Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
नाकोड़ा जी का इतिहास – नाकोड़ा जी भैरव चालीसा

नाकोड़ा जी का इतिहास – नाकोड़ा जी भैरव चालीसा

नाकोड़ा जी तीर्थ जोधपुर से बाड़मेर जाने वाले रेल मार्ग के बलोतरा जंक्शन से कोई 10 किलोमीटर पश्चिम में लगभग 1500 फीट ऊंची पहाड़ियों से घिरी हुईं पवित्र घाटी के नाके पर स्थित है। इसके लगभग 7-8 किलोमीटर उत्तर में वैष्णवों का सुप्रसिद्ध खेड़ मंदिर, तथा एक किलोमीटर उत्तर पश्चिम में राजपूतों और भीलों का बन्तीवाला गांव मेवानगर और चारो तरफ ऐतिहासिक बीरमपुर खंडहर विद्यमान है।

नाकोड़ा जी तीर्थ का इतिहास

परम्परागत ख्याति और रूढिवादी दंतकथाओं के अनुसार नाकोड़ा का मुख्य स्थल भगवान पार्श्वनाथ जी का मंदिर है। जो लगभग 2400 वर्ष पूर्व बना था। और यह भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है। तथा इसकी पुष्टि करने के लिए नाकोड़ा पार्श्वनाथ तीर्थ नामक पुस्तिका के विद्वान लेखक श्री सुरजमल संघवी ने अजमेर के पास बडली नामक गांव के पास से प्राप्त 5 वी शताब्दी के एक शिलालेख का प्रमाण के रूप में उल्लेख किया है। जन श्रुतियों के अनुसार ईसा पूर्व तीसरी सदी मे नाकोर लैन और बीरमदत्त नामक दो राजपूत भाईयों ने नाकोर नगर (स्थान अनिश्चित) और बीरमपुर नामक नगर की स्थापना अपने अपने नामों से की थी। और जैन धर्म से प्रभावित होने के कारण उन नगरों के मध्य में में सुंदर जिनालयो का निर्माण कराया था। नाकोर नगर के जिनालयों मे उस समय मूल नायक के रूप में भगवान श्री सुविधिनाथ जी की मूर्ति की स्थापना हुई थी।

नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य
नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य




तत्पश्चात ईसा पूर्व पहली शताब्दी के प्रारंभ मे सम्राट के पौत्र सम्प्रति ने इस मंदिर का जीर्णोद्धार करवा कर आचार्य श्री सुहास्तिसूरीजी महाराज की देख रेख मे रखा। ईसा की प्रथम शताब्दी में उज्जैन के महान हिन्दू सम्राट विक्रमादित्य ने विद्याधर गच्छ के आचार्य श्री सिद्धसेन दिवाकर की निष्ठा मे भी इस तीर्थ का जिर्णोद्धार करवाया था। इसके बाद इस मंदिर का जिर्णोद्धार करवाने वालों में आचार्य श्रीमान तुंगसूरी का नाम भी आता है। सन् 396 ईसवीं के बाद यहां मूल नायक सुविधिनाथ जी के स्थान पर भगवान महावीर स्वामी की स्थापना की गई थी। सातवीं और आठवीं शताब्दियां जैन धर्म का स्वर्ण युग मानी जाती है। अतः स्वभाविक ही था कि इस समय में अनेकों बार इस तीर्थ का पुनः निर्माण और विकास हुआ।

ईसा की 13 वी सदी के प्रारंभ में जब यवन के हमलावर आलमशाह ने यहां आक्रमण किया तो बहुमूल्य प्रतिमाओं को बचाने के लिए उन्हें कालीदह नामक गुफा में छुपाया गया। उस समय यहां मूल नायक के रूप में सुविधिनाथ और महावीर स्वामी का नहीं बल्कि भगवान पार्श्वनाथ जी का उल्लेख मिलता है। इस आक्रमण के फलस्वरूप नाकोर नगर और बीरमपुर नगर दोनों पूरी तरह तबाह कर दिए गए थे। फलतः इसके बाद के 200 वर्षों तक नाकोड़ा तीर्थ की गतिविधियों का भी कोई उल्लेख नहीं मिलता है। इस समय इस प्रदेश की राजधानी खेड़ पर गोयल वंशीय राजपूतों का शासन था। जिनकी अंतिम और बदनाम शासक पोपांबाई हुई, जिसकी कहावतें विश्व विख्यात हैं। कहते है कि इस पोपांबाई की पोल देखकर तेरहवीं सदी मे महान पराक्रमी राठौड़ों ने खेड़ पर चढाई कर तमाम गोयलो को मौत के घाट उतार कर यहा पर अधिकार जमा लिया और उनके रावल मल्लीनाथ जी जैसे कुशल शासकों के कारण इस क्षेत्र की पुनः उन्नति होने लगी। सुप्रसिद्ध वुर काव्य वीरनारायण के अनुसार रावल मल्लीनाथ जी के चार भाई थे, जिनमें से अत्यंत शूरवीर और पराक्रमी आदि पुरूष बीरमदेव ने अपने नाम पर बीरमपुर नामक नगर बसाया। जो शीघ्र ही उन्नति के शिखर पर पहुंच गया।




इस समय यहां जैनों की अच्छी बस्ती बस चुकी थी और सब सुखसम्मपन्न थे। अतः श्रृद्धालु भक्तों ने पुनः अपने प्राचीन खंडहर प्रायः जिनालयों के स्थान पर वर्तमान पार्श्वनाथ मंदिर का निर्माण करवाया। और कालीदह मे छुपी पड़ी 120 प्रतिमाओं को निकाल कर लाए तथा बड़ी धूम धाम से भगवान पार्श्वनाथ की 23 इंच ऊंची श्यामवर्गीय प्रतिमा को मूल नायक के रूप प्रतिष्ठित किया गया।




जैन मतानुसार भगवान तीर्थंकर बीतराग होते है। अतः वे किसी की पूजा आराधना से प्रसन्न और आराधना से रूष्ट नहीं होते, न ही वे किसी को वरदान या श्राप देते है। इसलिए सकाम भक्तों की मनोकामनाओं की पूर्ति और उन्हें बीतराग की आराधना का फल प्रदान करने के लिए प्रत्येक जिनालय में एक अधिष्ठायक देव की स्थापना की जाती है। यह देव मंदिर की रक्षा भी करते है। नाकोड़ा जी पार्श्वनाथ मंदिर के अधिष्ठायक देव है, श्री नाकोड़ा भैरव जी बहुत प्रसिद्ध और जागृत देव माने जाते है। भारत भर में फैले इनके श्रृदालु भक्त इनकी मिन्नत करके मनोवांछित फल प्राप्त करते है। बहुत से भक्त तो इन्हें इष्टदेव मानकर अपनी दुकान में इन के नाम की हिस्सेदारी रख कर अपनी कमाई की निश्चित आय नाकोड़ा जी भैरव के लिए सुरक्षित रखते है। और वर्ष के अंत में उसे भैरव जी की सेवा में जमा कर देते है। जिससे भैरव भोजन शाला आदि का प्रबंध और अनेकों शुभ कार्य चलते रहते है। वास्तव में यदि नाकोड़ा तीर्थ के मुख्य आकर्षण श्री भैरव को ही मान लिया जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी।

नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य
नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य





पार्श्वनाथ मंदिर के सामने कुछ दाहिनी और गगन चुंबी शिखर और संगमरमर की सीढियों वाला भगवान श्री शान्तिनाथ जी का मंदिर है। जिसकी सुंदरता और कारीगरी को देखकर आबू के दिलवाडा मंदिरों की याद ताजा हो जाती है। इस मंदिर के चारों ओर चार देहरिया बनी हुई है। जिसमें सर्व श्री भगवान पार्श्वनाथ जी, ऋषभदेव जी, नेमीनाथ जी, और महावीर स्वामी की प्रतिमाएं है। यद्यपि यह मंदिर काफी पुराना है। जिसका निर्माण सुखमालासी के सेठ मालाशाह ने सन् 1518 में अपनी वृद्ध माता के कहने से करवाया था। तथापि चारों देहरियो की प्रतिष्ठा वर्तमान तपागच्छ के आचार्य श्री हेमांचल सूरिश्वर जी महाराज ने सन 1960 में करवाई थी।




तीसरा बड़ा मंदिर भगवान ऋषभदेव का है। जिसमें उनकी तीन फुट ऊंची श्वेत वर्ण और अत्यंत आकर्षक प्रतिमा प्रतिष्ठित है। चौथा मंदिर ऋषभदेव मंदिर के सामने ही गणाधर श्री पुंडलिक स्वामी का है। जिसका निर्माण बलाणा निवासी सेठ भीकमचंद कानमलाणी की सहायता से हुआ था। इसके दाहिनी ओर श्री चौमुखाजी का छोटा सा मंदिर है। उपरोक्त जिनालयों के अलावा मुख्य पार्शवनाथ मंदिर से जुडा हुआ 16वी शताब्दी का बना हुआ श्री चारभुजा जी का वैष्णव मंदिर और पास ही 17वी शताब्दी का शिव मंदिर है। जो राठौडों की सब धर्मों पर समान भावना का प्रतीक है। इन के अलावा सातवीं सदी से लेकर आज तक की बनी हुई अनेकों प्रतिमाएं है। जो मंदिरों के अहातो और भूमि गृहों में सुरक्षित है।

नाकोड़ा जी का मेला




यूं तो यहां सालभर हजारों यात्रियों के आने जाने से मेला सा लगा रहता है। और हर पूर्णमासी को भी विशेष आयोजन रहता है। किन्तु इसके अलावा प्रति वर्ष मार्गशीर्ष वदि 10 को भगवान पार्श्वनाथ का जन्म कल्याण दिवस मनाया जाता है। इस दिन प्रति वर्ष भारत के कोने कोने से यहां यात्रियों का हुजूम आता है। इस दिन भगवान पार्श्वनाथ का जुलूस गाजेबाजे के साथ निकाला जाता है। जिसको नवकारसी निकालना कहते है। इसी दिन लाखों रूपये खर्च कर श्रृदालु सेठ नवकारसी भोज भी देते है। जिसमें खाने के लिए किसी को मनाही नहीं रहती। नाकोड़ा जी मेले मे आए हुए रंगबिरंगी पोषाक पहने स्त्री पुरूष व बच्चे, रंगबिरंगे सामयाने, रंगबिरंगी सजी दुकाने, कार मोटर घोडा गाडी आदि की भीड भाड को देखकर नाकोड़ा धाम की किसी भी लोक तीर्थ से तुलना की जा सकती है।

नाकोड़ा जी भैरव चालीसा




॥ दोहा ॥

पाश्वर्नाथ भगवान की, मूरत चित बसाए ॥

भैरव चालीसा लखू, गाता मन हरसाए ॥

।। चौपाई ।।

नाकोड़ा भैरव सुखकारी, गुण गाये ये दुनिया सारी ॥

भैरव की महिमा अति भारी, भैरव नाम जपे नर – नारी ॥

जिनवर के हैं आज्ञाकारी, श्रद्धा रखते समकित धारी ॥

प्रातः उठ जो भैरव ध्याता, ऋद्धि सिद्धि सब संपत्ति पाता ॥

भैरव नाम जपे जो कोई, उस घर में निज मंगल होई ॥

नाकोडा लाखों नर आवे, श्रद्धा से परसाद चढावे ॥

भैरव – भैरव आन पुकारे, भक्तों के सब कष्ट निवारे ॥

भैरव दर्शन शक्ति – शाली, दर से कोई न जावे खाली ॥

जो नर नित उठ तुमको ध्यावे, भूत पास आने नहीं पावे ॥

डाकण छूमंतर हो जावे, दुष्ट देव आडे नहीं आवे ॥

मारवाड की दिव्य मणि हैं, हम सब के तो आप धणी हैं ॥

कल्पतरु है परतिख भैरव, इच्छित देता सबको भैरव ॥

आधि व्याधि सब दोष मिटावे, सुमिरत भैरव शान्ति पावे ॥

बाहर परदेशे जावे नर, नाम मंत्र भैरव का लेकर ॥

चोघडिया दूषण मिट जावे, काल राहु सब नाठा जावे ॥

परदेशा में नाम कमावे, धन बोरा में भरकर लावे ॥

तन में साता मन में साता, जो भैरव को नित्य मनाता ॥

मोटा डूंगर रा रहवासी, अर्ज सुणन्ता दौड्या आसी ॥

जो नर भक्ति से गुण गासी, पावें नव रत्नों की राशि ॥

श्रद्धा से जो शीष झुकावे, भैरव अमृत रस बरसावे ॥

मिल जुल सब नर फेरे माला, दौड्या आवे बादल – काला ॥

वर्षा री झडिया बरसावे, धरती माँ री प्यास बुझावे ॥

अन्न – संपदा भर भर पावे, चारों ओर सुकाल बनावे ॥

भैरव है सच्चा रखवाला, दुश्मन मित्र बनाने वाला ॥

देश – देश में भैरव गाजे, खूटँ – खूटँ में डंका बाजे ॥

हो नहीं अपना जिनके कोई, भैरव सहायक उनके होई ॥

नाभि केन्द्र से तुम्हें बुलावे, भैरव झट – पट दौडे आवे ॥

भूख्या नर की भूख मिटावे, प्यासे नर को नीर पिलावे ॥

इधर – उधर अब नहीं भटकना, भैरव के नित पाँव पकडना ॥

इच्छित संपदा आप मिलेगी, सुख की कलियाँ नित्य खिलेंगी ॥

भैरव गण खरतर के देवा, सेवा से पाते नर मेवा ॥

कीर्तिरत्न की आज्ञा पाते, हुक्म – हाजिरी सदा बजाते ॥

ऊँ ह्रीं भैरव बं बं भैरव, कष्ट निवारक भोला भैरव ॥

नैन मूँद धुन रात लगावे, सपने में वो दर्शन पावे ॥

प्रश्नों के उत्तर झट मिलते, रस्ते के संकट सब मिटते ॥

नाकोडा भैरव नित ध्यावो, संकट मेटो मंगल पावो ॥

भैरव जपन्ता मालम – माला, बुझ जाती दुःखों की ज्वाला ॥

नित उठे जो चालीसा गावे, धन सुत से घर स्वर्ग बनावे ॥

॥ दोहा ॥

भैरु चालीसा पढे, मन में श्रद्धा धार ।

कष्ट कटे महिमा बढे, संपदा होत अपार ॥

जिन कान्ति गुरुराज के,शिष्य मणिप्रभ राय ।

भैरव के सानिध्य में,ये चालीसा गाय ॥

॥ श्री भैरवाय शरणम् ॥



प्रिय पाठकों नाकोड़ा भैरव तीर्थ पर आधारित हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताए। यह जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है।

राजस्थान पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—-

पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी
प्रिय पाठको जैसा कि आप सब जानते है। कि हम भारत के राज्य राजस्थान कीं सैंर पर है । और
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार
जैसलमेर के दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
जैसलमेर भारत के राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत और ऐतिहासिक नगर है। जैसलमेर के दर्शनीय स्थल पर्यटको में काफी प्रसिद्ध
अजमेर का इतिहास
अजमेर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्राचीन शहर है। अजमेर का इतिहास और उसके हर तारिखी दौर में इस
अलवर के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
अलवर राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत शहर है। जितना खुबसूरत यह शहर है उतने ही दिलचस्प अलवर के पर्यटन स्थल
उदयपुर दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
उदयपुर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख शहर है। उदयपुर की गिनती भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलो में भी
नाथद्वारा दर्शन धाम के सुंदर दृश्य
वैष्णव धर्म के वल्लभ सम्प्रदाय के प्रमुख तीर्थ स्थानों, मैं नाथद्वारा धाम का स्थान सर्वोपरि माना जाता है। नाथद्वारा दर्शन
कोटा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
चंबल नदी के तट पर स्थित, कोटा राजस्थान, भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। रेगिस्तान, महलों और उद्यानों के
कुम्भलगढ़ का इतिहास
राजा राणा कुम्भा के शासन के तहत, मेवाड का राज्य रणथंभौर से ग्वालियर तक फैला था। इस विशाल साम्राज्य में
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख जिला है। राजस्थान को महलों और भवनो की धरती भी कहा जाता
पुष्कर तीर्थ के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर जिले मे स्थित पुष्कर एक प्रसिद्ध नगर है। यह नगर यहाँ स्थित प्रसिद्ध पुष्कर
करणी माता मंदिर देशनोक के सुंदर दृश्य
बीकानेर जंक्शन रेलवे स्टेशन से 30 किमी की दूरी पर, करणी माता मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले के देशनोक शहर
बीकानेर के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोधपुर से 245 किमी, अजमेर से 262 किमी, जैसलमेर से 32 9 किमी, जयपुर से 333 किमी, दिल्ली से 435
जयपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भारत की राजधानी दिल्ली से 268 किमी की दूरी पर स्थित जयपुर, जिसे गुलाबी शहर (पिंक सिटी) भी कहा जाता
सीकर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सीकर सबसे बड़ा थिकाना राजपूत राज्य है, जिसे शेखावत राजपूतों द्वारा शासित किया गया था, जो शेखावती में से थे।
भरतपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भरतपुर राजस्थान की यात्रा वहां के ऐतिहासिक, धार्मिक, पर्यटन और मनोरंजन से भरपूर है। पुराने समय से ही भरतपुर का
बाड़मेर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
28,387 वर्ग किमी के क्षेत्र के साथ बाड़मेर राजस्थान के बड़ा और प्रसिद्ध जिलों में से एक है। राज्य के
दौसा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
दौसा राजस्थान राज्य का एक छोटा प्राचीन शहर और जिला है, दौसा का नाम संस्कृत शब्द धौ-सा लिया गया है,
धौलपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
धौलपुर भारतीय राज्य राजस्थान के पूर्वी क्षेत्र में स्थित है और यह लाल रंग के सैंडस्टोन (धौलपुरी पत्थर) के लिए
भीलवाड़ा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भीलवाड़ा भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख ऐतिहासिक शहर और जिला है। राजस्थान राज्य का क्षेत्र पुराने समय से
पाली के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
पाली राजस्थान राज्य का एक जिला और महत्वपूर्ण शहर है। यह गुमनाम रूप से औद्योगिक शहर के रूप में भी
जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोलोर जोधपुर से 140 किलोमीटर और अहमदाबाद से 340 किलोमीटर स्वर्णगिरी पर्वत की तलहटी पर स्थित, राजस्थान राज्य का एक
टोंक राजस्थान के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
टोंक राजस्थान की राजधानी जयपुर से 96 किमी की दूरी पर स्थित एक शांत शहर है। और राजस्थान राज्य का
राजसमंद पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
राजसमंद राजस्थान राज्य का एक शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। राजसमंद शहर और जिले का नाम राजसमंद झील, 17
सिरोही के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सिरोही जिला राजस्थान के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है। यह उत्तर-पूर्व में जिला पाली, पूर्व में जिला उदयपुर, पश्चिम में
करौली जिले के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
करौली राजस्थान राज्य का छोटा शहर और जिला है, जिसने हाल ही में पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है, अच्छी
सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सवाई माधोपुर राजस्थान का एक छोटा शहर व जिला है, जो विभिन्न स्थलाकृति, महलों, किलों और मंदिरों के लिए जाना
नागौर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के जोधपुर और बीकानेर के दो प्रसिद्ध शहरों के बीच स्थित, नागौर एक आकर्षक स्थान है, जो अपने
बूंदी आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
बूंदी कोटा से लगभग 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शानदार शहर और राजस्थान का एक प्रमुख जिला है।
बारां जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
कोटा के खूबसूरत क्षेत्र से अलग बारां राजस्थान के हाडोती प्रांत में और स्थित है। बारां सुरम्य जंगली पहाड़ियों और
झालावाड़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
झालावाड़ राजस्थान राज्य का एक प्रसिद्ध शहर और जिला है, जिसे कभी बृजनगर कहा जाता था, झालावाड़ को जीवंत वनस्पतियों
हनुमानगढ़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
हनुमानगढ़, दिल्ली से लगभग 400 किमी दूर स्थित है। हनुमानगढ़ एक ऐसा शहर है जो अपने मंदिरों और ऐतिहासिक महत्व
चूरू जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
चूरू थार रेगिस्तान के पास स्थित है, चूरू राजस्थान में एक अर्ध शुष्क जलवायु वाला जिला है। जिले को। द
गोगामेड़ी धाम के सुंदर दृश्य
गोगामेड़ी राजस्थान के लोक देवता गोगाजी चौहान की मान्यता राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, मध्यप्रदेश, गुजरात और दिल्ली जैसे राज्यों
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
शील की डूंगरी के सुंदर दृश्य
शीतला माता यह नाम किसी से छिपा नहीं है। आपने भी शीतला माता के मंदिर भिन्न भिन्न शहरों, कस्बों, गावों
सीताबाड़ी के सुंदर दृश्य
सीताबाड़ी, किसी ने सही कहा है कि भारत की धरती के कण कण में देव बसते है ऐसा ही एक
गलियाकोट दरगाह के सुंदर दृश्य
गलियाकोट दरगाह राजस्थान के डूंगरपुर जिले में सागबाडा तहसील का एक छोटा सा कस्बा है। जो माही नदी के किनारे
श्री महावीरजी धाम राजस्थान के सुंदर दृश्य
यूं तो देश के विभिन्न हिस्सों में जैन धर्मावलंबियों के अनगिनत तीर्थ स्थल है। लेकिन आधुनिक युग के अनुकूल जो
कोलायत धाम के सुंदर दृश्य
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम उस पवित्र धरती की चर्चा करेगें जिसका महाऋषि कपिलमुनि जी ने न केवल
मुकाम मंदिर राजस्थान के सुंदर दृश्य
मुकाम मंदिर या मुक्ति धाम मुकाम विश्नोई सम्प्रदाय का एक प्रमुख और पवित्र तीर्थ स्थान माना जाता है। इसका कारण
कैला देवी मंदिर फोटो
माँ कैला देवी धाम करौली राजस्थान हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहा कैला देवी मंदिर के प्रति श्रृद्धालुओं की
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के दक्षिण भाग में उदयपुर से लगभग 64 किलोमीटर दूर उपत्यकाओं से घिरा हुआ तथा कोयल नामक छोटी सी
एकलिंगजी टेम्पल के सुंदर दृश्य
राजस्थान के शिव मंदिरों में एकलिंगजी टेम्पल एक महत्वपूर्ण एवं दर्शनीय मंदिर है। एकलिंगजी टेम्पल उदयपुर से लगभग 21 किलोमीटर
हर्षनाथ मंदिर के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के सीकर से दक्षिण पूर्व की ओर लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर हर्ष नामक एक
रामदेवरा धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान की पश्चिमी धरा का पावन धाम रूणिचा धाम अथवा रामदेवरा मंदिर राजस्थान का एक प्रसिद्ध लोक तीर्थ है। यह
केशवरायपाटन मंदिर के सुंदर दृश्य
केशवरायपाटन अनादि निधन सनातन जैन धर्म के 20 वें तीर्थंकर भगवान मुनीसुव्रत नाथ जी के प्रसिद्ध जैन मंदिर तीर्थ क्षेत्र
गौतमेश्वर महादेव धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के दक्षिणी भूखंड में आरावली पर्वतमालाओं के बीच प्रतापगढ़ जिले की अरनोद तहसील से 2.5 किलोमीटर की दूरी
रानी सती मंदिर झुंझुनूं के सुंदर दृश्य
सती तीर्थो में राजस्थान का झुंझुनूं कस्बा सर्वाधिक विख्यात है। यहां स्थित रानी सती मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां सती
ओसियां के दर्शनीय स्थल
राजस्थान के पश्चिमी सीमावर्ती जिले जोधपुर में एक प्राचीन नगर है ओसियां। जोधपुर से ओसियां की दूरी लगभग 60 किलोमीटर है।
डिग्गी कल्याण जी मंदिर के सुंदर दृश्य
डिग्गी धाम राजस्थान की राजधानी जयपुर से लगभग 75 किलोमीटर की दूरी पर टोंक जिले के मालपुरा नामक स्थान के करीब
रणकपुर जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
सभी लोक तीर्थों की अपनी धर्मगाथा होती है। लेकिन साहिस्यिक कर्मगाथा के रूप में रणकपुर सबसे अलग और अद्वितीय है।
लोद्रवा जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
भारतीय मरूस्थल भूमि में स्थित राजस्थान का प्रमुख जिले जैसलमेर की प्राचीन राजधानी लोद्रवा अपनी कला, संस्कृति और जैन मंदिर
गलताजी टेम्पल जयपुर के सुंदर दृश्य
नगर के कोलाहल से दूर पहाडियों के आंचल में स्थित प्रकृति के आकर्षक परिवेश से सुसज्जित राजस्थान के जयपुर नगर के
सकराय माता मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के सीकर जिले में सीकर के पास सकराय माता जी का स्थान राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.