Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
बरसाना मथुरा – हिस्ट्री ऑफ बरसाना – बरसाना के दर्शनीय स्थल

बरसाना मथुरा – हिस्ट्री ऑफ बरसाना – बरसाना के दर्शनीय स्थल

मथुरा से लगभग 50 किमी की दूरी पर, वृन्दावन से लगभग 43 किमी की दूरी पर, नंदगाँव से लगभग 9 किमी की दूरी पर स्थित बरसाना एक धार्मिक स्थान है। जब हम मथुरा की यात्रा पर जाते है तो मथुरा के साथ साथ वृन्दावन, नंदगाँव, गोवर्धन पर्वत और बरसाना यह सभी स्थान श्रीकृष्ण की लीलाओं से भरे है। और यह सभी स्थान हमारी मथुरा धाम की यात्रा के अंतर्गत ही आते है।

 

 

 

बरसाना राधा जी का जन्म स्थान है। राधा के पिता का नाम वृषभानु था तथा माता का नाम कीर्ति था। राधा का भगवान श्रीकृष्ण से अनन्य प्रेम था। और वे दोनों दो शरीर तथा एक प्राण थे। राधा के रोम रोम में श्रीकृष्ण का प्यार भरा था। उसे किसी लोक लाज का डर नहीं था।

 

 

 

श्रीकृष्ण भी राधा के विरह में व्याकुल रहते थे। और कदम के पेड़ पर चढकर राधा को बुलाने के लिए अपनी बांसुरी की मधुर धुन लगाते थे। बांसुरी की धुन सुनते ही राधा प्रेम मग्न होकर श्रीकृष्ण से मिलने आती थी।

 

 

 

श्रीकृष्ण अपनी माया से घटा और बादल उत्पन्न कर देते थे, और दोनों घनघोर घटा के अंधेरे में बैठकर प्रेमपूर्वक बातें किया करते थे। एक दिन राधा कृष्ण के प्रेम में इतनी मतवाली हो गई कि वह दही बेचने का बहाना करके श्रीकृष्ण के गांव में चली गई, और श्रीकृष्ण के घर के चारो तरफ घूम घूम कर पुकारने लगी! कोई दही ले लो! भाई दही ले लो!

 

 

 

यह पुकारते पुकारते राधा दही का नाम भूल गई और कहने लगी, कोई कृष्ण ले लो! कोई नंदकिशोर ले लो! कोई श्यामसुंदर ले लो! । श्रीकृष्ण उस समय भोजन कर रहे थे। वह राधा की आवाज सुनकर अपने मुख का ग्रास थाली में छोडकर राधा से मिलने के लिए दौड़ पडे थे ऐसा था श्रीकृष्ण और राधा का प्रेम। और इसी अमर प्रेम का रस बरसाना की गलियों में बसा है।

 

 

 

बरसाना की होली भी बहुत प्रसिद्ध है, जिसे लट्ठमार होली भी कहते है। फाल्गुन एकादशी को नंदगाँव वाले बरसाना में होली खेलने आते है। और दूसरे दिन बरसाना वाले नंदगाँव में होली खेलने जाते है। यह परम्परा श्रीकृष्ण के समय से चली आ रही है। कहते है श्रीकृष्ण अपने साथियों के साथ नंदगाँव से बरसाना होली खेलने के लिए आते थे। और राधा और गोपियों के साथ ठिठोलीयां करते थे। जिस पर राधा और उसकी सखियाँ डंडों से मार मार कर श्रीकृष्ण और ग्वालों को दौड़ाया करती थी। उसी समय से आज तक यह परम्परा चली आ रही है। और यह परम्परा आज लट्ठमार होली के रूप में दुनिया भर में प्रसिद्ध है। जिसे देखने के लिए हर वर्ष दूर दूर से हजारों लोग बरसाना और नंदगाँव आते है।

 

 

 

 

 

बरसाना का प्राचीन महत्व

बरसाना का मूल नाम वृषभानुपुरा है। राधिका के पिता, वृषभानु महाराज अपने परिवार के साथ यहां रहते थे। बरसाना गोवर्धन से चौदह मील पश्चिम और काम्यवन से छह मील पूर्व में स्थित है। वराह और पद्म पुराणों के अनुसार, ब्रह्मा ने अराधना पूजा करके सत्य युग के अंत में श्री हरि को प्रसन्न किया। तब ब्रह्मा ने निम्नलिखित वरदान के लिए कहा: “कृपया मेरे अत्यंत रूप पर ब्रज-गोपियों के साथ अपने मधुर अतीत का प्रदर्शन करें और मुझे इन लीलाओं को निहारने की अनुमति दें। कृपया वसंत ऋतु बारिश के मौसम में विशेष रूप से झूलों के साथ और होली खेलकर अपने जीवन को धन्य बनाएं।
ब्रह्मा से प्रसन्न होकर, श्री हरि ने उन्हें निर्देश दिया, “ब्रजभानुपुरा जाओ और वहां एक पहाड़ी का रूप ले लो। उस रूप में तुम हमारे सभी मधुर अतीत को देख सकोगे।” और इसलिए ऐसा हुआ कि ब्रह्मा ने ब्रज में इस स्थान पर एक पहाड़ी का रूप धारण किया और अपनी पोषित इच्छा को पूरा किया।

 

 

 

 

बरसाना के सुंदर दृश्य
बरसाना के सुंदर दृश्य

 

 

 

बरसाना के दर्शनीय स्थल

 

राधा कृष्ण मंदिर यहां का मुख्य मंदिर है। राधा कृष्ण मंदिर राधा जी का महल था। यहां पर जाने के लिए बहुत सारी सीढियां चढ़नी पड़ती है। राधा कृष्ण मंदिर में से ही महाराज जयपुर के मंदिर में जाने का रास्ता है। रास्ते में बहुत सुंदर फुलवारी तथा बाग बगीचे है। दूसरे रास्ते से कार द्वारा सीधे जयपुर महाराज मंदिर जा सकते है। इसके अलावा भी बरसाना में अनेक देखने योग्य स्थान मंदिर और कुंड है।

 

 

 

बरसाना की परिक्रमा चार मील लंबी है। ब्रज भक्ति विलास, पद्म पुराण के हवाले से, वृषभानुपुरा के अवगुणों का वर्णन इस प्रकार है: “पद्म पुराण के अनुसार, दो पहाड़ियाँ एक-दूसरे के आमने-सामने हैं – एक विष्णु-पर्वत है और दूसरा ब्रह्मा-पर्वत है। विष्णु-पार्वत बाईं ओर है और ब्रह्मा-पार्वत दाईं ओर है।
ब्रह्मा-पर्वत के शीर्ष पर श्री राधा-कृष्ण का मंदिर है। उत्तर की ओर, इस पहाड़ी के नीचे, महाराजा वृषभानु का महल है, जहाँ श्री वृषभानु महाराज, श्रीमति कीर्तिदा महारानी, ​​श्रीधाम और राधिका के दर्शन हो सकते हैं। पास में ललिता का मंदिर है, जिसमें नौ राखियों के साथ राधिका के दर्शन हो सकते हैं

 

 

 

इसके अलावा ब्रह्म-पर्वत के ऊपर दाना मंदिर, एक झूले (हिंडोला), मयूर-कुटी, रास-मंडल और राधा का मंदिर है। आगे दो पहाड़ियों के बीच सांकरी खोर है। शंकरी-खोर के पास विलास मंदिर है, और विलास मंदिर के बगल में गहवरवन है। गहवरवन के भीतर राधा-सरोवर और रास-मंडल हैं, और पास में दोहनी कुंड है। इस कुंड के बहुत पास मयूर-सरोवर है, जिसका निर्माण चित्रलेखा ने किया था। “भानु-सरोवर भी पास में है, और इसके किनारे पर ब्रजेश्वर, महारुद्र का एक देवता है। इसके बाईं ओर कीर्ति-सरोवर है।

 

बरसाना के आसपास चार सरोवर, या तालाब हैं:
पूर्व में वृषभानु कुंड,
उत्तर-पूर्व में कीर्तिदा कुंड,
दक्षिण-पश्चिम में विहार कुंड (जिसे बाद में तिलक-कुंड नाम दिया गया) और
चिखौली गाँव के दक्षिण, दक्षिण-पश्चिम में दोहनी कुंड।

 

 

 

 

शंकरी-खोर चिकसौली के उत्तर में है, और विष्णु-पर्वत पर, शंकरी-खोर के पूर्व में, विलास गढ़ है। यह रास-मंडल का स्थान है। विलास मंदिर के पास, जहाँ राधिका, एक बच्चे के रूप में, रेत के साथ खेलती थी, महलों का निर्माण करती थी। पर्वत के ऊपर शंकरी-खोर का पश्चिम, दाना गढ़ है; और शंकरी-खोर के दक्षिण-पश्चिम और चिकसौली गाँव के पश्चिम में गहवरवन और गहवर-कुंड हैं। गहवरवन में प्रवेश करते समय मयूर-कुटी दाईं ओर है। पहाड़ी की चोटी पर, गहवरवन के दक्षिण-पश्चिम, मान-गढ़ और मन मंदिर हैं; और नीचे और पास में मनापुरा गाँव है। मान-गढ़ के उत्तर में जयपुर के महाराजा का मंदिर है, और उस मंदिर के उत्तर में श्रीजी मंदिर है। श्रीजल मंदिर के ठीक नीचे, पहाड़ी पर अभी भी, एक ब्रह्माजी के मंदिर और राधिका के पितामह महिभानु के महल में आता है। उसके नीचे बरसाना गाँव है। पश्चिम का बरसाना मुक्ता कुंड या रत्न-कुंड है।

 

 

हिस्ट्री ऑफ बरसाना, बरसाना के मंदिर, बरसाना के दर्शनीय स्थल, बरसाना मंदिर टाइम आदि शीर्षक पर आधारित हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं। यह जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है

 

 

 

उत्तर प्रदेश पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:–

 

 

 

 

write a comment