Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
कौशांबी का इतिहास – हिस्ट्री ऑफ कौशांबी बौद्ध तीर्थ स्थल

कौशांबी का इतिहास – हिस्ट्री ऑफ कौशांबी बौद्ध तीर्थ स्थल

कौशांबी की गणना प्राचीन भारत के वैभवशाली नगरों मे की जाती थी। महात्मा बुद्ध जी के समय वत्सराज उदयन की राजधानी के रूप में इस नगरी ने अद्वितीय गौरव प्राप्त किया। उदयन की गौरवपूर्ण गाथा से संस्कृत साहित्य भरा पड़ा है। कौशांबी के महान श्रेष्ठियों के निमंत्रण और आग्रह पर महात्मा बुद्ध इस नगरी में पधारे थे। जहां उनके वास के लिए कई विशाल विहारो का निर्माण कराया गया था। बौद्ध साहित्य में वर्णित प्रसिद्ध घोषिताराम विहार इसी नगरी में स्थापित था। जिसके भग्नावशेष कौशांबी की खुदाई मे प्राप्त हुए है। कौशांबी पुरास्थल पर प्रयागराज विश्वविद्यालय द्वारा संचालित इस खुदाई के कारण इतिहासकारों एवं विद्वानों, भक्तों, और पर्यटकों का ध्यान इस ओर बडी संख्या आकर्षित हो रहा है। आज के अपने इस लेख में हम कौशांबी का प्राचीन इतिहास, कौशांबी पर्यटन स्थल, कौशांबी बौद्ध मंदिर, बौद्ध तीर्थ कौशांबी का महत्व, हिस्ट्री ऑफ कौशांबी आदि के बारें मे विस्तार से जानेगें।

कौशांबी का प्राचीन नाम कोसम था। यह प्रयागराज से 33 मील की दूरी पर यमुना नदी के बायें तट पर स्थित है। अब यह उत्तर प्रदेश का प्रसिद्ध जिला है और जिसका जिला मुख्यालय मझंनपुर है।

कौशांबी का प्राचीन इतिहास, पुरानी कौशांबी का इतिहास, हिस्ट्री ऑफ कौशांबी Koshambi history in hindi

कौशांबी का इतिहास बहुत प्राचीन है। इसके अनेक साहित्यिक प्रमाण मिलते है। शतपथ और गौपथ ब्राह्मणों में इसका उल्लेख अप्रत्यक्ष रूप से आया है। इन दोनों ग्रंथों से पता चलता है कि उद्दालक आरूणि का एक शिष्य कौशाम्बेय अर्थात कौशाम्बी का रहने वाला भी कहलाता था। उसके बाद इस स्थान का उल्लेख हमें महाभारत, रामायण, तथा हरिवंश पुराण में भी प्राप्त होता है। महाभारत के अनुसार कौशांबी की स्थापना चेदिराज के पुत्र उपरिचर वसु ने की थी। जबकि रामायण में इस नगरी को कुश के पुत्र कुशम्ब द्वारा स्थापित बताया गया है।


दीर्घ निकाय में महात्मा बुद्ध के प्रमुख शिष्य आनंद ने कौशाम्बी की गणना तत्कालीन सम्पन्न विख्यात एवं वैभवपूर्ण नगरों में की है। दीर्घ निकाय पर भाप्य लिखते हुये बुद्धघोष ने तत्कालीन प्रसिद्ध नगरों जैसे– चम्बा, राजगृह, श्रावस्ती, साकेत, एवं वाराणसी के वर्णन के साथ साथ कौशाम्बी के कुछ प्रसिद्ध श्रेष्ठियों का भी उल्लेख किया है।


कौशांबी पुरास्थल के सुंदर दृश्य
कौशांबी पुरास्थल के सुंदर दृश्य

प्राचीन ग्रंथों में विख्यात होने पर भी कौशाम्बी का ऐतिहासिक और राजनीतिक महत्व राजा उदयन के समय से आरम्भ हुआ था। राजा उदयन के पूर्व जिन राजाओं ने कौशाम्बी पर शासन किया उनका उल्लेख पुराणों में किया गया है। अर्जुन के पौत्र राजा परिक्षित से लेकर पांचवीं पीढ़ी में राजा विचक्षु ने अपनी राजधानी हस्तिनापुर से हटा कर कौशाम्बी को बनाया था। विचक्षु और राजा उदयन के बीच 16 राजाओं ने कौशाम्बी पर शासन किया। इस प्रकार से उदयन हस्तिनापुर के कुरूवंश की शाखा के शासक थे। राजा उदयन संस्कृत साहित्य में एक प्रसिद्ध नायक के रूप में भी चित्रित किये गये है। प्रकृति से ही वे वीर तथा विलासी थे। युद्ध, हाथी, वीणा, और सुंदरी उनके प्रिय विषय थे। इसलिए संस्कृत भाषा के विख्यात नाटककार भाप ने उदयन को अपने दो नाटकों स्वप्न वासनदत्ता तथा प्रतिज्ञा-यौगंधरायण में नायक के रूप में प्रस्तुत किया।


उदयन की कथा कथा सरित्सागर, रतनावली, प्रियदर्शिका, स्कंदपुराण, तथा जैनियों के धर्म ग्रंथ विविध तीर्थ कल्प, ललितविस्तर, तिब्बत में पाये गये बौद्ध धर्म संबंधी साहित्य तथा चीनी यात्री हवेनसांग द्वारा लिखित अपने यात्रा वृतांत में मिलती है। साहित्य तथा धर्म ग्रंथों के अनुसार उदयन एक परम प्रतापी शासक थे। जिनके ऐश्वर्य को देखकर तत्कालीन राजा उनसे ईर्ष्या करते थे। अवन्ती के राजा चंद्र प्रद्योत ने एक बार छल से उदयन को बंदी बना लिया। लेकिन बाद में उदयन उन्हीं की पुत्री वासवदत्ता की सहायता से उसके साथ भाग निकले और उसको अपनी रानी बनाया। कथा सरित्सागर में उदयन के दिग्विजय का भी विवरण मिलता है। हर्ष विरचित प्रियदर्शिका से यह ज्ञात होता हैं कि उदयन ने एक बार कंलिंग पर भी विजय प्राप्त की थी।


परंतु बौद्ध ग्रंथों में उदयन का चरित्र कलुषित रूप से चित्रित किया गया है। इसका प्रमुख कारण यही था कि वह बौद्ध न होकर हिन्दू धर्म का पोषक एवं अनुयायी था। कहा जाता हैं कि प्रथम बार जब महात्मा बुद्ध अपने धर्म प्रचार के लिए कपिलवस्तु, वैशाली, एवं राजगृह होते हुए कौशाम्बी पधारे तब राजा ऊदयन अपनी सेनाओं के साथ कंकावली नगरी पर आक्रमण करने के लिए प्रस्थान कर रहा था। अतः शांति के इस दूत को देखकर वह अत्यंत क्रोधित हुआ और महात्मा बुद्ध पर एक बाण भी छोडा। परंतु महात्मा बुद्ध के चमत्कार से उस बाण से यह आवाज निकली — क्रोध और क्षोभ से दुख उत्पन्न होता है, इस लोक में जो त्याग न करता हुआ युद्ध करता है, उसको मृत्यु के पश्चात नर्क की यंत्रणाओं में पडना पडता है, अतः दुख एवं युद्धों को दूर रखो” इस चमत्कार का महाराज उदयन पर बडा प्रभाव पड़ा और वे महात्मा बुद्ध से उपदेश सुनकर बौद्ध धर्म के अनुयायी बन गए। राजा उदयन के बौद्ध धर्म में दीक्षित होने की इसी प्रकार की कथा तिब्बती बौद्ध ग्रंथों में भी मिलती है। इन कथाओं से यह सिद्ध होता है कि राजा उदयन पहले बौद्ध धर्म के प्रति शत्रुता की भावना रखता था, परंतु बाद में उस धर्म का अनुयायी हो गया।

कौशांबी पुरास्थल के सुंदर दृश्य
कौशांबी पुरास्थल के सुंदर दृश्य

महाराजा उदयन के बौद्ध धर्म में दीक्षित हो जाने के बाद कौशाम्बी में विहारो और विश्रामगृहों की रचना होने लगी। महात्मा बुद्ध के विश्राम करने के लिए घोषितराम सबसे अधिक भव्य और सुंदर बनवाया गया था। यह स्थान यमुना नदी के तट पर कौशाम्बी के दक्षिण पूर्व भाग में बना हुआ था, और जिसको फाह्यान और ह्वेनसांग ने भी देखा था।



बौद्ध कथानकों के आधार पर महात्मा बुद्ध का कम से कम दो बार कौशाम्बी आना सिद्ध होता हैं। इस अवसर उन्होंने कई उपदेश दिये थे। इनमे से कोसम्बियसुत्त, स्कंदसुत्त, बोधिराज कुमारसुत्त आदि अत्यंत प्रसिद्ध माने जाते है। इनमे विशेष रूप से पारंपरिक कहल तथा ढ़ोंगी गुरूओं से सचेत किया गया है। बुद्ध के समय में ही कुछ अहंकारी भिक्षुओं ने संघ में भेद डालने की चेष्टा की थी तब इस प्रवृत्ति को दूर करने की चेष्टा से महात्मा बुद्ध ने कोसम्बियसुत्त का उपदेश दिया था। कुछ बौद्ध ग्रंथों में इस बात का भी स्पष्ट उल्लेख मिलता है कि कौशाम्बी के तीन प्रमुख सेठो- घोषित, कुक्कुट और पवारीय के निमंत्रण पर महात्मा बुद्ध कौशाम्बी पधारे थे। इन्हीं तीन भक्तों ने महात्मा बुद्ध के आवास के लिए अपने नाम से तीन विहारो को बनवाया था। तिपल्लत्थमिग जातक के अनुसार महात्मा बुद्ध के ठहरने का कौशाम्बी मे एक और स्थान था। जो बद्रीकाराम के नाम से विख्यात था, इ प्रकार से कौशाम्बी या उसके आसपास में बनाये गये चार विहारो की सूचना मिलती है। जिनकी रचना महात्मा बुद्ध के समय मैं ही हो गई थी। कौशाम्बी में दिये गए बुद्ध के उपदेशों को पढ़ने से ऐसा लगता है कि वे अपने अनुयायियों की कलह से बहुत दुखी थे। अतः कहा जाता है कि एक बार वे अपने शिष्यों से रूठ करके पारिलेयक वन में भूखे प्यासे एकांतवास करने लगे। उस समय द्रवित होकर एक बंदर ने उन्हें प्याला भर शहद प्रदान किया। तत्पश्चात उसने कुएँ में कूद कर देवयोनि प्राप्त की, इस चमत्कार का उनके शिष्यों पर बड़ा प्रभाव पड़ा और कुछ दिन तक संघ में फूट एवं कलह कम रही।


राजा उदयन के पश्चात उसका पुत्र बोधिकुमार अथवा नरवाहन कौशाम्बी का राजा हुआ। वह भी बौद्ध धर्म का अनुयायी था। उसने यहा एक भव्य प्रासाद की रचना करवायी थी। जब प्रासाद बनकर तैयार हो गया तो महात्मा बुद्ध की चरण धूलि से उसे पवित्र करने के लिए उसने उन्हें शिष्यों सहित आमंत्रित किया एवं भिक्षा दी।



इसके पश्चात कुछ काल तक कौशाम्बी के इतिहास का पता नहीं चलता, इसका वास्तविक इतिहास हमें सम्राट अशोक के समय से मिलता है। जब यह स्थान उसके विशाल सम्राज्य का एक प्रदेश था। और एक महामात्र द्वारा शासित होता था। उस समय यहां बौद्ध संघ की दशा सुचारू न थी। जैसा कि कौशाम्बी के महामात्रों को दी गई राज आज्ञा से प्रतीत होता है। यह राज आज्ञा इलाहाबाद के किले में स्थित अशोक की लाट पर उत्कीर्ण है। तदनंतर यह प्रदेश शृगों की राज्यसत्ता मे आया जैसा कि यहां से प्राप्त लेखों एवं मुद्राओं से ज्ञात होता है।

इस काल में वहसतिमित नाम से किसी राजा ने पभोसा की पहाड़ियों में कौशाम्बी से दो मील दूर कस्यपोच आहर्तो के निवास के लिए गुफाएं बनवाई थी। सन् 1934 मे यहां से प्राप्त एक बुद्ध मूर्ति पर उत्कीर्ण लेख से यह ज्ञात होता है कि कनिष्क ने कौशाम्बी को अपने शासन काल के दूसरे वर्ष में ही अपने राज्य में मिला लिया था। कुषाणों की सत्ता समाप्त होने के बाद कुछ दिन कौशाम्बी भाराशिवो के राज्य का अंग रहा। किंतु यह दशा अधिक दिन न रही, और केन्द्रीय सत्ता कमजोर होने के साथ साथ कौशाम्बी स्वत्रंत हो गया। इस बीच अनेक राजाओं ने यहां राज्य किया जिनका नाम हमें यहां से प्राप्त लेखों और सिक्कों से होता है। 320 ईसवीं में गुप्तों का जब उत्कर्ष हुआ तो कौशाम्बी उनके राज्य में हो गया। 5 वी शताब्दी मे जब फाह्यान नामक प्रसिद्ध चीनी यात्री ने भारत की यात्रा की तो उसने कौशाम्बी का वर्णन करते हुए लिखा है कि मृगदाव.(सारनाथ) से 13 योजन उत्तर पश्चिम दिशा में कौशाम्बी नामक देश है। उस स्थान पर एक मंदिर है जिसका नाम घोषितराम है। वहां एक बार महात्मा बुद्ध ने निवास किया था। आजकल भी वहां बहुत से भिक्षु रहते है। जिनमें से अधिकांश हीनयान सम्प्रदाय के है। इस वर्णन से यह स्पष्ट है कि 5 वी शताब्दी में कौशाम्बी उन्नत अवस्था में था, परंतु जब 7 वी शताब्दी में दूसरा चीनी यात्री ह्वेनसांग वहा पहुंचा तो उसे यह विहार भग्नावस्था में मिला। ह्वेनसांग ने अपनी यात्रा के समय कौशाम्बी में दस विहारों को भग्नावस्था में देखा था। हालांकि उस समय भी वहा हीनयान शाखा के 300 भिक्षु निवास करते थे। उसने कौशाम्बी के 60 फुट ऊंचे बौद्ध मंदिर का भी उल्लेख किया है। जिसमें उदयन द्वारा बनाई गई एक चन्दन की बुद्ध मूर्ति स्थापित थी। इसके अतिरिक्त उसने घोषितराम के निर्माता सेठ घोषित के भवनों के ध्वसावशेष एक अन्य बौद्ध टेम्पल एवं स्तूप तथा महात्मा बुद्ध का स्नानागार भी देखा था। इसके ऊपरी भाग में महायान शाखा के प्रसिद्ध आचार्य वसुबन्धु रहते थे। वसुबंधु के बडे भाई असंग योगाचार विचारधारा के मूल प्रवर्तक थे। उन्हीं की विचारधारा के प्रभाव से दिण्डनाग एवं धर्मकीर्ति जैसे अतुलिक तार्किक उत्पन्न हुए। वसुबन्धु और असंग के यहां निवास करने से यह सिद्ध होता है कि इस काल में कौशाम्बी बौद्ध दर्शन का प्रधान केन्द्र था।




सातवीं शताब्दी से 11 वी शताब्दी तक कौशाम्बी का प्रदेश किसी न किसी रूप में कन्नौज के राजाओं के अधिकार में रहा किंतु उनका राजनीतिक महत्व धीरे धीरे फीका पड़ता चला गया और जो कुछ बचा कुचा महत्व था वह 12 वी शताब्दी के अन्त में यवनों के आक्रमणों से लुप्त हो गया।


कौशांबी का पता कैसे चला, कौशांबी का पता किसने लगाया

तब से 1836 ईसवीं तक कौशाम्बी का इतिहास अंधकार के गर्त में विलीन रहा। जब श्री कर्निघम ने खोज कर इसके प्राचीन गौरव को प्रकाश में लाये। इसके बाद सन् 1921-22 में दयाराम सहानी तथा सन् 1934-35 में ननी गोपाल मजूमदार ने यहां खुदाई की और कुछ महत्वपूर्ण इमारतें तथा मूर्तियां आदि निकाली, जिसके फलस्वरूप कौशाम्बी की पुरातत्व संबंधी वस्तुओं में जन अभिरुचि बहुत बढ़ी और लोगों ने यहां कलाकृतियों को एकत्रित करना आरम्भ किया। इनमें अधिकांश वस्तुएं प्रयागराज के संग्रहालय में है। ये वस्तुएं बडे ऐतिहासिक महत्व की है। जिसका कारण इनसे कौशाम्बी ही नही वरन सारे उत्तरी भारत के इतिहास पर महत्वपूर्ण प्रकाश पडता है। केवल मुद्राओं से ही दो दर्जन ऐसे राजाओं का नाम ज्ञात हुआ है जो अन्य किसी सूत्र से ज्ञात नहीं थे। कौशांबी के पुरास्थल से कई ऐतिहासिक इमारतों के अवशेष प्राप्त हुए है। जो आज कौशांबी के दर्शनीय स्थल बने हुए है। जिनके बारें में हम नीचे विस्तार से जानेंगे

कौशांबी पुरास्थल के सुंदर दृश्य
कौशांबी पुरास्थल के सुंदर दृश्य

कौशांबी के पर्यटन स्थल, कौशांबी बौद्ध तीर्थ स्थल, कौशांबी पुरास्थल के दर्शनीय स्थल

उदयन के किले का परकोटा


कौशाम्बी के क्षेत्र में प्रवेश करते ही चारों ओर दूर तक जो टीला सा दिखाई देता है। उसे लोग उदयन के किले की चारदीवारी बताते है। इस दीवार के बाहर एक खाई थी। जिसका आभास स्थान स्थान पर बने गड्डो से होता है। इस चारदीवारी में विभिन्न परिमाणों की ईटें मिली है। जिनसे इसका अति प्राचीन होना सिद्ध होता है।



अशोक स्तंभ

यहां भग्नावशेषों के मध्य एक 22 फुट लम्बा स्तंभ मिला है। जिसका शीर्ष भाग नष्ट हो गया है। स्तंभ चमकदार पालिश से जगमगाता है। जिससे यह अशोक के समय का ज्ञात होता है। हांलाकि इस पर अशोक का कोई लेख नहीं है।
इस स्तंभ के अतिरिक्त इलाहाबाद के किले में स्थित अशोक स्तंभ भी पहले कौशाम्बी में ही था। जिस पर महामात्रों में फूट डालने वाले भिक्षु भिक्षुणियों को कौशाम्बी से निकाल देने का आदेश सम्राट अशोक ने उत्कीर्ण कराया था।

उत्तर प्रदेश पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें

राधा कुंड उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर को कौन नहीं जानता में समझता हुं की इसका परिचय कराने की शायद
प्रिय पाठको पिछली पोस्टो मे हमने भारत के अनेक धार्मिक स्थलो मंदिरो के बारे में विस्तार से जाना और उनकी
गोमती नदी के किनारे बसा तथा भारत के सबसे बडे राज्य उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ दुनिया भर में अपनी
इलाहाबाद उत्तर प्रदेश का प्राचीन शहर है। यह प्राचीन शहर गंगा यमुना सरस्वती नदियो के संगम के लिए जाना जाता
प्रिय पाठको अपनी उत्तर प्रदेश यात्रा के दौरान हमने अपनी पिछली पोस्ट में उत्तर प्रदेश राज्य के प्रमुख व धार्मिक
प्रिय पाठको अपनी इस पोस्ट में हम भारत के राज्य उत्तर प्रदेश के एक ऐसे शहर की यात्रा करेगें जिसको
मेरठ उत्तर प्रदेश एक प्रमुख महानगर है। यह भारत की राजधानी दिल्ली से लगभग 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित
उत्तर प्रदेश न केवल सबसे अधिक आबादी वाला राज्य है बल्कि देश का चौथा सबसे बड़ा राज्य भी है। भारत
बरेली उत्तर भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक जिला और शहर है। रूहेलखंड क्षेत्र में स्थित यह शहर उत्तर
कानपुर उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक आबादी वाला शहर है और यह भारत के सबसे बड़े औद्योगिक शहरों में से
भारत का एक ऐतिहासिक शहर, झांसी भारत के बुंदेलखंड क्षेत्र के महत्वपूर्ण शहरों में से एक माना जाता है। यह
अयोध्या भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर है। कुछ सालो से यह शहर भारत के सबसे चर्चित शहरो
मथुरा को मंदिरो की नगरी के नाम से भी जाना जाता है। मथुरा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक
चित्रकूट धाम वह स्थान है। जहां वनवास के समय श्रीराजी ने निवास किया था। इसलिए चित्रकूट महिमा अपरंपार है। यह
पश्चिमी उत्तर प्रदेश का मुरादाबाद महानगर जिसे पीतलनगरी के नाम से भी जाना जाता है। अपने प्रेम वंडरलैंड एंड वाटर
कुशीनगर उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्राचीन शहर है। कुशीनगर को पौराणिक भगवान राजा राम के पुत्र कुशा ने बसाया
उत्तर प्रदेश के लोकप्रिय ऐतिहासिक और धार्मिक स्थानों में से एक पीलीभीत है। नेपाल की सीमाओं पर स्थित है। यह
सीतापुर - सीता की भूमि और रहस्य, इतिहास, संस्कृति, धर्म, पौराणिक कथाओं,और सूफियों से पूर्ण, एक शहर है। हालांकि वास्तव
अलीगढ़ शहर उत्तर प्रदेश में एक ऐतिहासिक शहर है। जो अपने प्रसिद्ध ताले उद्योग के लिए जाना जाता है। यह
उन्नाव मूल रूप से एक समय व्यापक वन क्षेत्र का एक हिस्सा था। अब लगभग दो लाख आबादी वाला एक
बिजनौर उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्रमुख शहर, जिला, और जिला मुख्यालय है। यह खूबसूरत और ऐतिहासिक शहर गंगा नदी
उत्तर प्रदेश भारत में बडी आबादी वाला और तीसरा सबसे बड़ा आकारवार राज्य है। सभी प्रकार के पर्यटक स्थलों, चाहे
अमरोहा जिला (जिसे ज्योतिबा फुले नगर कहा जाता है) राज्य सरकार द्वारा 15 अप्रैल 1997 को अमरोहा में अपने मुख्यालय
प्रकृति के भरपूर धन के बीच वनस्पतियों और जीवों के दिलचस्प अस्तित्व की खोज का एक शानदार विकल्प इटावा शहर
एटा उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्रमुख जिला और शहर है, एटा में कई ऐतिहासिक स्थल हैं, जिनमें मंदिर और
विश्व धरोहर स्थलों में से एक, फतेहपुर सीकरी भारत में सबसे अधिक देखे जाने वाले स्थानों में से एक है।
नोएडा से 65 किमी की दूरी पर, दिल्ली से 85 किमी, गुरूग्राम से 110 किमी, मेरठ से 68 किमी और
उत्तर प्रदेश का शैक्षिक और सॉफ्टवेयर हब, नोएडा अपनी समृद्ध संस्कृति और इतिहास के लिए जाना जाता है। यह राष्ट्रीय
भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश में स्थित, गाजियाबाद एक औद्योगिक शहर है जो सड़कों और रेलवे द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा
बागपत, एनसीआर क्षेत्र का एक शहर है और भारत के पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बागपत जिले में एक नगरपालिका बोर्ड
शामली एक शहर है, और भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश में जिला नव निर्मित जिला मुख्यालय है। सितंबर 2011 में शामली
सहारनपुर उत्तर प्रदेश राज्य का एक प्रमुख जिला और शहर है, जो वर्तमान में अपनी लकडी पर शानदार नक्काशी की
ऐतिहासिक और शैक्षिक मूल्य से समृद्ध शहर रामपुर, दुनिया भर के आगंतुकों के लिए एक आशाजनक गंतव्य साबित होता है।
मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले के पश्चिमी भाग की ओर स्थित एक शहर है। पीतल के बर्तनों के उद्योग
संभल जिला भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक जिला है। यह 28 सितंबर 2011 को राज्य के तीन नए
बदायूंं भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर और जिला है। यह पश्चिमी उत्तर प्रदेश के केंद्र में
लखीमपुर खीरी, लखनऊ मंडल में उत्तर प्रदेश का एक जिला है। यह भारत में नेपाल के साथ सीमा पर स्थित
बहराइच जिला भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के प्रमुख जिलों में से एक है, और बहराइच शहर जिले का मुख्यालय
भारत के राज्य उत्तर प्रदेश में स्थित, शाहजहांंपुर राम प्रसाद बिस्मिल, शहीद अशफाकउल्ला खान जैसे बहादुर स्वतंत्रता सेनानियों की जन्मस्थली
रायबरेली जिला उत्तर प्रदेश प्रांत के लखनऊ मंडल में स्थित है। यह उत्तरी अक्षांश में 25 ° 49 'से 26
दिल्ली से दक्षिण की ओर मथुरा रोड पर 134 किमी पर छटीकरा नाम का गांव है। छटीकरा मोड़ से बाई
नंदगाँव बरसाना के उत्तर में लगभग 8.5 किमी पर स्थित है। नंदगाँव मथुरा के उत्तर पश्चिम में लगभग 50 किलोमीटर
मथुरा से लगभग 50 किमी की दूरी पर, वृन्दावन से लगभग 43 किमी की दूरी पर, नंदगाँव से लगभग 9
सोनभद्र भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का दूसरा सबसे बड़ा जिला है। सोंनभद्र भारत का एकमात्र ऐसा जिला है, जो
मिर्जापुर जिला उत्तर भारत में उत्तर प्रदेश राज्य के महत्वपूर्ण जिलों में से एक है। यह जिला उत्तर में संत
आजमगढ़ भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश का एक शहर है। यह आज़मगढ़ मंडल का मुख्यालय है, जिसमें बलिया, मऊ और आज़मगढ़
बलरामपुर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में बलरामपुर जिले में एक शहर और एक नगरपालिका बोर्ड है। यह राप्ती नदी
ललितपुर भारत के राज्य उत्तर प्रदेश में एक जिला मुख्यालय है। और यह उत्तर प्रदेश की झांसी डिवीजन के अंतर्गत
बलिया शहर भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक खूबसूरत शहर और जिला है। और यह बलिया जिले का
उत्तर प्रदेश के काशी (वाराणसी) से उत्तर की ओर सारनाथ का प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थान है। काशी से सारनाथ की दूरी
बौद्ध धर्म के आठ महातीर्थो में श्रावस्ती भी एक प्रसिद्ध तीर्थ है। जो बौद्ध साहित्य में सावत्थी के नाम से
बौद्ध अष्ट महास्थानों में संकिसा महायान शाखा के बौद्धों का प्रधान तीर्थ स्थल है। कहा जाता है कि इसी स्थल
त्रिलोक तीर्थ धाम बड़ागांव या बड़ा गांव जैन मंदिर अतिशय क्षेत्र के रूप में प्रसिद्ध है। यह स्थान दिल्ली सहारनपुर सड़क
शौरीपुर नेमिनाथ जैन मंदिर जैन धर्म का एक पवित्र सिद्ध पीठ तीर्थ है। और जैन धर्म के 22वें तीर्थंकर भगवान
आगरा एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक शहर है। मुख्य रूप से यह दुनिया के सातवें अजूबे ताजमहल के लिए जाना जाता है। आगरा धर्म
कम्पिला या कम्पिल उत्तर प्रदेश के फरूखाबाद जिले की कायमगंज तहसील में एक छोटा सा गांव है। यह उत्तर रेलवे की
अहिच्छत्र उत्तर प्रदेश के बरेली जिले की आंवला तहसील में स्थित है। आंवला स्टेशन से अहिच्छत्र क्षेत्र सडक मार्ग द्वारा 18
देवगढ़ उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले में बेतवा नदी के किनारे स्थित है। यह ललितपुर से दक्षिण पश्चिम में 31 किलोमीटर

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.