Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
कुंभकोणम मंदिर – कुंभकोणम तमिलनाडु का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल

कुंभकोणम मंदिर – कुंभकोणम तमिलनाडु का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल

कुंभकोणम दक्षिण भारत का प्रसिद्ध तीर्थ है। यह तमिलनाडु राज्य में चिदंबरम से 32 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। प्रति बारहवें वर्ष यहां कुंभ का मेला लगता है। जिसमें लाखों की संख्या में यात्री एकत्र होते है। तथा कावेरी नदी के इस परम पवित्र तट पर स्नान करते है। कुंभकोणम का संस्कृत नाम कुंभघोवण है। कहते है कि ब्रह्मा जी ने एक घड़ा (कुंभ) अमृत से भरकर रखा था। उस कुंभ की नासिका (घोणा अर्थात मुख) के समीप एक छिद्र में से अमृत चूकर बाहर निकल आया, और उससे यहां की पांच कोस तक की भूमि भीग गई। इसी से इसका नाम कुंभघोण ( कुंभकोण) पड़ गया। कावेरी से जल निकाल लिए जाने के कारण गर्मियों में कावेरी पूर्णतः सूखी रहती है। इस तीरथ स्थल पर आनेक मंदिर है। परंतु पांच मंदिर मुख्य माने जाते है।

 

 

  • कुंभेश्वर (यह इस तीर्थ का सर्वप्रमुख मंदिर है।
  • शार्गपाणि
  • नागेश्वर
  • रामस्वामी
  • चक्रपाणी

इसके आलावा इस तीर्थ स्थल में एक महामघम सरोवर जिसका इस तीर्थ स्थान पर काफी बडा महत्व है।

 

 

 

 कुंभकोणम की धार्मिक पृष्ठभूमि

 

 

पुराणों में जिस कामकोष्णुपुरी का उल्लेख आता है, वह कुंभकोणम ही है। कहा जाता है कि प्रलयकाल में ब्रह्मा जी ने सृष्टि की उपादान-भूता मूल प्रकृति को एक घड़े में रखकर यहीं स्थापित कर दिया था, तथा सृष्टि के प्रारंभ में यहां से उस घडे को लेकर सृष्टि की रचना की। एक मत यह भी है कि ब्रह्मा जी के यज्ञ में भगवान शंकर अमृत कुंभ लेकर प्रकट हुए थे।

 

 

 

कुंभकोणम के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य
कुंभकोणम के दर्शनीय स्थलों के सुंदर दृश्य

 

 

कुंभकोणम दर्शन – कुंभकोणम के दर्शनीय स्थल

 

 

कावेरी नदी

 

रेलवे स्टेशन से लगभग डेढ़ मील पर नगर के उत्तर में कावेरी नदी है। यदि उसमें जल हो तो वहां स्नान किया जा सकता है। कावेरी तट पर पक्का घाट बना हुआ है। तट पर महाकालेश्वर महादेव तथा दूसरे अनेकों देव मंदिर है।

 

 

महामाया मंदिर

 

कावेरी तट से कुछ आगे दाहिनी ओर  इंद्र तथा बांयी ओर महामाया का मंदिर है। महामाया मंदिर में जो महाकाली की मूर्ति है, कहा जाता है कि वह स्वयं प्रकट हुई थी। समयपुरम नामक गांव के देवी मंदिर में एक दिन पुजारी ने देखा कि एक ओर भूमि फटी है, और उससे एक मूर्ति का मस्तक दिख रहा है। धीरे धीरे वह मूर्ति स्वयं ऊपर आ गई। वह मूर्ति वहां से लाकर यहां महामाया मंदिर में स्थापित की गई।

 

 

महामघम

 

जब कावेरी नदी में जल नहीं होता है, तो यात्री महामघम सरोवर में स्नान करते है। वैसे भी स्नान के लिए यही पुण्य तीर्थ माना जाता है। यद्यपि साफ सफाई न होने के कारण उसके जल में कीडे पड़ जाते है। सरोवर बहुत बड़ा है। कुंभपर्व के समय यात्री इसी में स्नान करते है।

 

 

नागेश्वर मंदिर

 

महामघम सरोवर से कुंभेश्वर मंदिर की ओर जाते समय यह मंदिर सबसे पहले मिलता है। इसमें भगवान शिव लिंग मूर्ति है। भगवान सूर्य ने यहां शंकर जी की आराधना की थी। इसके प्रमाण रूप में नागेश्वर लिंग पर वर्ष में किसी किसी दिन सूर्य किरणे गिरती देखी जाती है।

 

 

कुंभेश्वर मंदिर

 

नागेश्वर मंदिर से थोडी ही दूरी पर कुंभेश्वर मंदिर है। यही इस तीर्थ का मुख्य मंदिर है। इसका गोपुर बहुत ऊंचा है। मंदिर का घेरा बहुत बड़ा है। इसमें कुंभेश्वर लिंग मूर्ति मुख्य पीठ पर है। यह मूर्ति घड़े के आकार की है। मंदिर में ही पार्वती का मंदिर है। पार्वती जी को मंगलाम्बिका कहते है।

 

 

शार्गपाणि मंदिर

 

 

मार्ग ऐसा है कि पहले महामघम सरोवर से शार्गपाणि मंदिर दर्शन करके तब कुंभेश्वर के दर्शन के लिए जा सकते है, या कुंभेश्वर के दर्शन करके इस मंदिर में आ सकते है। शार्गपाणि मंदिर विशाल है। इसके भीतर स्वर्ण मंडित गरूड स्तंभ है। मंदिर की रथाकृति इस बात को घोषित करती है, कि भगवान शार्गपाणि इसी रथ में आसीन होकर वैंकुंठ धाम से यहां पधारे थे।

 

यहां की कथा है कि भृगु ने जब भगवान की छाती पर लात मारी तब भगवान ने भृगु को कोई दंड तो दिया ही नहीं, उलटे उनसे क्षमा मांगी। तब लक्षमीजी  नारायण से रूठ गई। वे रूठकर यहां आयी। यहां हेम ऋषि के यहां कन्या रूप में अवतीर्ण हुई। भगवान नारायण भी अपनी नित्य प्रिय लक्ष्मी जी का वियोग सहन नहीं कर सके। वे भी यहां पधारे तथा उन्होंने ऋषि कन्या से विवाह कर लिया। तभी से शार्गपाणि और लक्ष्मी जी यहां श्री विग्रह रूप में स्थित हैं। शार्गपाणि मंदिर के पास एक सुंदर सरोवर है। इसे हेमपुष्करिणी कहते है।

 

 

वेदनारायण मंदिर

 

 

यह मंदिर कुंभकोणम के समीप ही है। कहा जाता है कि सृष्टि के प्रारंभ में यहीं ब्रह्मा जी ने नारायण का भजन किया था। उस यज्ञ में वेदनारायण प्रकट हुए थे। भगवान ने वहां अवभृथ स्नान के लिए कावेरी नदी को बुला लिया था। वह अब भी वहां हरिहर नदी के रूप में है।

भगवान शंकराचार्य का कामकोटि पीठ यवनकाल में कांची से यहां आगया था और अब भी यही है। वर्तमान पीठाधिपति आजकल कांची में रहते है।

 

 

त्रिभुवनम

 

यह तंजौर जिले में कुंभकोणम के निकट एक छोटी सी बस्ती है। मंदिर के अधिष्ठाता श्री कम्पहरेश्वर देव के नाम से विख्यात है। कहा जाता है, यह नाम एक राजा के पिशाचजनित कम्प को दूर करने से पड़ा। राजा से अनजाने में एक ब्राह्मण की हत्या हो गई थी, और इसी से वह पिशाचग्रस्त हो गया। यही शरभदेव की, (भगवान शिव के शरभावतार, जो नरसिंह भगवान को शांत करने के लिए हुआ था,) एक धातु प्रतिमा है, जो अत्यंत आकर्षक है।

 

 

दारासुरम

 

 

दारासुरम का ऐरावतेश्वर मंदिर कुंभकोणम से दक्षिण पश्चिम की ओर केवल दो मील की दूरी पर है। यह इधर के 18 प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। कहा जाता है कि भगवान शंकर यहां एक रूद्राक्ष वृक्ष के रूप में प्रकट हुए थे, तथा पत्तियां विभिन्न ऋषि, महर्षि तथा देवताओं की आकृतियां थी। यहां एक सरोवर भी है, कहा जाता है कि यहां सरोवर का जल भगवान शंकर के त्रिशूल से प्रकट हुआ था। इस तालाब को यमतीर्थ कहा जाता है।

 

 

 

भारत के प्रमुख तीर्थों पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—

 

 

 

 

हरिद्धार ( मोक्षं की प्राप्ति)Read more.
उतराखंड राज्य में स्थित हरिद्धार जिला भारत की एक पवित्र तथा धार्मिक नगरी के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है। Read more.
राधा कुंड यहाँ मिलती है संतान सुख प्राप्ति – radha kund mthuraRead more.
राधा कुंड उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर को कौन नहीं जानता में समझता हुं की इसका परिचय कराने की शायद Read more.
सोमनाथ मंदिर का इतिहास somnath tample history in hindiRead more.
भारत के गुजरात राज्य में स्थित सोमनाथ मंदिर भारत का एक महत्वपूर्ण  मंदिर है । यह मंदिर गुजरात के सोमनाथ Read more.
अजमेर शरीफ दरगाह ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती ajmer dargaah history in hindiRead more.
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की Read more.
वैष्णो देवी यात्रा माँ वैष्णो देवी की कहानी veshno devi history in hindiRead more.
जम्मू कश्मीर राज्य के कटरा गाँव से 12 किलोमीटर की दूरी पर माता वैष्णो देवी का प्रसिद्ध व भव्य मंदिर Read more.
बद्रीनाथ धाम – बद्रीनाथ मंदिर चार धाम यात्रा का एक प्रमुख धाम – बद्रीनाथ धाम की कहानीRead more.
उत्तराखण्ड के चमोली जिले मे स्थित व आकाश की बुलंदियो को छूते नर और नारायण पर्वत की गोद मे बसे Read more.
भीमशंकर ज्योतिर्लिंग इसके दर्शन मात्र से प्राणी सभी प्रकार के दुखो से छुटकारा पा जाता है भीमशंकर मंदिर की कहानीRead more.
भारत देश मे अनेक मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। लेकिन उनमे 12 ज्योतिर्लिंग का महत्व ज्यादा है। माना जाता Read more.
कैलाशनाथ मंदिर कांचीपुरम – शिव पार्वती का नृत्यRead more.
भारत के राज्य तमिलनाडु के कांचीपुरम शहर की पश्चिम दिशा में स्थित कैलाशनाथ मंदिर दक्षिण भारत के सबसे प्राचीन और Read more.
मल्लिकार्जुन मंदिर की कहानी – मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग का इतिहास हिन्दी मेंRead more.
प्रिय पाठको पिछली ज्योतिर्लिंग दर्शन श्रृंख्ला में हमने महाराष्ट् के भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की यात्रा की और उसके इतिहास व स्थापत्य Read more.
इलाहाबाद का इतिहास – गंगा यमुना सरस्वती संगम – इलाहाबाद का महा कुम्भ मेला -इलाहाबाद के दर्शनीय स्थल- इलाहाबाद तीर्थRead more.
इलाहाबाद उत्तर प्रदेश का प्राचीन शहर है। यह प्राचीन शहर गंगा यमुना सरस्वती नदियो के संगम के लिए जाना जाता Read more.
वाराणसी (काशी विश्वनाथ) की यात्रा – काशी का धार्मिक महत्व – वाराणसी के दर्शनीय स्थल – वाराणसी का इतिहास –Read more.
प्रिय पाठको अपनी उत्तर प्रदेश यात्रा के दौरान हमने अपनी पिछली पोस्ट में उत्तर प्रदेश राज्य के प्रमुख व धार्मिक Read more.
शक्तिपीठ मंदिर कौन कौन से है – 51शक्तिपीठो का महत्व और कथाRead more.
भरत एक हिन्दू धर्म प्रधान देश है। भारत में लाखो की संख्या में हिन्दू धर्म के तीर्थ व धार्मिक स्थल Read more.
यमुनोत्री धाम यात्रा – यमुनोत्री की कहानी – यमुनोत्री यात्रा के 10 महत्वपूर्ण टिप्सRead more.
भारत के राज्य उत्तराखंड को देव भूमी के नाम से भी जाना जाता है क्योकि इस पावन धरती पर देवताओ Read more.
उज्जैन महाकाल – उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर – अवंतिका तीर्थ में सप्तपुरी,Read more.
भारत के मध्य प्रदेश राज्य का प्रमुख शहर उज्जैन यहा स्थित महाकालेश्वर के मंदिर के प्रसिद्ध मंदिर के लिए जाना Read more.
नागेश्वर महादेव – नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर – नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – नागेश्वर मंदिर की 10 रोचक जानकारीयांRead more.
नागेश्वर महादेव भगवान शिव के द्वादश ज्योतिर्लिंगो में से एक है। यह एक पवित्र तीर्थ है। नागेश्वर महादेव ज्योतिर्लिंग कहा Read more.
केदारनाथ धाम -केदारनाथ धाम का इतिहास रोचक जानकारीRead more.
प्रिय पाठको संसार में भगवान शिव  यूंं तो अनगिनत शिव लिंगो के रूप में धरती पर विराजमान है। लेकिन भंगवान Read more.
त्रयम्बकेश्वर महादेव – त्रयम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग – त्रियम्बकेश्वर टेम्पल नासिकRead more.
त्रयम्बकेश्वर महादेव मंदिर महाराष्ट्र राज्य के नासिक जिले में स्थित है। नासिक से लगभग 30 किलोमीटर की दूरी पर त्रयम्बकेश्वर Read more.
रामेश्वरम यात्रा – रामेश्वरम दर्शन – रामेश्वरम टेम्पल की 10 रोचक जानकारीRead more.
हिन्दू धर्म में चार दिशाओ के चार धाम का बहुत बडा महत्व माना जाता है। जिनमे एक बद्रीनाथ धाम दूसरा Read more.
द्वारकाधीश मंदिर का इतिहास – द्वारका धाम – द्वारकापुरीRead more.
हिन्दू धर्म में चार दिशाओ के चारो धाम का बहुत बडा महत्व माना जाता है। और चारो दिशाओ के ये Read more.
ब्रह्म सरोवर कुरूक्षेत्र के सुंदर दृश्य
ब्रह्म सरोवर कुरूक्षेत्र एशिया का सबसे बडा सरोवरRead more.
भारत के राज्य हरियाणा में स्थित कुरूक्षेत्र भारत के प्राचीनतम नगरो में से एक है। इसकी प्राचीनता का अंदाजा इसी Read more.
कोणार्क सूर्य मंदिर के सुंदर दृश्य
कोणार्क सूर्य मंदिर का इतिहास – कोणार्क सूर्य मंदिर का रहस्यRead more.
कोणार्क’ दो शब्द ‘कोना’ और ‘अर्का’ का संयोजन है। ‘कोना’ का अर्थ है ‘कॉर्नर’ और ‘अर्का’ का मतलब ‘सूर्य’ है, Read more.
अयोध्या का इतिहास
अयोध्या का इतिहास – अयोध्या के दर्शनीय स्थलRead more.
अयोध्या भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर है। कुछ सालो से यह शहर भारत के सबसे चर्चित Read more.
मथुरा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
मथुरा दर्शनीय स्थल – मथुरा दर्शन की रोचक जानकारीRead more.
मथुरा को मंदिरो की नगरी के नाम से भी जाना जाता है। मथुरा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक Read more.
गंगासागर तीर्थ – गंगासागर का इतिहास – गंगासागर का मंदिरRead more.
गंगा नदी का जिस स्थान पर समुद्र के साथ संगम हुआ है। उस स्थान को गंगासागर कहा गया है। गंगासागर Read more.
तिरूपति बालाजी धाम के सुंदर दृश्य
तिरूपति बालाजी दर्शन – तिरुपति बालाजी यात्राRead more.
तिरूपति बालाजी भारत वर्ष के प्रसिद्ध तीर्थ स्थलों मे से एक है। यह आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले मे स्थित है। Read more.
बिंदु सरोवर सिद्धपुर गुजरात के सुंदर दृश्य
बिंदु सरोवर गुजरात के सिद्धपुर मे मातृश्राद के लिए प्रसिद्ध तीर्थRead more.
जिस प्रकार पितृश्राद्ध के लिए गया प्रसिद्ध है। वैसे ही मातृश्राद के लिए सिद्धपुर मे बिंदु सरोवर प्रसिद्ध है। इसे Read more.
जगन्नाथ पुरी धाम के सुंदर दृश्य
जगन्नाथ पुरी धाम की यात्रा – जगन्नाथ पुरी का महत्व और प्रसिद्ध मंदिरRead more.
श्री जगन्नाथ पुरी धाम चारों दिशाओं के चार पावन धामों मे से एक है। ऐसी मान्यता है कि बदरीनाथ धाम Read more.
कैलाश मानसरोवर के सुंदर दृश्य
कैलाश मानसरोवर की यात्रा – मानसरोवर यात्रा की सम्पूर्ण जानकारीRead more.
हिमालय की पर्वतीय यात्राओं में कैलाश मानसरोवर की यात्रा ही सबसे कठिन यात्रा है। इस यात्रा में यात्री को लगभग Read more.
अमरनाथ यात्रा, मंदिर, गुफा, शिवलिंग, कथा और इससे जुडी रोचक जानकारीRead more.
अमरनाथ का पवन पावन क्षेत्र कश्मीर मे पडता है। अमरनाथ की यात्रा बड़ी ही पुण्यदायी, भक्ति और मुक्तिदायिनी है। सारे Read more.
गंगोत्री धाम के सुंदर दृश्य
गंगोत्री धाम यात्रा, गंगोत्री तीर्थ दर्शन, महत्व, व रोचक जानकारीRead more.
गंगाजी को तीर्थों का प्राण माना गया है। गंगाजी हिमालय से उत्पन्न हुई है। जिस स्थान से गंगा जी का Read more.

write a comment