Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
जालोर का इतिहास – जालोर के टॉप पर्यटन, धार्मिक, ऐतिहासिक स्थल

जालोर का इतिहास – जालोर के टॉप पर्यटन, धार्मिक, ऐतिहासिक स्थल

जोलोर जोधपुर से 140 किलोमीटर और अहमदाबाद से 340 किलोमीटर स्वर्णगिरी पर्वत की तलहटी पर स्थित, राजस्थान राज्य का एक खूबसूरत व ऐतिहासिक शहर और जिला है। हाल ही के दिनों में, विशेष रूप से जलोरे जिले में औद्योगिक विकास विश्व प्रसिद्ध ग्रेनाइट टाइल्स और स्लैब के कारण उल्लेखनीय रहा है। वर्तमान में 500 इकाइयां उच्च गुणवत्ता वाले ग्रेनाइट उत्पादों का उत्पादन कर रही हैं। यह राज्य के लिए अच्छा राजस्व कमाता है; इसलिए यह राज्य के प्रमुख शहरों में से एक है। जालोर पर्यटन के क्षेत्र मे भी राजस्थान राज्य में मुख्य भूमिका निभाता है। जालोर का किला और सुधा माता मंदिर जैसे राजस्थान के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल जालोर जिले मे ही स्थित है। जिनके बारें मे हम नीचे विस्तार से जानेगें। लेकिन इससे पहले एक नजर जालोर के इतिहास पर डाल लेते है।

 

 

 

जालोर का इतिहास ( History of jalore rajasthan)

 

 

जालोर के इतिहास की बात करे तो, जालोर महाऋषि जब्बाली की तपोभूमि (ध्यान की भूमि) रही है, प्राचीन समय में इसका नाम जबलपुर के नाम पर रखा गया था, आज इसे जालोर के नाम से जाना जाता है जो जिला मुख्यालय है।

 

प्रतिहार राजा नरेश नागगट्टिंद ने बंगाल की खाड़ी के अरब क्षेत्रों से अपने राज्य की सीमा का विस्तार किया। सोंगारा कौहंस जो अपने देश और उसके गौरव के लिए मरने के लिए तैयार थे, इसे लड़कर अपनी राजधानी बना दिया। तीन मुख्य कस्बों में जालौर, भिनमल और संचोर का शासन प्रथिहार, परमार, चालुक्य, चौहान, पठान मुगल और राठौर राजवंशों द्वारा किया गया था।

 

आजादी से पहले, जलोरे जोधपुर प्रांत का हिस्सा था जिसे मारवाड़ भी कहा जाता था। बेहतर शासन के लिए, इसे तीन परगना जालोर, जसवंतपुरा और संचोर में बांटा गया था। जब राजस्थान राज्य अस्तित्व में आया तो जोधपुर प्रांत में शामिल किया गया था। जब जिलों का गठन किया जा रहा था, तो जालोर ने भी क्षेत्र में अपनी उपस्थिति महसूस की और इसे एक जिला भी बनाया गया।

 

 

 

 

जालोर पर्यटन स्थल – जालोर के टॉप आकर्षण स्थल

 

 

Jalore tourism – Top tourist place visit in jalore rajasthan

 

 

 

जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य

 

 

 

जालोर का किला (Jalore fort)

 

 

 

जलोरे किला जलोरे का मुख्य आकर्षण है। यह राजस्थान राज्य में एक शहर है जो 10 वीं शताब्दी में परमारस के तहत मारु के नौ महलों में से एक है। यह राज्य में सबसे प्रसिद्ध और प्रभावशाली किलों में से एक है और इतिहास के माध्यम से सोनागीर या ‘गोल्डन माउंट’ के रूप में जाना जाता है। माना जाता है कि इसके निर्माण का सटीक वर्ष ज्ञात नहीं है, हालांकि इसे 8 वीं और 10 वीं सदी के बीच बनाया जाना माना जाता है।

 

 

जलोरे किला एक खड़ी और लंबवत पहाड़ी के ऊपर स्थित है। यह शहर को चट्टानों से बाहर निकलने वाले 336 मीटर ऊंचे भाग से दीवार और बुर्जों के साथ मजबूत करता है। किले में चार विशाल द्वार हैं, हालांकि यह दो मील लंबी सर्पटाइन चढ़ाई के बाद, केवल एक तरफ से पहुंचने योग्य है। किले का दृष्टिकोण उत्तर से है, एक खड़ी, फिसलन सड़क तक किले की तीन पंक्तियों के माध्यम से एक रैंपर्ट दीवार 6.1 मीटर ऊंची है। चढ़ने में एक घंटे लगते हैं। किला पारंपरिक हिंदू वास्तुकला की तर्ज पर बनाया गया है।

 

 

 

तोपखाना (Topakhana)

 

 

 

जलोरे शहर के बीच में स्थित, तोपखाना एक समय भव्य संस्कृत स्कूल था, जिसे राजा भोज द्वारा 7 वीं और 8 वीं शताब्दी के बीच कभी बनाया गया था। संस्कृत के एक विद्वान, राजा भोज ने शिक्षा प्रदान करने के लिए अजमेर और धार में इस जैसे कई स्कूल बनाए हैं। अधिकारियों ने तोपखाने और गोला बारूद स्टोर करने के लिए इमारत का इस्तेमाल करने के बाद पूर्व स्वतंत्रता अवधि के दौरान इस का नाम बदल दिया था।

 

वर्तमान मे इमारत की संरचना निराशाजनक है लेकिन यह अभी भी बेहद प्रभावशाली है और पत्थर की नक्काशी से सजा है। तोपखाने के दोनो तरफ मंदिर है लेकिन यहां मूर्तियां नहीं हैं। तोपखाने की सबसे प्रभावशाली दृष्टि इमारत के तल से लगभग 10 फीट ऊपर एक कमरा है जो इसके लिए अग्रणी सीढ़ी है, यह माना जाता है कि कमरा स्कूल के हेडमास्टर का निवास स्थान हुआ करता था।

 

 

 

सुन्धा माता मंदिर (Sundha mata temple jalore)

 

 

 

अरावली रेंज में सुन्धा पर्वत के ऊपर सुन्धा माता मंदिर है। यह मंदिर समुद्र तल से 1220 मीटर की ऊंचाई पर बनाया गया है और पूरे भारत से भक्तों द्वारा बहुत पवित्र माना जाता है। मंदिर में देवी चामुंडा देवी की मूर्ति है और सफेद संगमरमर से बना है। खंभे का डिजाइन माउंट आबू के दिलवाड़ा मंदिर की याद दिलाता है। इस मंदिर में ऐतिहासिक मूल्य के कुछ शिलालेख भी शामिल हैं। जालोर पर्यटन मे यह मुख्य धार्मिक स्थलों मे से है।

 

 

 

सीरे मंदिर (Sirey temple jalore)

 

 

सीरे मंदिर, कलाशचल पहाड़ी पर 646 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। माना जाता है कि यह मंदिर महर्षि जबाली के सम्मान में राजा रावल रतन सिंह द्वारा बनाया गया था। किंवदंती यह भी है कि पांडवों ने एक बार मंदिर में शरण ली थी। मंदिर का मार्ग जालोर शहर से गुजरता है और मंदिर में जाने के लिए पैदल 3 किमी की यात्रा करना पड़ता है।

 

 

 

मलिक शाह की मस्जिद (Malik shah’s mosque)

 

 

 

मलिक शाह की मस्जिद का निर्माण जालोर पर अपने शासनकाल के दौरान अलाउद्दीन खिलजी द्वारा नियुक्त, मस्जिद बगदाद के सेल्जुक सुल्तान मलिक शाह का सम्मान करने के लिए बनायी गई थी। मस्जिद जालौर किले के केंद्र में स्थित है और यह वास्तुकला की अपनी शैली के लिए विशेष रूप से विशिष्ट है, माना जाता है कि गुजरात में पाए जाने वाली इमारतों से प्रेरित है।

 

 

 

जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जालोर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य

 

 

 

 

जहाज मंदिर (Jahaj mandir jalore)

 

 

 

जहाज मंदिर जालोर जिले के मांडवाला गांव में एक जैन मंदिर है। मंदिर एक नाव के आकार में बनाया गया है और संगमरमर से बना है। मंदिर की स्थापना 1993 में जैन धर्म के धर्म के लिए की गई थी। जहाज मंदिर कला का अद्भुत नमूना है। बडी संख्या में श्रद्धालु और पर्यटक यहां आते है। जहाज मंदिर की जालोर से दूरी 63 किमी है।

 

 

 

कोट कस्ता का किला (Fort of kot kasta)

 

 

जालोर शहर से 62 किमी की दूरी, तथा जालोर जिले की भिनमल तहसील से 12 किमी की दूरी पर स्थित कोट कस्ता एक गांव है। यह गांव यहां स्थित कोट कस्ता किले के लिए जाना जाता है। कोट कस्ता किले का निर्माण महाराजा मान सिंह ने  उस समय के प्रसिद्ध गुरू योगी भीमनाथ के सम्मान मे 18 वी ईसवी मे करवाया था। किला एक पहाडी के ऊपर स्थित है। और जालोर की सैर पर आने वाले पर्यटकों को खूब आकर्षित करता है।

 

 

 

 

भवन जैनालय जैन मंदिर (Bhawan Jainalya jain temple)

 

 

 

जैनालय जैन मंदिर राजस्थान की धार्मिक संस्कृति का एक अभिन्न हिस्सा हैं। यह 72 जैन मंदिरो का समूह है, और प्रत्येक मंदिर अपने आप में अद्वितीय है- समान विचारधारा को दर्शाते मंदिरों में ऐसी विविधता एक दुर्लभता है। यह भिनमल शहर में स्थित है जो जलोरे के मुख्य शहर से 72 किलोमीटर की दूरी पर है। भिनमल महान ऐतिहासिक महत्व का है क्योंकि यह महान गणितज्ञ और खगोलविद ब्रह्मगुप्त और संस्कृत कवि मगहा का जन्मस्थान है। गुर्जर प्रतिहार के शासनकाल के दौरान भिनमल एक समय गुज्जर साम्राज्य की राजधानी थी।

 

इस शहर में कई मंदिरों में कुछ शिलालेख भी हैं जो बताते हैं कि चौथा जैन तीर्थंकर, भगवान महावीर स्वामी यहां घूमते रहे। यहां कुल 72 जैन मंदिर बने हैं। प्रत्येक मंदिर में अपनी विशेषताएं हैं। प्रत्येक मंदिर के प्रवेश पर हर मंदिर के बारे में एक विवरण दिया जाता है। मंदिर के सामने अच्छी घास, खूबसूरत फूल और पौधों के साथ विशाल बगीचा है। सवास्तिक जैन भोजन की सुविधा भी उपलब्ध है। ट्रॉलीबस भी बुजुर्गों लोगों के लिए उपलब्ध हैं जो चल नहीं सकते हैं। हर किसी को मंदिर में एक बार जरूर जाना चाहिए।

 

 

 

 

जालोर पर्यटन स्थल, जालोर की यात्रा, जालोर की सैर, जालोर मे कहा घूमें, जालोर के धार्मिक स्थल, जालोर के जैन मंदिर, जालोर का इतिहास आदि शीर्षकों पर आधारित हमारा यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं। यह जानकारी आप अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते है।

 

 

 

यदि आपके आसपास कोई धार्मिक, ऐतिहासिक या पर्यटन महत्व का ऐसा स्थल है, जिसके बारे मे आप पर्यटकों को बताना चाहते है। या फिर अपने किसी टूर, यात्रा, भ्रमण, या पिकनिक के अनुभव हमारे पाठकों के साथ शेयर करना चाहते है, तो आप अपना लेख कम से कम 300 शब्दों मे यहाँ लिख सकते है। हम आपके द्वारा लिखे गए लेख को आपकी पहचान के साथ अपने इस प्लेटफार्म पर शामिल करेंगे।

 

 

 

 

राजस्थान पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—

 

 

 

 

पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने हेदराबाद के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल व स्मारक के बारे में विस्तार से जाना और
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने जयपुर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हवा महल की सैर की थी और उसके बारे
प्रिय पाठको जैसा कि आप सभी जानते है। कि हम भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद् शहर व गुलाबी नगरी
प्रिय पाठको जैसा कि आप सब जानते है। कि हम भारत के राज्य राजस्थान कीं सैंर पर है । और
पिछली पोस्टो मे हमने अपने जयपुर टूर के अंतर्गत जल महल की सैर की थी। और उसके बारे में विस्तार
जैसलमेर के दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
जैसलमेर भारत के राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत और ऐतिहासिक नगर है। जैसलमेर के दर्शनीय स्थल पर्यटको में काफी प्रसिद्ध
अजमेर का इतिहास
अजमेर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्राचीन शहर है। अजमेर का इतिहास और उसके हर तारिखी दौर में इस
अलवर के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
अलवर राजस्थान राज्य का एक खुबसूरत शहर है। जितना खुबसूरत यह शहर है उतने ही दिलचस्प अलवर के पर्यटन स्थल
उदयपुर दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
उदयपुर भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख शहर है। उदयपुर की गिनती भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलो में भी
नाथद्वारा दर्शन धाम के सुंदर दृश्य
वैष्णव धर्म के वल्लभ सम्प्रदाय के प्रमुख तीर्थ स्थानों, मैं नाथद्वारा धाम का स्थान सर्वोपरि माना जाता है। नाथद्वारा दर्शन
कोटा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
चंबल नदी के तट पर स्थित, कोटा राजस्थान, भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। रेगिस्तान, महलों और उद्यानों के
कुम्भलगढ़ का इतिहास
राजा राणा कुम्भा के शासन के तहत, मेवाड का राज्य रणथंभौर से ग्वालियर तक फैला था। इस विशाल साम्राज्य में
झुंझुनूं के पर्यटन स्थल के सुंदर दृश्य
झुंझुनूं भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख जिला है। राजस्थान को महलों और भवनो की धरती भी कहा जाता
पुष्कर तीर्थ के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर जिले मे स्थित पुष्कर एक प्रसिद्ध नगर है। यह नगर यहाँ स्थित प्रसिद्ध पुष्कर
करणी माता मंदिर देशनोक के सुंदर दृश्य
बीकानेर जंक्शन रेलवे स्टेशन से 30 किमी की दूरी पर, करणी माता मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले के देशनोक शहर
बीकानेर के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
जोधपुर से 245 किमी, अजमेर से 262 किमी, जैसलमेर से 32 9 किमी, जयपुर से 333 किमी, दिल्ली से 435
जयपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भारत की राजधानी दिल्ली से 268 किमी की दूरी पर स्थित जयपुर, जिसे गुलाबी शहर (पिंक सिटी) भी कहा जाता
सीकर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सीकर सबसे बड़ा थिकाना राजपूत राज्य है, जिसे शेखावत राजपूतों द्वारा शासित किया गया था, जो शेखावती में से थे।
भरतपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भरतपुर राजस्थान की यात्रा वहां के ऐतिहासिक, धार्मिक, पर्यटन और मनोरंजन से भरपूर है। पुराने समय से ही भरतपुर का
बाड़मेर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
28,387 वर्ग किमी के क्षेत्र के साथ बाड़मेर राजस्थान के बड़ा और प्रसिद्ध जिलों में से एक है। राज्य के
दौसा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
दौसा राजस्थान राज्य का एक छोटा प्राचीन शहर और जिला है, दौसा का नाम संस्कृत शब्द धौ-सा लिया गया है,
धौलपुर पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
धौलपुर भारतीय राज्य राजस्थान के पूर्वी क्षेत्र में स्थित है और यह लाल रंग के सैंडस्टोन (धौलपुरी पत्थर) के लिए
भीलवाड़ा पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
भीलवाड़ा भारत के राज्य राजस्थान का एक प्रमुख ऐतिहासिक शहर और जिला है। राजस्थान राज्य का क्षेत्र पुराने समय से
पाली के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
पाली राजस्थान राज्य का एक जिला और महत्वपूर्ण शहर है। यह गुमनाम रूप से औद्योगिक शहर के रूप में भी
टोंक राजस्थान के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
टोंक राजस्थान की राजधानी जयपुर से 96 किमी की दूरी पर स्थित एक शांत शहर है। और राजस्थान राज्य का
राजसमंद पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
राजसमंद राजस्थान राज्य का एक शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। राजसमंद शहर और जिले का नाम राजसमंद झील, 17
सिरोही के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सिरोही जिला राजस्थान के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है। यह उत्तर-पूर्व में जिला पाली, पूर्व में जिला उदयपुर, पश्चिम में
करौली जिले के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
करौली राजस्थान राज्य का छोटा शहर और जिला है, जिसने हाल ही में पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है, अच्छी
सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
सवाई माधोपुर राजस्थान का एक छोटा शहर व जिला है, जो विभिन्न स्थलाकृति, महलों, किलों और मंदिरों के लिए जाना
नागौर के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के जोधपुर और बीकानेर के दो प्रसिद्ध शहरों के बीच स्थित, नागौर एक आकर्षक स्थान है, जो अपने
बूंदी आकर्षक स्थलों के सुंदर दृश्य
बूंदी कोटा से लगभग 36 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शानदार शहर और राजस्थान का एक प्रमुख जिला है।
बारां जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
कोटा के खूबसूरत क्षेत्र से अलग बारां राजस्थान के हाडोती प्रांत में और स्थित है। बारां सुरम्य जंगली पहाड़ियों और
झालावाड़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
झालावाड़ राजस्थान राज्य का एक प्रसिद्ध शहर और जिला है, जिसे कभी बृजनगर कहा जाता था, झालावाड़ को जीवंत वनस्पतियों
हनुमानगढ़ पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
हनुमानगढ़, दिल्ली से लगभग 400 किमी दूर स्थित है। हनुमानगढ़ एक ऐसा शहर है जो अपने मंदिरों और ऐतिहासिक महत्व
चूरू जिले के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
चूरू थार रेगिस्तान के पास स्थित है, चूरू राजस्थान में एक अर्ध शुष्क जलवायु वाला जिला है। जिले को। द
गोगामेड़ी धाम के सुंदर दृश्य
गोगामेड़ी राजस्थान के लोक देवता गोगाजी चौहान की मान्यता राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, मध्यप्रदेश, गुजरात और दिल्ली जैसे राज्यों
वीर तेजाजी महाराज से संबंधी चित्र
भारत में आज भी लोक देवताओं और लोक तीर्थों का बहुत बड़ा महत्व है। एक बड़ी संख्या में लोग अपने
शील की डूंगरी के सुंदर दृश्य
शीतला माता यह नाम किसी से छिपा नहीं है। आपने भी शीतला माता के मंदिर भिन्न भिन्न शहरों, कस्बों, गावों
सीताबाड़ी के सुंदर दृश्य
सीताबाड़ी, किसी ने सही कहा है कि भारत की धरती के कण कण में देव बसते है ऐसा ही एक
गलियाकोट दरगाह के सुंदर दृश्य
गलियाकोट दरगाह राजस्थान के डूंगरपुर जिले में सागबाडा तहसील का एक छोटा सा कस्बा है। जो माही नदी के किनारे
श्री महावीरजी धाम राजस्थान के सुंदर दृश्य
यूं तो देश के विभिन्न हिस्सों में जैन धर्मावलंबियों के अनगिनत तीर्थ स्थल है। लेकिन आधुनिक युग के अनुकूल जो
कोलायत धाम के सुंदर दृश्य
प्रिय पाठकों अपने इस लेख में हम उस पवित्र धरती की चर्चा करेगें जिसका महाऋषि कपिलमुनि जी ने न केवल
मुकाम मंदिर राजस्थान के सुंदर दृश्य
मुकाम मंदिर या मुक्ति धाम मुकाम विश्नोई सम्प्रदाय का एक प्रमुख और पवित्र तीर्थ स्थान माना जाता है। इसका कारण
कैला देवी मंदिर फोटो
माँ कैला देवी धाम करौली राजस्थान हिन्दुओं का प्रसिद्ध तीर्थ स्थान है। यहा कैला देवी मंदिर के प्रति श्रृद्धालुओं की
ऋषभदेव मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के दक्षिण भाग में उदयपुर से लगभग 64 किलोमीटर दूर उपत्यकाओं से घिरा हुआ तथा कोयल नामक छोटी सी
एकलिंगजी टेम्पल के सुंदर दृश्य
राजस्थान के शिव मंदिरों में एकलिंगजी टेम्पल एक महत्वपूर्ण एवं दर्शनीय मंदिर है। एकलिंगजी टेम्पल उदयपुर से लगभग 21 किलोमीटर
हर्षनाथ मंदिर के सुंदर दृश्य
भारत के राजस्थान राज्य के सीकर से दक्षिण पूर्व की ओर लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर हर्ष नामक एक
रामदेवरा धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान की पश्चिमी धरा का पावन धाम रूणिचा धाम अथवा रामदेवरा मंदिर राजस्थान का एक प्रसिद्ध लोक तीर्थ है। यह
नाकोड़ा जी तीर्थ के सुंदर दृश्य
नाकोड़ा जी तीर्थ जोधपुर से बाड़मेर जाने वाले रेल मार्ग के बलोतरा जंक्शन से कोई 10 किलोमीटर पश्चिम में लगभग
केशवरायपाटन मंदिर के सुंदर दृश्य
केशवरायपाटन अनादि निधन सनातन जैन धर्म के 20 वें तीर्थंकर भगवान मुनीसुव्रत नाथ जी के प्रसिद्ध जैन मंदिर तीर्थ क्षेत्र
गौतमेश्वर महादेव धाम के सुंदर दृश्य
राजस्थान राज्य के दक्षिणी भूखंड में आरावली पर्वतमालाओं के बीच प्रतापगढ़ जिले की अरनोद तहसील से 2.5 किलोमीटर की दूरी
रानी सती मंदिर झुंझुनूं के सुंदर दृश्य
सती तीर्थो में राजस्थान का झुंझुनूं कस्बा सर्वाधिक विख्यात है। यहां स्थित रानी सती मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां सती
ओसियां के दर्शनीय स्थल
राजस्थान के पश्चिमी सीमावर्ती जिले जोधपुर में एक प्राचीन नगर है ओसियां। जोधपुर से ओसियां की दूरी लगभग 60 किलोमीटर है।
डिग्गी कल्याण जी मंदिर के सुंदर दृश्य
डिग्गी धाम राजस्थान की राजधानी जयपुर से लगभग 75 किलोमीटर की दूरी पर टोंक जिले के मालपुरा नामक स्थान के करीब
रणकपुर जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
सभी लोक तीर्थों की अपनी धर्मगाथा होती है। लेकिन साहिस्यिक कर्मगाथा के रूप में रणकपुर सबसे अलग और अद्वितीय है।
लोद्रवा जैन मंदिर के सुंदर दृश्य
भारतीय मरूस्थल भूमि में स्थित राजस्थान का प्रमुख जिले जैसलमेर की प्राचीन राजधानी लोद्रवा अपनी कला, संस्कृति और जैन मंदिर
गलताजी टेम्पल जयपुर के सुंदर दृश्य
नगर के कोलाहल से दूर पहाडियों के आंचल में स्थित प्रकृति के आकर्षक परिवेश से सुसज्जित राजस्थान के जयपुर नगर के
सकराय माता मंदिर के सुंदर दृश्य
राजस्थान के सीकर जिले में सीकर के पास सकराय माता जी का स्थान राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.