग (Nature walk)

 

 

 

नेचर वाक बंदीपुर नेशनल पार्क में सबसे लोकप्रिय गतिविधियों में से एक है। सरकार ने पर्यावरण चिंताओं और सुरक्षा कारणों से बांदीपुर नेशनल पार्क में ट्रेकिंग कम चलाएं है। बांदीपुर सफारी लॉज हर सुबह जंगल में 2 घंटे प्रकृति वॉक आयोजित करता है और यह एक अच्छा अनुभव है। उन लोगों के लिए एक गाइड अनिवार्य है जो प्रकृति वॉक लेना चाहते हैं।

 

 

बस सफारी, जीप सफारी, ट्रैकिंग आदि की ऑनलाइन बुकिंग यि अधिक जानकारी के लिए आप पार्क की अधिकारिक वेबसाइट पर सम्पर्क कर सकते है।

www.bandipurnationalpark.in

 

 

 

 

 

बांदीपुर नेशनल पार्क कहाँ है, बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान, बांदीपुर नेशनल पार्क सफारी, ट्रैकिंग, बांदीपुर टाईगर रिजर्व आदि शीर्षकों पर आधारित हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताए। यह जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है।

 

 

यदि आपके आसपास कोई ऐसा धार्मिक, ऐतिहासिक या पर्यटन स्थल है जिसके बारें मे आप पर्यटकों को बताना चाहते है या फिर अपने किसी टूर, यात्रा, पिकनिक, आदि के अनुभव सैलानियों के साथ शेयर करना चाहते है तो आप कम से कम 300 शब्दो में अपना लेख यहां लिख सकते है Submit a post हम आपके द्वारा लिखे गए लेख को अपने इस प्लेटफार्म पर आपके नाम सहित शामिल करेंगे

 

 

 

 

कर्नाटक पर्यटन पर आधारित हमारें यह लेख भी जरूर पढ़ें:–

 

 

 

आफिस के काम का बोझ   शहर की भीड़ भाड़ और चिलचिलाती गर्मी से मन उब गया तो हमनें लम्बी
गणतंत्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है । अगर पर्यटन की
पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
बर्फ से ढके पहाड़ सुहावनी झीलें, मनभावन हरियाली, सुखद जलवायु ये सब आपको एक साथ एक ही जगह मिल सकता
हिमालय के नजदीक बसा छोटा सा देश नेंपाल। पूरी दुनिया में प्राकति के रूप में अग्रणी स्थान रखता है ।
नैनीताल मल्लीताल, नैनी झील
देश की राजधानी दिल्ली से लगभग 300किलोमीटर की दूरी पर उतराखंड राज्य के कुमांऊ की पहाडीयोँ के मध्य बसा यह
मसूरी के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
उतरांचल के पहाड़ी पर्यटन स्थलों में सबसे पहला नाम मसूरी का आता है। मसूरी का सौंदर्य सैलानियों को इस कदर
कुल्लू मनाली पर्यटन :- अगर आप इस बार मई जून की छुट्टियों में किसी सुंदर हिल्स स्टेशन के भ्रमण की
हर की पौडी हरिद्वार
उत्तराखंड राज्य में स्थित हरिद्वार जिला भारत की एक पवित्र तथा धार्मिक नगरी के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है।
भारत का गोवा राज्य अपने खुबसुरत समुद्र के किनारों और मशहूर स्थापत्य के लिए जाना जाता है ।गोवा क्षेत्रफल के
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
हरिद्वार जिले के बहादराबाद में स्थित भारत का सबसे बड़ा योग शिक्षा संस्थान है । इसकी स्थापना स्वामी रामदेव द्वारा
खजुराहो ( कामुक कलाकृति का अनूठा संगम भारत के मध्यप्रदेश के झांसी से 175 किलोमीटर दूर छतरपुर जिले में स्थित
भारत की राजधानी दिल्ली के पुरानी दिल्ली इलाके में स्थित ऐतिहासिक मुगलकालीन किला है " लाल किला"। लाल पत्थर से
जामा मस्जिद दिल्ली के सुंदर दृश्य
जामा मस्जिद दिल्ली मुस्लिम समुदाय का एक पवित्र स्थल है । सन् 1656 में निर्मित यह मुग़ल कालीन प्रसिद्ध मस्जिद
उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जनपद के पलिया नगर से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित दुधवा नेशनल पार्क है।
पीरान कलियर शरीफ उतराखंड के रूडकी से 4किमी तथा हरिद्वार से 20 किमी की दूरी पर स्थित   पीरान  कलियर
सिद्धबली मंदिर उतराखंड के कोटद्वार कस्बे से लगभग 3किलोमीटर की दूरी पर कोटद्वार पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्ग पर भव्य सिद्धबली मंदिर
राधा कुंड उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर को कौन नहीं जानता में समझता हुं की इसका परिचय कराने की शायद
भारत के गुजरात राज्य में स्थित सोमनाथ मंदिर भारत का एक महत्वपूर्ण  मंदिर है । यह मंदिर गुजरात के सोमनाथ
जिम कार्बेट नेशनल पार्क उतराखंड राज्य के रामनगर से 12 किलोमीटर की दूरी  पर स्थित जिम कार्बेट नेशनल पार्क  भारत का
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
जम्मू कश्मीर भारत के उत्तरी भाग का एक राज्य है । यह भारत की ओर से उत्तर पूर्व में चीन
जम्मू कश्मीर राज्य के कटरा गाँव से 12 किलोमीटर की दूरी पर माता वैष्णो देवी का प्रसिद्ध व भव्य मंदिर
मानेसर झील या सरोवर मई जून में पडती भीषण गर्मी चिलचिलाती धूप से अगर किसी चीज से सकून व राहत
भारत की राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन तथा हजरत निजामुद्दीन दरगाह के करीब मथुरा रोड़ के निकट हुमायूँ का मकबरा स्थित है। यह
कुतुबमीनार के सुंदर दृश्य
पिछली पोस्ट में हमने हुमायूँ के मकबरे की सैर की थी। आज हम एशिया की सबसे ऊंची मीनार की सैर करेंगे। जो
भारत की राजधानी के नेहरू प्लेस के पास स्थित एक बहाई उपासना स्थल है। यह उपासना स्थल हिन्दू मुस्लिम सिख
पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कमल मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर की थी। इस पोस्ट
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध स्थल स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी
प्रिय पाठको जैसा कि आप सब जानते है। कि हम भारत के राज्य राजस्थान कीं सैंर पर है । और
उत्तराखण्ड हमारे देश का 27वा नवोदित राज्य है। 9 नवम्बर 2002 को उत्तर प्रदेश से अलग होकर इस राज्य का
प्रकृति की गोद में बसा अल्मोडा कुमांऊ का परंपरागत शहर है। अल्मोडा का अपना विशेष ऐतिहासिक, सांस्कृतिक व राजनीतिक महत्व
बागेश्वर कुमाँऊ के सबसे पुराने नगरो में से एक है। यह काशी के समान ही पवित्र तीर्थ माना जाता है।
चमोली डिस्ट्रिक की सीमा एक ओर चीन व तिब्बत से लगती है तथा उत्तराखण्ड की तरफ उत्तरकाशी रूद्रप्रयाग पौडीगढवाल अल्मोडा
उत्तरांचल राज्य का चम्पावत जिला अपनी खूबसुरती अनुपम सुंदरता और मंदिरो की भव्यता के लिए जाना जाता है। ( champawat
उत्तराखण्ड का पौडी गढवाल जिला क्षेत्रफल के  हिसाब से उत्तरांचल का तीसरा सबसे बडा जिला है । pouri gardhwal tourist
उत्तराखण्ड राज्य का पिथौरागढ जिला क्षेत्रफल के हिसाब से उत्तराखण्ड जिले का तीसरा सबसे बडा जिला है। पिथौरागढ जिले का
उत्तराखण्ड राज्य का रूद्रप्रयाग जिला धार्मिक व पर्यटन की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण माना जाता है। रूद्रप्रयाग जिला क्षेत्रफल के
उत्तरांचल का टिहरी गढवाल जिला पर्यटन और सुंदरता में काफी महत्वपूर्ण स्थान रखता है। टिहरी गढवाल जिला क्षेत्रफल के हिसाब
प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी श्री उधमसिंह के नाम पर इस जिले का नामकरण किया गया है। श्री उधमसिंह ने जनरल डायर
उत्तरकाशी क्षेत्रफल के हिसाब से उत्तरांचल का दूसरा सबसे बडा जिला है। उत्तरकाशी जिले का क्षेत्रफल 8016 वर्ग किलोमीटर है।
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार
पंजाब भारत के उत्तर-पश्चिमी भाग मे स्थित है। पंजाब शब्द पारसी भाषा के दो शब्दो "पंज" और "आब" से बना
उत्तराखण्ड टूरिस्ट पैलेस के भ्रमण की श्रृखंला के दौरान आज हम उत्तरांचल की राजधानी और प्रमुख जिला देहरादून के पर्यटन
प्रिय पाठकों पिछली कुछ पोस्टो मे हमने उत्तरांचल के प्रमुख हिल्स स्टेशनो की सैर की और उनके बारे में विस्तार
प्रिय पाठको पिछली पोस्टो मे हमने पश्चिम बंगाल हिल्स स्टेशनो की यात्रा के दौरान दार्जिलिंग और कलिमपोंग के पर्यटन स्थलो

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.