Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
धुबरी साहिब असम – श्री गुरू तेग बहादुर गुरूद्वारा धुबरी असम

धुबरी साहिब असम – श्री गुरू तेग बहादुर गुरूद्वारा धुबरी असम

गुरूद्वारा श्री तेगबहादुर साहिब या धुबरी साहिब भारत के असम राज्य के धुबरी जिले में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे स्थित हैं। सिक्खों के प्रथम गुरू श्री गुरू नानक देव जी की याद में धुबरी में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे बनाया गया था। सन् 1505 में सिक्ख धर्म के संस्थापक श्री गुरू नानक देव जी आसाम से धनपुर होते हुए, महापुरुष श्रीमन्ता शंकर देवा के साथ यहां रूके थे

गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब का इतिहास

गुरू जी ने यहाँ लोगों से बातचीत करके कहा कि तंत्र विद्या को छोड़कर आपस में मिलकर एक धर्म बनाये, और एक भगवान की पूजा करें, और इन काला जादू और काली विद्याओं को छोड़ दे। अपनी आसाम यात्रा के दौरान सिक्खों के नवें गुरू गुरू तेगबहादुर जी धुबरी साहिब में आएं। और 17 वी शताब्दी में यहां गुरूद्वारा धुबरी साहिब की स्थापना की। जयपुर के राजा रामसिंह के साथ इस स्थान पर गुरू तेगबहादुर जी घूमने आये।

मुगलों के समय में मुगल और अहोम में लड़ाई छिड़ गई। आसाम में बहुत से मुगलों को पकड़ लिया गया। सन् 1667 में गुवाहाटी और कामाख्या जैसे पावन स्थल और उनके आसपास के स्थानों को घेर लिया गया। राजा राम सिंह ने सन् 1669 में मुगल जनरल अम्बर को हराया था। अहोम लड़ाई के शस्त्रों से पूरी तरह सुसज्जित था।

गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी साहिब के सुंदर दृश्य

वह जानते थे कि राजा रामसिंह के माता पिता गुरू तेगबहादुर के सिद्धांतों पर चलते है। राजा रामसिंह ने गुरू तेग बहादुर से प्रार्थना की कि इस लड़ाई में वह उनका साथ दे। गुरू तेगबहादुर ने स्वीकृति दे दी और अंदर ही अंदर राजा रामसिंह की सहायता की। इस लड़ाई में राजा रामसिंह को पकड़ लिया गया और उनके साथ उनका पुत्र शिवाजी और उनका बेटा पकड़ा गया।

कामरूप में पहुंचते ही गुरू तेगबहादुर धुबरी में पकड़े गये। राजा रामसिंह और उनके सैनिक सहित रंगमति किले में बंदी बनाये गये। आसाम की औरतों ने काला जादू और तंत्र विद्या का मंत्र पढ़ना शुरू किया। उस मंत्र से 25 फिट लम्बा एक पत्थर हवा में लहराते हुए गुरू तेगबहादुर के पास आकर जमीन में आधा धंस और वहीं पर खड़ा हो गया। और उनकी तंत्र विद्या फेल हो गयीं।

जब पत्थर ने अपना काम नहीं किया, तब वहां की औरतें गुरू तेगबहादुर जी के पास जाकर क्षमा याचना करने लगी। गुरू तेगबहादुर ने दोनों शासकों से पूछा कि लड़ाई के परिणाम से क्या मिला। तब अहोम के राजा ने गुरू तेगबहादुर को कामख्या मंदिर में बुलाया, वहां उनका बहुत आदर सम्मान किया गया।

धुबरी में ब्रह्मपुत्र नदी के किनारे यह गुरूद्वारा काफी बड़े क्षेत्र मे फैला हुआ है, और सफेद रंग में बहुत ही सुंदर व आकर्षक दिखाई पड़ता है। धुबरी साहिब गुरूद्वारे का प्रवेश द्वार बहुत ही अद्भुत है। जिसे चढने के लिए बहुत सी सीढियां बनी है, जो लाल रंग से रंगी है। मुख्य द्वार से अंदर जाते ही बहुत बड़ा खुला हुआ आंगन है। जहाँ गुरू साहिब का दरबार लगता था।आंगन के एक किनारे श्री गुरू ग्रंथ साहिब पालकी साहिब में विराजमान है। जो गैलरी से सीधे सामने की ओर दिखाई देता हैं। जहाँ पवित्र ग्रंथ साहिब रखे है, उसके ठीक बाई ओर अष्टभुजाकार अर्धगोलाकार छत है। गुरू तेगबहादुर जी यही पर पवित्र ग्रंथ साहिब लिखा करते थे।

पूरे गुरूद्वारा धुबरी साहिब की बनावट महल की तरह है। निचला भाग सफेद पत्थर का बना हैं। और छत पर प्लास्टर पर सफेद पेंट किया हुआ है। पूरे भारत वर्ष से सभी जाति धर्म के लोग दिसंबर माह में यहां विशेष रूप से आते है और गुरू तेग बहादुर जी की वर्षगांठ मनाते है। सिक्ख धर्म के भक्तगण इस दिन को शहीदी गुरू पर्व के नाम से मनाते है। गुरूद्वारा गुरू तेग बहादुर धुबरी में जूताघर, लंगर हाल, प्रसाद घर, अतिथि गृह और कार्यालय स्थापित है।

हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—

श्री मुक्तसर साहिब का गुरूद्वारा

श्री चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा

श्री नानकसर कलेंरा जगराओं

श्री दुख निवारण साहिब पटियाला

श्री तरनतारन साहिब का इतिहास

श्री मंजी साहिब गुरूद्वारा कैथल हरियाणा

श्री दमदमा साहिब का इतिहास

गुरूद्वारा कमेटी द्वारा वर्ष में गुरु नानक जयंती, गुरू तेग बहादुर जयंती, होला मोहल्ला, वैशाखी एवं अन्य पर्व धुबरी साहिब में बडी धूम धाम से मनाये जाते है।

श्री गुरू तेग बहादुर साहिब गुरूद्वारा धुबरी पहुचनें का मार्ग सड़कों से अच्छी तरह जुडा हुआ है। यह असम की राजधानी गुवाहाटी से 265 किलोमीटर की दूरी पर है। ट्रेन से पहुंचने के लिए धुबरी में स्वयं का एक रेलवे स्टेशन है। निकटतम हवाई अड्डा एल.जी.बी.आई गुवाहाटी है।

भारत के प्रमुख गुरूद्वारों पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—-

पटना साहिब के फोटो
बिहार की राजधानी पटना शहर एक धार्मिक और ऐतिहासिक शहर है। यह शहर सिख और जैन धर्म के अनुयायियों के
हेमकुंड साहिब के सुंदर दृश्य
समुद्र तल से लगभग 4329 मीटर की हाईट पर स्थित गुरूद्वारा श्री हेमकुंड साहिब (Hemkund Sahib) उतराखंड राज्य (Utrakhand state)
नानकमत्ता साहिब के सुंदर दृश्य
नानकमत्ता साहिब सिक्खों का पवित्र तीर्थ स्थान है। यह स्थान उतराखंड राज्य के उधमसिंहनगर जिले (रूद्रपुर) नानकमत्ता नामक नगर में
शीशगंज साहिब गुरूद्वारे के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शीशगंज साहिब एक ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण गुरुद्वारा है जो सिक्खों के नौवें गुरु तेग बहादुर को समर्पित है।
आनंदपुर साहिब के सुंदर दृश्य
आनंदपुर साहिब, जिसे कभी-कभी बस आनंदपुर आनंद का शहर" कहा जाता है के रूप में संदर्भित किया जाता है, यह
हजूर साहिब नांदेड़ के सुंदर दृश्य
हजूर साहिब गुरूद्वारा महाराष्ट्र राज्य के नांदेड़ जिले में स्थापित हैं। यह स्थान गुरु गोविंद सिंह जी का कार्य स्थल
स्वर्ण मंदिर अमृतसर के सुंदर दृश्य
स्वर्ण मंदिर क्या है? :- स्वर्ण मंदिर सिक्ख धर्म के अनुयायियों का धार्मिक केन्द्र है। यह सिक्खों का प्रमुख गुरूद्वारा
दुख भंजनी बेरी के सुंदर दृश्य
दुख भंजनी बेरी ट्री एक पुराना बेर का पेड़ है जिसे पवित्र माना जाता है और इसमें चमत्कारी शक्ति होती
श्री अकाल तख्त साहिब अमृतसर के सुंदर दृश्य
यह ऐतिहासिक तथा पवित्र पांच मंजिलों वाली भव्य इमारत श्री हरमंदिर साहिब की दर्शनी ड्योढ़ी के बिल्कुल सामने स्थित है।
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा बाबा अटल राय जी अमृतसर का एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। हर साल हरमंदिर साहिब जाने वाले लाखों तीर्थयात्रियों में
पांवटा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा पांवटा साहिब, हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले के पांवटा साहिब में एक प्रसिद्ध गुरुद्वारा है। पांवटा साहिब पर्यटन स्थल
तख्त श्री दमदमा साहिब के सुंदर दृश्य
यह तख्त साहिब भटिंडा ज़िला मुख्यलय से 35 किमी दूर तलवांडी साबो में बस स्टेशन के बगल में स्थापित है
गुरू ग्रंथ साहिब
जिस तरह हिन्दुओं के लिए रामायण, गीता, मुसलमानों के लिए कुरान शरीफ, ईसाइयों के लिए बाइबल पूजनीय है। इसी तरह
पांच तख्त साहिब के सुंदर दृश्य
जैसा की आप और हम जानते है कि सिक्ख धर्म के पांच प्रमुख तख्त साहिब है। सिक्ख तख्त साहिब की
खालसा पंथ
"खालसा पंथ" दोस्तों यह नाम आपने अक्सर सुना व पढ़ा होगा। खालसा पंथ क्या है। आज के अपने इस लेख
गुरूद्वारा गुरू का महल के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा गुरू का महल कटड़ा बाग चौक पासियां अमृतसर मे स्थित है। श्री गुरू रामदास जी ने गुरू गद्दी काल
गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब के सुंदर दृश्य
गुरुद्वारा शहीदगंज साहिब बाबा दीप सिंह जी सिक्खों की तीर्थ नगरी अमृतसर में स्थित है। गुरूद्वारा शहीदगंज साहिब वह जगह
लोहगढ़ साहिब के सुंदर दृश्य
अमृतसर शहर के कुल 13 द्वार है। लोहगढ़ द्वार के अंदर लोहगढ़ किला स्थित है। तत्कालीन मुगल सरकार पर्याप्त रूप
सिख धर्म के पांच ककार
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम सिख धर्म के उन पांच प्रतीक चिन्हों के बारें में जानेंगे, जिन्हें धारण
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब के सुंदर दृश्य
तरनतारन गुरूद्वारा साहिब, भारत के पंजाब राज्य में एक शहर), जिला मुख्यालय और तरन तारन जिले की नगरपालिका परिषद है।
गुरूद्वारा मंजी साहिब आलमगीर लुधियाना के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा मंजी साहिब लुधियाना के आलमगीर में स्थापित है। यह स्थान लुधियाना रेलवे स्टेशन से 16 किलोमीटर की दूरी पर
मंजी साहिब गुरुद्वारा, नीम साहिब गुरूद्वारा कैथल के सुंदर दृश्य
मंजी साहिब गुरूद्वारा हरियाणा के कैथल शहर में स्थित है। कैथल भारत के हरियाणा राज्य का एक जिला, शहर और
दुख निवारण साहिब पटियाला के सुंदर दृश्य
दुख निवारण गुरूद्वारा साहिब पटियाला रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड से 300 मी की दूरी पर स्थित है। दुख निवारण
गोइंदवाल साहिब के सुंदर दृश्य
गुरू श्री अंगद देव जी के हुक्म से श्री गुरू अमरदास जी ने पवित्र ऐतिहासिक नगर श्री गोइंदवाल साहिब को
नानकसर साहिब कलेरा जगराओं के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानकसर कलेरा जगराओं लुधियाना जिले की जगराओं तहसील में स्थापित है।यह लुधियाना शहर से 40 किलोमीटर और जगराओं से
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब माछीवाड़ा के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा चरण कंवल साहिब लुधियाना जिले की माछीवाड़ा तहसील में समराला नामक स्थान पर स्थित है। जो लुधियाना शहर से
मुक्तसर साहिब के सुंदर दृश्य
मुक्तसर फरीदकोट जिले के सब डिवीजन का मुख्यालय है। तथा एक खुशहाल कस्बा है। यह प्रसिद्ध तीर्थ स्थान भी है।
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब के सुंदर दृश्य
गुरूद्वारा नानक झिरा साहिब कर्नाटक राज्य के बीदर जिले में स्थित है। यह सिक्खों का पवित्र और ऐतिहासिक तीर्थ स्थान

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.