Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
तिरूवातिरा कली नृत्य फेस्टिवल केरल की जानकारी हिन्दी में

तिरूवातिरा कली नृत्य फेस्टिवल केरल की जानकारी हिन्दी में

तिरूवातिरा केरल का एक प्रसिद्ध त्यौहार है। मलयाली कैलेंडर (कोला वर्षाम) के पांचवें महीने धनु में क्षुद्रग्रह पर तिरुवातिरा मनाया जाता है। यह ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार दिसम्बर-जनवरी के महीने के अनुरूप है।
तिरुवातिरा मुख्य रूप से महिलाओं का त्यौहार है। इस दिन देवियों और भगवान शिव की पूजा की जाती हैं, और वैवाहिक सद्भाव और वैवाहिक आनंद के लिए प्रार्थना करते हैं। त्यौहार का दूसरा बहुत ही दिलचस्प पहलू इस दिन महिलाओं द्वारा प्रदर्शन किया जाने वाला मनमोहक तिरुवातिरा कली नृत्य है। जो सामूहिक रूप से महिलाओं द्वारा प्रस्तुत किया जाता हैं।

 

 

 

तिरूवातिरा त्यौहार का महत्व और क्यों मनाया जाता है

 

तिरुवातिरा काफी समय और दीर्घायु आयु के लिए मनाया जा रहा है, लेकिन त्यौहार की उत्पत्ति के बारे में कोई स्पष्ट सिद्धांत नहीं है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार प्यार के देवता कामदेव की मौत मनाने के लिए महोत्सव मनाया जाता है। कुछ लोग इस दिन भगवान शिव की पूजा करने के लिए शुभ मानते हैं और सूर्योदय से पहले स्थानीय शिव मंदिर में दर्शन करते हैं। कुछ का मानना ​​है कि तिरुवथिरा भगवान शिव का जन्मदिन है। यह ध्यान दिया जा सकता है कि तमिलनाडु का अर्द्रा दर्शन उत्सव केरल के तिरुवातिरा त्यौहार से मेल खाता है।

 

 

 

तिरूवातिरा नृत्य फेस्टिवल के सुंदर दृश्य
तिरूवातिरा नृत्य फेस्टिवल के सुंदर दृश्य

 

 

 

 

तिरूवातिरा कैसे मनाया जाता है

 

 

तिरुवातिरा का त्योहार महिलाओं के बीच बेहद लोकप्रिय है, और विशेष रूप से अधिकतर नायर समुदाय की महिलाओं में। तिरुवातिरा का त्यौहार सुबह जल्दी शुरू होता हैं। सर्दियों के मौसम की ठंडी ठंड के बावजूद महिलाएं सुबह 4 बजे उठती हैं और नदी के पानी में स्नान करती हैं। स्नान करने के दौरान महिलाएं अपनी मुट्ठी मे पानी लेकर छिड़कनती है, पानी के छिडकने से उत्पन्न लय पर भगवान कामदेव की पूजा में गीत गाती हैं। अंत में, महिलाएं एक सर्कल के रूप में एक दूसरे हाथ पकड़कर नृत्य करती हैं और गाने गाती हैं। इस नृत्य को तिरूविथिरा कली नृत्य कहा जाता है।

 

महिलाएं तिरुवथिरा पर उपवास भी करती हैं। चावल के भोजन के बजाय वे चाय के अलावा चामा (पैनिकम मिलिशियाम) या गेहूं की तैयारी करते हैं। इस दिन सुपारी की पत्तियों को खाने की परंपरा भी है। नंबूदिरीस, अंबलवासियों और नायर समुदायो में दिन में 108 बेटेल पत्तियों को खाने की परंपरा है।

 

 

केरल के प्रमुख त्यौहारों पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—

ओणम पर्व की रोचक जानकारी हिन्दी में

 

विशु पर्व की जानकारी

 

थेय्यम नृत्य फेस्टिवल की जानकारी

 

केरल नौका दौड महोत्सव

 

अट्टूकल पोंगल फेस्टिवल
विवाह के बाद पडने वाले पहले तिरुवातिरा महोत्सव को पुतेन तिरुवातिरा या पुथिरुवाथिरा कहा जाता है। यह नव विवाहित महिलाओं के लिए और अधिक महत्व रखता है और बड़े पैमाने पर आनन्द और उत्सव के साथ मनाया जाता है।

 

 

नंबूदिरिस, अंबलवाड़ी और नायर्स के समुदायों में, नंबोडिरियों के साथ घनिष्ठ संबंध होने पर परंपरा ‘पाथिरप्पुचुडाल’ कहा जाता है, जिसका अर्थ है ‘मध्यरात्रि के फूल पहनना’। तिरुवातिरा की मध्यरात्रि में घर के केंद्रीय आंगन में भगवान शिव की एक छवि रखी जाती है। फूलों, बागानों और गुड़ की एक भेंट इस छवि को दी जाती है।

 

 

तब महिलाएं भगवान शिव की छवि के चारों ओर बहुत ही सुरुचिपूर्ण तिरुवातिरा कली या काकोट्टिकली करती हैं जो भगवान को दी गई भेंट से उठाए गए फूल पहने हुए होती हैं। महिलाएं इस दिन ओंजल (स्विंग) खेलकर खुद का आनंद भी लेती हैं। तिरुवातिरा उत्सव की रात को महिलाएं एक सर्कल में तिरुवथिरक्कली का प्रदर्शन करती हैं, जिसमें एक हल्का पीतल का दीपक रखा जाता है। महिलाओं को गीत के ताल पर नाचने और थिरकते हूए एक अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करती है।

 

 

 

 

तिरूवातिरा कली नृत्य फेस्टिवल, तिरूवातिरा त्योहार, तिरूवातिरा उत्सव, पर आधारित हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं। यह जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है।

 

 

 

 

केरल के टॉप 10 फेस्टिवल

 

 

आफिस के काम का बोझ   शहर की भीड़ भाड़ और चिलचिलाती गर्मी से मन उब गया तो हमनें लम्बी
गणतंत्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है । अगर पर्यटन की
पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
बर्फ से ढके पहाड़ सुहावनी झीलें, मनभावन हरियाली, सुखद जलवायु ये सब आपको एक साथ एक ही जगह मिल सकता
हिमालय के नजदीक बसा छोटा सा देश नेंपाल। पूरी दुनिया में प्राकति के रूप में अग्रणी स्थान रखता है ।
नैनीताल मल्लीताल, नैनी झील
देश की राजधानी दिल्ली से लगभग 300किलोमीटर की दूरी पर उतराखंड राज्य के कुमांऊ की पहाडीयोँ के मध्य बसा यह
मसूरी के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
उतरांचल के पहाड़ी पर्यटन स्थलों में सबसे पहला नाम मसूरी का आता है। मसूरी का सौंदर्य सैलानियों को इस कदर
कुल्लू मनाली पर्यटन :- अगर आप इस बार मई जून की छुट्टियों में किसी सुंदर हिल्स स्टेशन के भ्रमण की
हर की पौडी हरिद्वार
उत्तराखंड राज्य में स्थित हरिद्वार जिला भारत की एक पवित्र तथा धार्मिक नगरी के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है।
भारत का गोवा राज्य अपने खुबसुरत समुद्र के किनारों और मशहूर स्थापत्य के लिए जाना जाता है ।गोवा क्षेत्रफल के

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.