Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल – झुंझुनूं के टॉप 5 दर्शनीय स्थल

झुंझुनूं के पर्यटन स्थल – झुंझुनूं के टॉप 5 दर्शनीय स्थल

झुंझुनूं भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख जिला है। राजस्थान को महलों और भवनो की धरती भी कहा जाता है। यहां की धरती पर महलों , भवनो और सुंदर मंदिरों की संख्या बहुत अधिक है। अतीत के गौरवशाली और विविध राजतंत्रो ने राजस्थान को चमकाने मे इन्हें बहुतायत मे बनाया है। झुंझुनूं के पर्यटन स्थल भी इसी कडी का एक हिस्सा है। वैसे तो झुंझुनूं के दर्शनीय स्थलों में अनेक स्नान है। लेकिन हम यहां आपको झुंझुनूं के टॉप 5 आकर्षक स्थलों के बारे में विस्तार से बताएंगे। इससे पहले झुंझुनूं के बारे मे जान लेते है।

झुंझुनूं के बारे में

झुनझुनू एक प्रसिद्ध जिला और राजस्थान में स्थित एक शहर है। इस खूबसूरत शहर की स्थापना 1730 तक कम्खानी नवाबों द्वारा की गई थी और इस पर शासन किया गया था। इस राजवंश का झुनझुनू पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा और 280 वर्षों तक लगातार शासन किया। अपने पूरे शासनकाल में, शेखावती क्षेत्र में स्थित हवेली समेत विभिन्न वास्तुकला के भव्य भवन व इमारतें बनाई गई। वर्तमान में, झुनझुनू पर्यटकों की एक बड़ी संख्या को अपनी ओर आकर्षित करता है।
झुनझुनू समुद्र तल से 1,060 फीट ऊपर स्थित है। यह शेखावती के क्षेत्र में स्थित है जो गर्म और सुनहरे रेत के नजदीक स्थित है। इसके स्थान के कारण, झुनझुनू में आर्द्र जलवायु का सामना करना पड़ता है। पूरे साल,यहां का औसत तापमान 33 डिग्री सेल्सियस -46 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। ग्रीष्म ऋतु के दौरान दिन अधिक गर्म होते हैं, लेकिन सर्दियों के दौरान यहां का मौसम सुखद व हल्का गर्म होता हैं। मॉनसून के दौरान इस शहर और जिले में वर्षा कम होती है।
चाहे वे किले या हवेली हों, एक यात्री को झुनझुनू में रुचि के विभिन्न स्थानों को मिल जाएगें। जिन्हें देखने के लिए यहा प्रति वर्ष हजारो पर्यटक आते है।

 

झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य

 

 

 

झुंझुनूं के पर्यटन स्थल – झुंझुनूं के टॉप 5 दर्शनीय स्थल

 

रानी सती मंदिर

 

झुनझुनू में श्री रानीसती मंदिर का इतिहास 400 से अधिक वर्षों का है, और यह इतिहास की समृद्ध कहानियों के साथ महिला बहादुरी और मातृत्व की कमांडिग गवाही है जो सभी पर्यटकों की कल्पना को आकर्षित करता है। यह भारत के विशाल कृत्रिम मंदिरों में गिना जाता है, झुनझुनू में रानीसाती मंदिर अपने चित्रों के लिए प्रसिद्ध है। यह देश की सबसे शुरुआती तीर्थयात्राओं में से एक है। यहा की आकर्षक ऐतिहासिक कलाकृति अद्वितीय है। शहर के बीचोंबीच स्थित रानी सती टेपल बाहर से देखने मे किसी किले से कम नही लगता। रानी सती मंदिर के अलावा पास में हनुमान मंदिर , सीता मंदिर ,गणेश मंदिर, शिव मंदिर है।
हर आरती के बाद प्रसाद वितरित करने की तैयारी होती है। भक्तो के लिए प्रसादी का प्रयोजन किया जाता है।
मारवाड़ी लोगो की मान्यता है की रानी सती माँ दुर्गा का अवतार है। मारवाड़ी परिवार और रानी सती भक्त अपने अपने घरो में रानी सती मैया की पूजा करते है।
इस मंदिर की बहूत मान्यता है की यहा पे बहूत जल्दी मुरादे पूरी होती है। बुरे समय में अपने बच्चो को मैया ने बहूत बार संभाला है।
इस मंदिर में 13 सति मंदिर है, जिसमे 12 छोटे और 1 बड़ा जो रानी सती का है, पास में हरि बगीची में भगवन शिव की प्रतिभा बहूत सुन्दर लगती है। झुंझुनूं के पर्यटन स्थल मे रानी सती मंदिर का प्रमुख स्थान है।

 

मोदी और तीबरवाल हवेली

यह दोनों हवेली झुनझुनू के मुख्य बाजार में स्थित हैं। लगभग 16 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में इन हवेलियों की नींव ईंटों के साथ रखी गई थी। हवेली शानदार वास्तुकला कला और डिजाइन का उत्कृष्ट नमूना है। हवेली अपनी उम्र के साथ वहां खड़ी है और कई ऐतिहासिक कहानियों के लिए गवाह रही है। झुंझुनूं के पर्यटन स्थल मे इसका महत्वपूर्ण योगदान है। झुनझुनू में इसके अलावा भी बहुत सारी हवेली हैं। इनमें से सबसे लोकप्रिय ईश्वरस मोहनदास मोदी हवेली, कनिरम नरसिघदास तिब्रूवाला हवेली और नारुद्दीन फारूकी हवेली हैं।
झुनझुनू में सभी हवेली दीवारों पर रंगीन फ्रेस्को काम करते हैं और कई बार छत पर भी काम करते हैं। यदि आप फ्र्रेस्को और चित्रकारी के प्रशंसक हैं, तो आप इनमें से किसी भी सुंदर भवन पर जाने से चूकना नहीं चाहेंगे। शेखावती पेंटिंग्स यहां आर्टवर्क का एक बड़ा हिस्सा हैं।

 

हमारे यह लेख भी जरूर पढे:—

हवा महल का इतिहास

सीटी पैलेस जयपुर

अजमेर का इतिहास

जोधपुर के पर्यटन स्थल

मांउट आबू के दर्शनीय स्थल

कुम्भलगढ़ का किला

खेतड़ी महल

खेतड़ी महल झुंझुनूं के पर्यटन स्थल व इमारतों मे बहुत की खुबसूरत महल है। खेतड़ी महल का निर्माण भोपाल सिंह द्वारा लगभग 1770 में किया गया था। भोपाल सिंह शार्दुल सिंह का पोता था। यह पता चला है कि प्रसिद्ध खेतड़ी महल किसी भी प्रकार के दरवाजे या खिड़कियां से रहित है इसीलिए इसे हवा महल के रूप में जाना जाता है। जयपुर के सवाई प्रताप सिंह इस अनोखी संरचना से इतने प्रेरित हुए कि 1799 में भव्य और ऐतिहासिक हवा महल का निर्माण जयपुर में किया। खेतड़ी उस समय का दूसरा सबसे धनी ‘ठिकाना’ जयपुर के तहत माना जाता था।

 

झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य

 

कमरूद्दीन शाह की दरगाह

कामरुद्दीन शाह की दरगाह एक पहाड़ी की तलहटी मे स्थित एक परिसर है, जिसे काना पहाड़ कहा जाता है। यह दरगाह मुस्लिम संत, कामरुद्दीन का मकबरा है और 1 9वीं शताब्दी के मध्य में बनाया गया था। इसमें एक मस्जिद, मदरसा, मेहफिल्खाना या कॉन्सर्ट हॉल और एक रैंप है, जो प्रयुक्त गेटवे की ओर जाता है। आंगन के चारों ओर, पुष्प चित्र आकृति के कुछ निशान अभी भी दिखाई दे रहे हैं। परिसर के भीतर, मेजर फोस्टर के शिशु पुत्र के लिए संरचना की तरह एक छोटा पिरामिड बनाया गया था, जिसकी मृत्यु 1841 में हुई थी। झुंझुनूं के पर्यटन स्थल की सैर पर आने वाले पर्यटक यहां जरूर आते है।

 

मेड़तनी की बावड़ी

मेड़तनी की बावडी झुंझुनूं के पर्यटन स्थल व झुंझुनूं के दर्शनीय स्थलो मे प्रमुख स्थान है। यह अच्छी तरह से 1783 में बनाया गया था और लगभग 30 मीटर गहरा है। कई मेहराब वाली बावड़ी सरदार सिंह (खेत्री के संस्थापक) की विधवा मेड़तनी ने बनाई थी।

 

 

झुंझुनूं के पर्यटन स्थल, झुंझुनूं के दर्शनीय स्थल, झुंझुनूं के टूरिस्ट प्लेस, झुंझुनूं की यात्रा, झुंझुनूं की ऐतिहासिक इमारते, झुंझुनूं पर्यटन आदि शीर्षक पर आधारित हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमे कमेंट करके जरूर बताएँ। यह जानकारी आप अपने दोस्तो के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है।

write a comment