Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
बदायूं का इतिहास – बदायूंं आकर्षक, ऐतिहासिक, पर्यटन व धार्मिक स्थल

बदायूं का इतिहास – बदायूंं आकर्षक, ऐतिहासिक, पर्यटन व धार्मिक स्थल

बदायूंं भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर और जिला है। यह पश्चिमी उत्तर प्रदेश के केंद्र में गंगा नदी के पास स्थित है। यह शहर सुल्तान इल्तुतमिश शासन के दौरान 1210 ईसवी से 1214 ईसवीं तक चार साल के लिए दिल्ली सल्तनत की राजधानी राजधानी भी रहा है। वर्तमान मे बदायूँ एक व्यापारिक केंद्र है, यह ऐतिहासिक रूप से प्रसिद्ध और धार्मिक रूप से महत्वपूर्ण शहर सूफी संतों की भूमि भी रहा है। यह रोहिलखंड का दिल है, बदायूं नई दिल्ली से 229 किमी दूर है और बरेली, कासगंज, संभल, शाहजहांपुर, रामपुर तथा अलीगढ़ जैसे प्रमुख जिलों से अपनी सीमाएं साझा करता है।

 

 

 

 

बदायूंं को नाम कैसे मिला

 

 

प्रो गोटी जॉन ने कहा कि लखनऊ संग्रहालय में पत्थर की लिपियों पर आधारित एक प्राचीन शिलालेख में इस शहर का नाम वोडामायूता रखा गया था। बाद में इस क्षेत्र को पांचाल कहा जाने लगा। पत्थर की लिपियों पर लिखी पंक्तियों के अनुसार शहर के पास एक गाँव भदौनलाक था। मुस्लिम इतिहासकार रोज़ खान लोधी ने कहा कि अशोक द ग्रेट ने एक बौद्ध विहार और किले का निर्माण किया उसने इसका नाम बुद्धमऊ (बुधौन किला) रखा। जॉर्ज स्मिथ के अनुसार, बदायूँ का नाम अहीर राजकुमार बुध के नाम पर पड़ा था।

 

 

बदायूंं का इतिहास – बदायूंं हिस्ट्री इन हिन्दी

 

 

Budaun history – Budaun history in hindi

 

 

परंपरा के अनुसार, बदायूं की स्थापना लगभग 905 ईस्वी में हुई थी, और एक शिलालेख, जो शायद 12 वीं शताब्दी का था, बदायूँ में वोडामायुता कहे जाने वाले बारह राठौर राजाओं की सूची देता है। गज़नाविद सुल्तान के पुत्र महमूद द्वारा रणश्रुत प्रमुख को निकाल कर कन्नौज पर 1085 ईसा के बाद विजय प्राप्त की गई। यह राष्ट्र प्रमुख अपनी राजधानी को वोडामायुता में ले जाता है, जहाँ उन्होंने कुतुब-उद-दीन ऐबक द्वारा जीत हासिल करने तक शासन किया था।

 

हालांकि, इसके साथ जुड़ी पहली प्रामाणिक ऐतिहासिक घटना, 1196 में कुतुब-उद-दीन ऐबक द्वारा कब्जा कर लिया गया था, जिसके बाद यह दिल्ली साम्राज्य के उत्तरी सीमा पर एक बहुत महत्वपूर्ण पद बन गया। 1223 में, गुंबद के साथ ताज पहने आकार की एक बहुत ही सुंदर मस्जिद का निर्माण किया गया था। 13 वीं शताब्दी में इसके दो गवर्नर, शम्स-उद-दीन इल्तुतमिश, मस्जिद के निर्माता ने ऊपर उल्लेख किया था, और उनके बेटे रुकन उद दीन फिरुज ने शाही सिंहासन प्राप्त किया। 1571 में इस शहर को जला दिया गया था, और लगभग सौ साल बाद, शाहजहाँ के अधीन, शासन की सीट को सहसपुर-बिलारी में स्थानांतरित कर दिया गया था। 1801 में अवध के नवाब द्वारा बदायूं और उसके जिले को ब्रिटिश सरकार को सौंप दिया गया था। 1911 में, संयुक्त प्रांत के रोहिलखंड डिवीजन में, बदायूं ब्रिटिश भारत का एक शहर और जिला था।

 

 

 

बदायूं आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
बदायूं आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य

 

 

 

बदायूं के दर्शनीय स्थल, बदायूं के पर्यटन स्थल, बदायूं आकर्षक स्थल, बदायूंं मे घूमने लायक जगह, बदायूं टूरिस्ट पैलेस

 

 

Budaun tourism – Top tourist attractions in budaun – Budaun tourist place

 

 

 

बदायूं शहर अपने दर्शनीय स्थलों के कारण लोकप्रिय है, क्योंकि इस शहर में साल भर पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है। नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, लगभग दो लाख लोग सालाना शहर का दौरा करते हैं। मुगलों के शासन वाले शहर में एक समय कई मुगल स्मारक थे लेकिन अब केवल खंडहर पाए गए थे जो शहर में एक मुख्य ऐतिहासिक आकर्षण भी था।

 

 

बदायूं का किला जिसे रोजा के नाम से भी जाना जाता है, शहर में अभी तक एक और लोकप्रिय स्थान है। शहर के अन्य लोकप्रिय स्मारक ओहिया का महल है, जो 1812 में सहसपुर, शेखूपुर किले के शाही परिवार, मुगल महारानी मुमताज महल की बहन का मकबरा, मुगल सम्राट जहांगीर के पालक पुत्र और कई और लोगों द्वारा बनाया गया था।

 

 

यह शहर अपने पूजा स्थलों के लिए बहुत लोकप्रिय है। शहर में जामा मस्जिद बहुत लोकप्रिय राष्ट्रीय विस्तृत है, क्योंकि यह भारत में तीसरी प्राचीन मस्जिद और 23500 लोगों की क्षमता वाली दूसरी सबसे बड़ी मस्जिद है जो हर साल कई भक्तों को आकर्षित करती है, और यह भारत के राष्ट्रीय धरोहर स्थलों में से एक है। इसके अलावा छोटी सरकार बडी सरकार की दरगाह भारत यहां बहुत प्रसिद्ध है। जिनके बारे मे हम नीचे विस्तार से जानेंगे।

 

 

 

जामा मस्जिद बदायूँ (Jama masjid budaun)

 

 

मस्जिद का मुख्य आकर्षण इसकी स्थापत्य शैली है जो अफगान और फारसी शैली पर आधारित है। मस्जिद में तीन प्रवेश द्वार हैं जिसमें मुख्य द्वार लाल संगमरमर पर बनाया गया है और इसकी ऊँचाई 100 फीट है। अन्य दो प्रवेश द्वार सोथा और फरशोरी टोला में मिलते हैं। मस्जिद का फर्श सफेद संगमरमर से बना है। जामा मस्जिद क्वार्टर या साइड मस्जिद का निर्माण मुख्य मस्जिद के दोनों ओर किया जाता है। मस्जिद का केंद्रीय गुंबद दो अतिरिक्त गुंबदों के साथ बनाया गया है जो फिर से 5 और गुंबदों से घिरा हुआ है जो सभी मिलकर मस्जिद को एक राजसी लुक देते हैं। बदायूं जामा मस्जिद का केंद्रीय गुंबद राष्ट्र में सबसे बड़ा है।

 

 

बदायूं का किला या रोजा (Budaun fort/Roza)

 

 

रोजा इखलास खान का निर्माण 1094 हिजरी (1690) में हुआ था। इस रोजा की लंबाई 152 और चौड़ाई 150 फीट और ईंटों से बनी है। यह मकबरा मुगल काल की एक यादगार इमारत है। नवाब इखलास खान की पत्नी ने अपने पति (इखलास खान) की याद में एक रोजा का निर्माण किया था। जिसे इखलास खान के रोजा के नाम से जाना जाता है। यह अलग बात है कि इस मकबरे को ताजमहल की तरह प्रसिद्धि नहीं मिली।

 

 

 

छोटे बड़े सरकार की दरगाह (Chote Bade sarkar ki dargah)

 

छोटे बड़े सरकार की दरगाह बदायूं के दर्शनीय स्थलों में काफी प्रसिद्ध दरगाह है। यह दो भाईयों की मजार है। हजरत सुल्तान आफरीन साहब जिन्हें बडे सरकार के नाम से जाना जाता है। और उनके छोटे भाई हजरत बदरूद्दीन शाह जिन्हें छोटे सरकार के नाम से जाना जाता है। यह दोनों ही संत अपने जमाने के प्रसिद्ध सूफी संत रहे है। न जाने कितने ही रोगियों ने इनकी दुआओं से सफाअत पायी है। आज भी यहां रोगों से मुक्ति पाने के लिए यहाँ रोगियों का तांता लगा रहता है। सालाना उर्स के समय यहां अनुयायियों की काफी भीड़ रहती है।

 

 

 

गौरी शंकर मंदिर (Gouri shankar temple budaun)

 

 

उसावां रोड पर मंडी समिति के पास सहस्त्रधाम गौरी शंकर देवालय की स्थापना 2001 में राम शरण रस्तोगी ने करायी थी। इस मंदिर में जो रसलिंग स्थापित है, वैसा देश में दूसरा रसलिंग नहीें है। ऐसा चमत्कारी रसलिंग की मूर्ति भारत में कहीं नहीं है। हरिद्वार में एक रसलिंग है भी तो उसकी गिनती दूसरे नंबर पर होती है। ऐसा रसलिंग काठमांडो (नेपाल) में है। स्वर्ण (सोना) और पारे से निर्मित शिवलिंग ही रसलिंग महाशिवलिंग मानी जाती है। पशुपति नाथ मंदिर काठमांडो (नेपाल) के पैटर्न पर ही सहस्त्रधाम गौरी शंकर मंदिर में पूजा अर्चना की जाती है।

 

 

 

नगला मंदिर (Nagla temple)

 

नगला मंदिर बदायूं जिले मे स्थित एक प्राचीन मंदिर है। काली देवी मां को समर्पित यह मंदिर लगभग 800 साल पुराना है। यह एक प्राचीन शक्तिपीठ मानी जाती है। नवरात्रों पर देवी मां के भक्तों की यहां काफी भीड़ रहती है।

 

 

 

 

उत्तर प्रदेश पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—

 

 

 

 

Leave a Reply