Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi
कर्पूरी देवी कौन थी, क्या आप राजमाता कर्पूरी के बारे मे जानते है

कर्पूरी देवी कौन थी, क्या आप राजमाता कर्पूरी के बारे मे जानते है

राजस्थान में एक शहर अजमेर है। अजमेर के इतिहास को देखा जाएं तो, अजमेर शुरू से ही पारिवारिक रंजिशों का तथा अनेक प्रकार के षड्यंत्रो का केंद्र रहा है। अजमेर में पृथ्वीराज द्वितीय राज्य करते थे। उनके कोई संतान न थी। वे नि:संतान ही मृत्युलोक को प्राप्त हो गए। उनके एख चाचा थे। जिनका नाम सोमेश्वर देव था। सोमेश्वर देव को अजमेर की गद्दी पर बैठने के लिए कहा गया। वे थोडे दिन ही राजगद्दी पर बैठे थे, कि तभी उनकी माता जी उन्हें गुजरात लेकर चली गई। इसकी एक वजह थी। उनकी माता जी सोमेश्वर देव को अजमेर की कलह से बचाना चाहती थी। गुजरात में सोमेश्वर देव का विवाह हुआ। उनकी पत्नी का नाम कर्पूरी देवी था। कर्पूरी देवी राजपूत घराने में ब्याही गई। उनके पिता त्रिपुरा के राजा थे।

 

 

कर्पूरी देवी की जीवनी – राजमाता कर्पूरी देवी का जीवन परिचय

 

 

कर्पूरी देवी को जीवन में कभी शांति नही मिली। राजघराने में जन्म लेने के बावजूद वे खूश नहीं थी। जब उनकी शादी हुई तब भी उन्हें शांति नहीं मिली, खुशी नहीं मिली। उनका सारा जीवन कांटों से घिर गया।

 

राजपूत घराने में एक अबोध बालक का जन्म हुआ। यह बालक यह बालक कर्पूरी देवी की कोख से पैदा हुआ था। उस बालक का नाम पृथ्वीराज तृतीय था।

 

अभी पृथ्वीराज पालने में ही थेकि तभी उन्हें शिक्षा मिलने लगी। अपनी धरती की रक्षा के लिए लड़ना है। धरती का एक भी टुकडा दूसरे के कब्जे में न जाने पाएं। जान की परवाह नहीं करनी है। जान जाए तो जाए, पर धरती की शान न जाने पाए। अगर दुश्मन से लडते लडते बलिदान दे दिया, तो तुम्हारा नाम अमर होगा। तुम्हें यश मिलेगा। अगर दुश्मन से हार गए तो जिंदगी भर अपयश मिलेगा और नाम की बदनामी होगी।कर्पूरी देवी बेटे को समझा रही थी।

 

राजपूत घराने का दस्तूर कुछ अजीब था। राजपूत युद्ध के क्षेत्र में वीरगति को प्राप्त होने में अपना अहोभाग्य समझते थे। लडने की शिक्षा उन्हें पालने से ही दी जाती थीं। प्रत्येक मां अपने बेटे को जन्म भूमि की रक्षा करना सिखाती थी। जननी जन्म भूमि की रक्षा में प्राणो को न्यौछावर करने की शिक्षा दी जाती थी। वीर माताएं पुत्र को आंचल में नहीं छिपाती थी। यह राजपूत घराने की एक परंपरा थी।

 

 

घंटे दिनों में, दिन महिनों में और महिने सालो में बदलते गए। पृथ्वीराज ग्यारह वर्ष के हो गए। उस समय सोमेश्वर देव नागौर की रक्षा कर रहे थे। नागौर के चालुक्यों ने उन्हें हमेशा के लिए इस दुनिया से अलविदा कर दिया।

 

 

 

कर्पूरी देवी की कहानी
कर्पूरी देवी की कहानी

 

अब सारी जिम्मेदारी कर्पूरी देवी के कंधों पर आ गई। एक ओर पृथ्वीराज की शिक्षा का दायित्व था तो दूसरी ओर राजघराने को भी संभालना था। कर्पूरी देवी के हाथ में राजघराने की कमान थी। उन्होंने अपना राजमाता धर्म बखूबी निभाया और एक कुशल प्रशासक होने का गौरव हासिल किया। उन्होंने एक संरक्षण सभा बनाई। उस सभा की अध्यक्षा वे खुद बनीं।

 

राजमाता कर्पूरी देवी ने लडाई के सारे तरीके पृथ्वीराज को बताए। उन्होंने उनकी शिक्षा का उचित प्रबंध किया, क्योंकि उनके पास समय का आभाव था। उन्होंने सभा गठित करने के बाद मंत्रियों का चुनाव किया। उनके सभी मंत्री अपने पद के काबिल थे। कबासा उनका सबसे योग्य मंत्री था। सेनापति भुवनकमल एक कुशल सेनापति था।

 

 

पृथ्वीराज कई भाषाओं के ज्ञात बन गए। पृथ्वीराज ने अनेक शास्त्रों का गहन अध्ययन किया। उन्हें प्रशासनिक कार्यों की शिक्षा भी प्रदान की गई। उन्होंने अनेक शस्त्रों का संचालन सीखा।समय ने करवट बदली। पृथ्वीराज एक वीर योद्घा बन गए।

 

कर्पूरी देवी में अब कुछ बदलाव आ चुका था। उनमें शांति का नया संचार हुआ। वे धैर्य और संयम से कार्य करने लगी। पृथ्वीराज का एक चचेरा भाई था। उसका नाम नागार्जुन था। नागार्जुन अजमेर पर आक्रमण करना चाहता था। यह खबर जब राजमाता कर्पूरी देवी को मिली तब, उन्होंने एक बड़ी सेना का गठन किया। अभी गठन पूरा भी नहीं हुआ था। कि तभी नागार्जुन ने युद्ध का बिगुल बजा दिया। उसे मालूम था कि अजमेर सैनिक दृष्टि से अभी कमजोर है। पृथ्वीराज अल्पावस्था में है।

 

 

राजमाता कर्पूरी देवी जरा भी नहीं घबराईं। उन्होंने अपना अटूट साहस दिखाया। उनकी सेना का नेतृत्व योग्य मंत्री कबासा ने किया। कबासा ने नागार्जुन को युद्ध में ललकारा। नागार्जुन अपनी योजना में कामयाब नहीं हुआ। वह युद्ध में पराजित हुआ। अजमेर की सेना ने उसे मार गिराया।

 

कर्पूरी देवी के दिल में बदले की चिंगारी उठ रही थी। उनका बेटा जवान हो गया था। उन्होंने पृथ्वीराज को उकसाया, ताकि वह अपने पिता की मृत्यु का बदला ले सके। कर्पूरी देवी पृथ्वीराज के उत्साह को शुरु से ही बढ़ती आई थी। आज वो निडर बन गया था। उसके दिल में देशप्रेम जाग गया था। वह राजपूत का बेटा था, और राजपूत पीछे हटने वालों मे से नहीं होते। खतरों से खेलना उनकी आदत बन गई थी। कर्पूरी देवी को मालूम थाकि लड़ाई का मैदान पृथ्वीराज के लिए चारपाई हैऔर वहीं बिछौना भी।

 

मां का आदेश मिलते ही पृथ्वीराज ने चालुक्यों पर आक्रमण कर दिया। उन्होंने जबरदस्त संघर्ष किया, उनका संघर्ष सफल हुआ। उन्होंने चालुक्यों को पराजित किया। इस तरह से उन्होंने अपने पिता की मृत्यु का बदला लिया। पृथ्वीराज छोटी बड़ी लड़ाइयां लड़ते रहे, और आगे चलकर वे एक शक्तिशाली योद्धा बने। उन्हें योद्धाओं का सम्राट कहा जाने लगा। समय हमेशा उनके अनुकूल रहा। उन्हें महान विजेता से भी संबोधित किया गया।

 

 

धन्य है वह मां! जिसने पृथ्वीराज जैसा पुत्र जन्मा, धन्य है उस मां की शिक्षा जिसने बचपन से ही उन्हें निडर, साहस और वीरता का पाठ पढ़ाया। ये उन्हीं का चमत्कार है, जो इतने साहसिक गुण पृथ्वीराज में पाए गए, ये उन्हीं की देन है, जो पृथ्वीराज कुशल योद्धा बने, ये उन्हीं के संस्कार है, जिनसे पृथ्वीराज मातृभूमि की रक्षा करने में सफल हुए। ऐसी वीरांगना मां कर्पूरी देवी को हमारा शत शत प्रणाम।

 

 

 

 

भारत के इतिहास की वीर नारियों पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें:—

 

 

 

अनन्य देशभक्ता, वीर रानी दुर्गावती ने अपने देश की स्वतंत्रता की रक्षा के लिए अंतिम सांस तक युद्ध किया। रण के मैदान
लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी जिले के भदैनी नामक नगर में 19 नवम्बर 1828 को हुआ था। उनका बचपन का नाम मणिकर्णिका
नबेगम हजरत महल का अंग्रेजो के खिलाफ युद्ध का काल्पिनिक चित्र
बेगम हजरत महल लखनऊ के नवाब वाजिद अली शाह की शरीक-ए-हयात (पत्नी) थी। उनके शौहर वाजिद अली शाह विलासिता और
रानी भवानी की जीवनी
रानी भवानी अहिंसा मानवता और शांति की प्रतिमूर्ति थी। वे स्वर्ग के वैभवका परित्याग करने के लिए हमेशा तैयार रहती
कित्तूर की रानी चेन्नमा की वीर गाथा
रानी चेन्नमा का जन्म सन् 1778 में काकतीय राजवंश में हुआ था। चेन्नमा के पिता का नाम घुलप्पा देसाई और
भीमाबाई होल्कर का काल्पनिक चित्र
भीमाबाई महान देशभक्ता और वीरह्रदया थी। सन् 1857 के लगभग उन्होने अंग्रेजो से युद्ध करके अद्भुत वीरता और साहस का
मैडम कामा का काल्पनिक चित्र
मैडम कामा कौन कौन थी? अपने देश से प्रेम होने के कारण ही मैडम कामा अपने देश से दूर थी।
रानी पद्मावती जौहर का काल्पनिक चित्र
महाराणा लक्ष्मण सिंह अपने पिता की गद्दी पर सन् 1275 मैं बैठे। महाराणा के नाबालिग होने के कारण, राज्य का
श्रीमती इंदिरा गांधी का फाइल चित्र
इंदिरा गांधी का जन्म 19 नवंबर सन् 1917 को उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद मे हुआ था। जहां इंदिरा गांधी के
सरोजिनी नायडू का फाईल चित्र
सरोजिनी नायडू महान देशभक्त थी। गांधी जी के बताए मार्ग पर चलकर स्वतंत्रता के लिए संघर्ष करने वालो में उनका
कस्तूरबा गांधी के चित्र
भारत को गुलामी की जंजीरों से आजाद कराने वाले, भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी को प्ररेणा देने वाली और
कमला नेहरू
कमला नेहरू गांव गांव घूमकर स्वदेशी का प्रचार करती थी। वे गांवों में घर घर जाती थी। स्त्रियों से मिलती
वीरबाला कालीबाई की प्रतिमाएं
आज के अफने इस लेख मे हम एक ऐसी गुरू भक्ता के बारे मे जाने। जिसने अपने प्राणो की आहुति
रानी कर्णावती हिस्ट्री इन हिन्दी
रानी कर्णावती कौन थी? अक्सर यह प्रश्न रानी कर्णावती की जीवनी, और रानी कर्णावती का इतिहास के बारे मे रूची
हाड़ी रानी के बलिदान को दर्शाती मूर्ति कला
सलुम्बर उदयपुर की राज्य की एक छोटी सी रियासत थी। जिसके राजा राव रतन सिंह चूड़ावत थे। हाड़ी रानी सलुम्बर के
राजबाला के प्रेम, साहस, त्याग की रोमांचक कहानी
राजबाला वैशालपुर के ठाकुर प्रतापसिंह की पुत्री थी, वह केवल सुंदरता ही में अद्वितीय न थी, बल्कि धैर्य और चातुर्यादि
रानी जवाहर बाई की वीरता की कहानी
सन् 1533 की बात है। गुजरात के बादशाह बहादुरशाह जफर ने एक बहुत बड़ी सेना के साथ चित्तौड़ पर आक्रमण
सती स्त्री रानी प्रभावती
रानी प्रभावती वीर सती स्त्री गन्नौर के राजा की रानी थी, और अपने रूप, लावण्य व गुणों के कारण अत्यंत
मदर टेरेसा के चित्र
मदर टेरेसा कौन थी? यह नाम सुनते ही सबसे पहले आपके जहन में यही सवाल आता होगा। मदर टेरेसा यह
अच्छन कुमारी और पृथ्वीराज चौहान के मिलन का काल्पनिक चित्र
अच्छन कुमारी चंद्रावती के राजा जयतसी परमार की पुत्री थी। ऐसा कोई गुण नहीं था, जो अच्छन में न हो।
रामप्यारी दासी
भारत के आजाद होने से पहले की बात है। राजस्थान कई छोटे बडे राज्यों में विभाजित था। उन्हीं में एक
सती उर्मिला
सती उर्मिला अजमेर के राजा धर्मगज देव की धर्मपत्नी थी। वह बड़ी चतुर और सुशील स्त्री थी। वह राज्य कार्य
श्रीमती विजयलक्ष्मी पंडित
"आज तक हमारा काम परदेशी नीवं के भवन को गिराना रहा है, परंतु अब हमें अपना भवन बनाना है, जिसकी
अमृता शेरगिल
चित्रकला चित्रकार के गूढ़ भावों की अभिव्यंजना है। अंतर्जगत की सजीव झांकी है। वह असत्य वस्तु नहीं कल्पना की वायु
राजकुमारी अमृत कौर
श्री राजकुमारी अमृत कौर वर्तमान युग की उन श्रेष्ठ नारी विभूतियों में से एक है। जिन्होंने राजनीतिक क्षेत्र में भाग
कमला देवी चट्टोपाध्याय
श्रीमती कमला देवी चट्टोपाध्याय आज के युग में एक क्रियाशील आशावादी और विद्रोहिणी नारी थी। इनके आदर्शों की व्यापकता जीवनपथ

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.