Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
कालहस्ती मंदिर का इतिहास, कालहस्ती मंदिर तिरूपति की कथा

कालहस्ती मंदिर का इतिहास, कालहस्ती मंदिर तिरूपति की कथा

श्री कालाहस्ती मंदिर आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले में तिरूपति शहर के पास स्थित कालहस्ती नामक कस्बे में एक शिव मंदिर है। ये मंदिर पेन्नार नदी की शाखा स्वर्णामुखी नदी के तट पर बसा है और कालहस्ती के नाम से भी जाना जाता है। दक्षिण भारत में स्थित भगवान शिव के तीर्थस्थानों में इस स्थान का विशेष महत्व है। दक्षिण भारत में भगवान शिव के जो पंचतत्व लिंग माने जाते है, उनमें कालहस्ती वायुतत्व लिंग है। यहां 51 शक्तिपीठों में से एक शक्तिपीठ भी है। यहां देवी सती का दक्षिण स्कंध गिरा था। श्री कालहस्ती मंदिर स्वर्णमुखी नदी के तट पर है। इस नदी में जल कम रहता है। नदी के पार तट पर ही यह मंदिर है।

 

 

 

कालहस्ती मंदिर की कथा – कालहस्ती मंदिर की कहानी

 

 

कहते है कि नील और फणेश नाम के दो भील लड़के थे। उन्होंने शिकार खेलते समय वन में एक पहाड़ी पर भगवान शिव की लिंग मूर्ति देखी। नील उस मूर्ति की रक्षा के लिए वही रूक गया और फणीश लौट आया।

 

नील ने पूरी रात मूर्ति का पहरा इसलिए दिया ताकि कोई जंगली पशु उसे नष्ट न कर दे। सुबह वह वन में चला गया। दोपहर के समय जब वह लौटा तो उसके एक हाथ में धनुष, दूसरें में भुना हुआ मांस, मस्तक के केशो में कुछ फूल तथा मुंह में जल भरा हुआ था। उसके हाथ खाली नहीं थे, इसलिए उसने मुख के जल से कुल्ला करके भगवान को स्नान कराया। पैर से मूर्ति पर चढ़े पुराने फूल व पत्ते हटाएं। बालों में छिपाए फूल मूर्ति पर गिराए तथा भुने हुए मांस का टुकडा भोग लगाने के लिए रख दिया।

 

दूसरे दिन नील जब जंगल गया तो वहां कुछ पुजारी आए। उन्होंने मंदिर को मांस के टूकड़ों से दूषित देखा। उन्होंने मंदिर की साफ सफाई की तथा वहां से चले गए। इसके बाद यह रोज का क्रम बन गया। नील रोज जंगल से यह सब सामग्री लाकर चढ़ाता और पुजारी उसे साफ कर जाते। एक दिन पुजारी एक स्थान पर छिप गए ताकि उस व्यक्ति का पता लगा सके, जो रोज रोज मंदिर को दूषित कर जाता है।

 

 

उस दिन नील जब जंगल से लौटा तो उसे मूर्ति में भगवान के नेत्र दिखाई दिए। एक नेत्र से खून बह रहा था। नील ने समझा कि भगवान को किसी ने चोट पहुचाई है। वह धनुष पर बाण चढ़ाकर उस चोट पहुंचाने वाले व्यक्ति को ढूंढने लगा। जब उसे कोई नही मिला तो वह कई प्रकार की जड़ी बूटियां ले आया तथा वह भगवान की आंख का उपचार करने लगा।

 

 

परंतु रक्त धारा बंद न हुई। तभी उसे अपने बुजुर्गों की एक बात याद आई, “मनुष्य के घाव पर मनुष्य का ताजा चमड़ा लगा देने से घाव शीघ्र भर जाता है”। नील ने बिना हिचक बाण की नोक घुसाकर अपनी एक आंख निकाली तथा उसे भगवान के घायल नेत्र पर रख दिया।

 

 

 

कालहस्ती मंदिर के सुंदर दृश्य
कालहस्ती मंदिर के सुंदर दृश्य

 

मूर्ति के नेत्र से रक्त बहना तत्काल बंद हो गया। छिपे हुए पुजारियों ने जब यह चमत्कार देखा तो वह दंग रह गए। तभी मूर्ति की दूसरी आंख से रक्त धारा बहने लगी। नील ने मूर्ति की उस आंख पर अपने पैर का अंगूठा टिकाया ताकि अंधा होने के बाद वह टटोलकर उस स्थान को ढ़ूंढ़ सके। इसके बाद उसने अपना दूसरा नेत्र निकाला तथा उसे मूर्ति की दूसरी आंख पर लगा दिया।

 

 

तभी वह स्थान अलौकिक प्रकाश से भर गया। भगवान शिव प्रकट हो गए, तथा उन्होंने नील का हाथ पकड़ लिया। वे नील को अपने साथ शिवलोक ले गए। नील का नाम उसी समय से कण्णप्प (तमिल में कण्ण नेत्र को कहते है) पड़ गया। पुजारियों ने भी भगवान तथा भोले भक्त के दर्शन किए तथा अपने जीवन को सार्थक किया।

 

 

कण्णप्प की प्रशंसा में आदि शंकराचार्य जी ने एक श्लोक में लिखा है—-” रास्ते में ठुकराई हुई पादुका ही भगवान शंकर के अंग झाड़ने की कूची बन गई। आममन (कुल्ले) का जल ही भगवान का दिव्याभिषेक जल हो गया और मांस ही नैवेद्य बन गया। अहो! भक्ति क्या नहीं कर सकती? इसके प्रभाव से एक जंगली भील भी भक्तबतंस (भक्त श्रेष्ठ) बन गया”।।

 

 

 

 

कालहस्ती दर्शन – कालहस्ती के दर्शनीय स्थल

 

 

 

कैलाशगिरी

 

रेलवे स्टेशन से लगभग डेढ़ किलोमीटर दूर स्वर्णमुखी नदी है। नदी तट के पास ही एक पहाड़ी है। इसे ही कैलाशगिरी कहते है। नंदीश्वर ने जो कैलाश के तीन शिखर पृथ्वी पर स्थापित किए, उन्हीं में से यह एक है। पहाड़ी के नीचे उससे सटा हुआ कालहस्तीश्वर का विशाल मंदिर है।

 

 

 

कालहस्ती मंदिर के सुंदर दृश्य
कालहस्ती मंदिर के सुंदर दृश्य

 

 

 कालहस्ती मंदिर

 

मंदिर में मुख्य स्थान पर भगवान शिव की लिंग रूप मूर्ति है। यही वायुतत्व लिंग है। इसलिए पुजारी भी इसका स्पर्श नहीं करते। मूर्ति के पास स्वर्णपटट स्थापित है, उसी पर माला इत्यादि चढ़ाकर पूजा की जाती है। इस मूर्ति में मकड़ी, हाथी तथा सर्प के दांतों के चिन्ह स्पष्ट दिखाई देते है। कहा जाता है कि सबसे पहले मकड़ी , हाथी तथा सर्प ने भगवान शिव की आराधना की थी। उनके नाम पर ही श्री कालहस्तीश्वर नाम पड़ा है। श्री का अर्थ है मकड़ी, काल का अर्थ सर्प तथा हस्ती  का अर्थ है हाथी। मंदिर में भगवती पार्वती की अलग मूर्ति है।

 

 

 

मणिगण्णियगट्टम

 

 

मंदिर के अग्नि कोण में चट्टान काट काटकर बनाया हुआ एक मंडप है, जिसका निम मणिगण्णियगट्टम है। इस नाम की एक भक्ता हुई है, जिनके कान में भगवान शिव ने तारकमंत्र फूंका था। उसी भक्ता के नाम पर यह मंदिर विख्यात हैं।

 

 

 

कण्णप्पेश्वर

 

 

मंदिर के पास एक पहाडी है। कहा जाता है, कि इसी पहाड़ी पर अर्जुन ने तपस्या करके भगवान शिव से पाशुपतास्त्र प्राप्त किया था। यहां ऊपर जो शिवलिंग है, वह अर्जुन द्वारा प्रतिष्ठित है। पीछे कण्णप्प ने उसका पूजन किया। तभी इसका नाम कण्णप्पेश्वर हुआ। वही एक छोटे से मंदिर में कण्णप्प भील की मूर्ति है।

 

 

 

पवित्र सरोवर

 

पहाड़ी से उतरते समय एक सरोवर आता है। पहाड़ी से वह सरोवर दिखाई दे जाता है। कहा जाता है कि कण्णप्प शिवलिंग पर चढ़ाने के लिए वहीं से मुख में जल भरकर ले जाता था। यह सरोवर एक पवित्र तीर्थ माना जाता हैं।

 

 

 

दुर्गा मंदिर

 

कण्णप्प पहाड़ी के ठीक सामने बस्ती के दूसरे सिरे पर एक और पहाड़ी है। इस पहाड़ी पर दुर्गा मंदिर है। यह स्थान 51 शक्तिपीठों में से एक है, परंतु बहुत कम लोग इस पहाड़ी पर जाते है। दुर्गा मंदिर प्रायः उपेक्षित पड़ा रहता है।

 

 

 

 

 

भारत के प्रमुख तीर्थों पर आधारित हमारें यह लेख भी जरूर पढ़ें:—-

 

 

हरिद्धार ( मोक्षं की प्राप्ति)Read more.
उतराखंड राज्य में स्थित हरिद्धार जिला भारत की एक पवित्र तथा धार्मिक नगरी के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है। Read more.
राधा कुंड यहाँ मिलती है संतान सुख प्राप्ति – radha kund mthuraRead more.
राधा कुंड उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर को कौन नहीं जानता में समझता हुं की इसका परिचय कराने की शायद Read more.
सोमनाथ मंदिर का इतिहास somnath tample history in hindiRead more.
भारत के गुजरात राज्य में स्थित सोमनाथ मंदिर भारत का एक महत्वपूर्ण  मंदिर है । यह मंदिर गुजरात के सोमनाथ Read more.
अजमेर शरीफ दरगाह ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती ajmer dargaah history in hindiRead more.
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की Read more.
वैष्णो देवी यात्रा माँ वैष्णो देवी की कहानी veshno devi history in hindiRead more.
जम्मू कश्मीर राज्य के कटरा गाँव से 12 किलोमीटर की दूरी पर माता वैष्णो देवी का प्रसिद्ध व भव्य मंदिर Read more.
बद्रीनाथ धाम – बद्रीनाथ मंदिर चार धाम यात्रा का एक प्रमुख धाम – बद्रीनाथ धाम की कहानीRead more.
उत्तराखण्ड के चमोली जिले मे स्थित व आकाश की बुलंदियो को छूते नर और नारायण पर्वत की गोद मे बसे Read more.
भीमशंकर ज्योतिर्लिंग इसके दर्शन मात्र से प्राणी सभी प्रकार के दुखो से छुटकारा पा जाता है भीमशंकर मंदिर की कहानीRead more.
भारत देश मे अनेक मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। लेकिन उनमे 12 ज्योतिर्लिंग का महत्व ज्यादा है। माना जाता Read more.
कैलाशनाथ मंदिर कांचीपुरम – शिव पार्वती का नृत्यRead more.
भारत के राज्य तमिलनाडु के कांचीपुरम शहर की पश्चिम दिशा में स्थित कैलाशनाथ मंदिर दक्षिण भारत के सबसे प्राचीन और Read more.
मल्लिकार्जुन मंदिर की कहानी – मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग का इतिहास हिन्दी मेंRead more.
प्रिय पाठको पिछली ज्योतिर्लिंग दर्शन श्रृंख्ला में हमने महाराष्ट् के भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग की यात्रा की और उसके इतिहास व स्थापत्य Read more.
इलाहाबाद का इतिहास – गंगा यमुना सरस्वती संगम – इलाहाबाद का महा कुम्भ मेला -इलाहाबाद के दर्शनीय स्थल- इलाहाबाद तीर्थRead more.
इलाहाबाद उत्तर प्रदेश का प्राचीन शहर है। यह प्राचीन शहर गंगा यमुना सरस्वती नदियो के संगम के लिए जाना जाता Read more.
वाराणसी (काशी विश्वनाथ) की यात्रा – काशी का धार्मिक महत्व – वाराणसी के दर्शनीय स्थल – वाराणसी का इतिहास –Read more.
प्रिय पाठको अपनी उत्तर प्रदेश यात्रा के दौरान हमने अपनी पिछली पोस्ट में उत्तर प्रदेश राज्य के प्रमुख व धार्मिक Read more.
शक्तिपीठ मंदिर कौन कौन से है – 51शक्तिपीठो का महत्व और कथाRead more.
भरत एक हिन्दू धर्म प्रधान देश है। भारत में लाखो की संख्या में हिन्दू धर्म के तीर्थ व धार्मिक स्थल Read more.
यमुनोत्री धाम यात्रा – यमुनोत्री की कहानी – यमुनोत्री यात्रा के 10 महत्वपूर्ण टिप्सRead more.
भारत के राज्य उत्तराखंड को देव भूमी के नाम से भी जाना जाता है क्योकि इस पावन धरती पर देवताओ Read more.
उज्जैन महाकाल – उज्जैन का महाकालेश्वर मंदिर – अवंतिका तीर्थ में सप्तपुरी,Read more.
भारत के मध्य प्रदेश राज्य का प्रमुख शहर उज्जैन यहा स्थित महाकालेश्वर के मंदिर के प्रसिद्ध मंदिर के लिए जाना Read more.
नागेश्वर महादेव – नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर – नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा – नागेश्वर मंदिर की 10 रोचक जानकारीयांRead more.
नागेश्वर महादेव भगवान शिव के द्वादश ज्योतिर्लिंगो में से एक है। यह एक पवित्र तीर्थ है। नागेश्वर महादेव ज्योतिर्लिंग कहा Read more.
केदारनाथ धाम -केदारनाथ धाम का इतिहास रोचक जानकारीRead more.
प्रिय पाठको संसार में भगवान शिव  यूंं तो अनगिनत शिव लिंगो के रूप में धरती पर विराजमान है। लेकिन भंगवान Read more.
त्रयम्बकेश्वर महादेव – त्रयम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग – त्रियम्बकेश्वर टेम्पल नासिकRead more.
त्रयम्बकेश्वर महादेव मंदिर महाराष्ट्र राज्य के नासिक जिले में स्थित है। नासिक से लगभग 30 किलोमीटर की दूरी पर त्रयम्बकेश्वर Read more.
रामेश्वरम यात्रा – रामेश्वरम दर्शन – रामेश्वरम टेम्पल की 10 रोचक जानकारीRead more.
हिन्दू धर्म में चार दिशाओ के चार धाम का बहुत बडा महत्व माना जाता है। जिनमे एक बद्रीनाथ धाम दूसरा Read more.
द्वारकाधीश मंदिर का इतिहास – द्वारका धाम – द्वारकापुरीRead more.
हिन्दू धर्म में चार दिशाओ के चारो धाम का बहुत बडा महत्व माना जाता है। और चारो दिशाओ के ये Read more.
ब्रह्म सरोवर कुरूक्षेत्र के सुंदर दृश्य
ब्रह्म सरोवर कुरूक्षेत्र एशिया का सबसे बडा सरोवरRead more.
भारत के राज्य हरियाणा में स्थित कुरूक्षेत्र भारत के प्राचीनतम नगरो में से एक है। इसकी प्राचीनता का अंदाजा इसी Read more.
कोणार्क सूर्य मंदिर के सुंदर दृश्य
कोणार्क सूर्य मंदिर का इतिहास – कोणार्क सूर्य मंदिर का रहस्यRead more.
कोणार्क’ दो शब्द ‘कोना’ और ‘अर्का’ का संयोजन है। ‘कोना’ का अर्थ है ‘कॉर्नर’ और ‘अर्का’ का मतलब ‘सूर्य’ है, Read more.
अयोध्या का इतिहास
अयोध्या का इतिहास – अयोध्या के दर्शनीय स्थलRead more.
अयोध्या भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख शहर है। कुछ सालो से यह शहर भारत के सबसे चर्चित Read more.
मथुरा दर्शनीय स्थल के सुंदर दृश्य
मथुरा दर्शनीय स्थल – मथुरा दर्शन की रोचक जानकारीRead more.
मथुरा को मंदिरो की नगरी के नाम से भी जाना जाता है। मथुरा भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक Read more.
गंगासागर तीर्थ – गंगासागर का इतिहास – गंगासागर का मंदिरRead more.
गंगा नदी का जिस स्थान पर समुद्र के साथ संगम हुआ है। उस स्थान को गंगासागर कहा गया है। गंगासागर Read more.
तिरूपति बालाजी धाम के सुंदर दृश्य
तिरूपति बालाजी दर्शन – तिरुपति बालाजी यात्राRead more.
तिरूपति बालाजी भारत वर्ष के प्रसिद्ध तीर्थ स्थलों मे से एक है। यह आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले मे स्थित है। Read more.
बिंदु सरोवर सिद्धपुर गुजरात के सुंदर दृश्य
बिंदु सरोवर गुजरात के सिद्धपुर मे मातृश्राद के लिए प्रसिद्ध तीर्थRead more.
जिस प्रकार पितृश्राद्ध के लिए गया प्रसिद्ध है। वैसे ही मातृश्राद के लिए सिद्धपुर मे बिंदु सरोवर प्रसिद्ध है। इसे Read more.
जगन्नाथ पुरी धाम के सुंदर दृश्य
जगन्नाथ पुरी धाम की यात्रा – जगन्नाथ पुरी का महत्व और प्रसिद्ध मंदिरRead more.
श्री जगन्नाथ पुरी धाम चारों दिशाओं के चार पावन धामों मे से एक है। ऐसी मान्यता है कि बदरीनाथ धाम Read more.
कैलाश मानसरोवर के सुंदर दृश्य
कैलाश मानसरोवर की यात्रा – मानसरोवर यात्रा की सम्पूर्ण जानकारीRead more.
हिमालय की पर्वतीय यात्राओं में कैलाश मानसरोवर की यात्रा ही सबसे कठिन यात्रा है। इस यात्रा में यात्री को लगभग Read more.
अमरनाथ यात्रा, मंदिर, गुफा, शिवलिंग, कथा और इससे जुडी रोचक जानकारीRead more.
अमरनाथ का पवन पावन क्षेत्र कश्मीर मे पडता है। अमरनाथ की यात्रा बड़ी ही पुण्यदायी, भक्ति और मुक्तिदायिनी है। सारे Read more.
गंगोत्री धाम के सुंदर दृश्य
गंगोत्री धाम यात्रा, गंगोत्री तीर्थ दर्शन, महत्व, व रोचक जानकारीRead more.
गंगाजी को तीर्थों का प्राण माना गया है। गंगाजी हिमालय से उत्पन्न हुई है। जिस स्थान से गंगा जी का Read more.

 

 

write a comment