Alvitrips

Touris place, religious place, history, and biography information in hindi

औली पर्यटन स्थल – औली में बर्फबारी का आनंद – औली का तापमान

प्रिय पाठको हमने अपनी पिछली अनेक पोस्टो में अपने पाठको को उत्तराखंड के पर्यटन के अनेक पर्यटन स्थलो की जानकारी अपने पाठको को दी। अपनी इस पोस्ट में हम उत्तराखंड के ही एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल औली की जानकारी अपने पाठको को देंगे और औली पर्यटन स्थल की सैर करेगें और जानेगें कि-

औली में बर्फबारी कब होती है?

औली उतराखंड का तापमान?

औली के दर्शनीय स्थल कौन कौन से है?

औली यात्रा पर कब जाए?

जोशी मठ औली रोपवे की लम्बाई कितनी है?

औली कैसे पहुंचे?

औली उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र के विख्यात बद्रीनाथ धाम के निकट घने जंगल, पहाड व मखमली घास से भरपूर एक अत्यंत रमणीक स्थल है। यहा देश का सबसे नया व आधुनिक आइस स्काइंग केंद्र भी है। जहा स्कीइंग का भरपूर मजा लिया जा सकता है। समुद्र तल से इस स्थल की ऊंचाई 2519 मीटर से लेकर 3049 मीटर तक है। यहा से नंदा देवी, हाथी गौरी पर्वत, नीलकंठ व ऐरावत पर्वत का नजारा भी देखा जा सकता है। सन् 1994 में यहा जोशी मठ से औली तक 4 किलोमीटर लम्बे रोपवे का निर्माण किया गया था। 1927 मीटर से 3027 मीटर की ऊचांई तक यह रोपवे श्रेष्ठतम तकनीक से बना एशिया के सबसे ऊंचे रोपवे में से एक है। इसकी यात्रा पर्यटको को आनंद विभोर व रोमांचित कर देती है। इसलिए औली पर्यटन स्थल उत्तराखंड पर्यटन में अपना महत्तपूर्ण स्थान रखते है।

औली पर्यटन स्थल
औली पर्यटन स्थल

औली पर्यटन स्थल

जोशी मठ

जोशी मठ औली से 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह जगह मठो, मंदिरो और स्मारको के लिए दर्शनीय है। इसके अलावा आप यहा के पर्वतो की सैर भी कर सकते है। जोशी मठ को बद्रीनाथ और फूलो की घाटी का प्रवेशद्धार माना जाता है।

छत्रा कुंड

जंगल के बीच स्थित छत्रा कुंड सरोवर गुरसौं से एक किलोमीटर दूर है। यहा का दर्शनीय सरोवर पर्यटको का मन मोह लेता है।

क्वांरी बुग्याल

क्वारी बुग्याल समुंद्रतल से 3350 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। ट्रैकिंग करने वालो के लिए यह एक आदर्श स्थल है। यहा दूर दूर तक विस्तृत ढलानो की खूबसूरती देखते ही बनती है।

सेलधार तपोवन

यह स्थान औली पर्यटन में महत्तवपूर्ण स्थान रखता है। यहा गर्म पानी के झरने, सोते और फव्वारे देखने योग्य है।

गुरसौं बुग्याल

यह स्थान औली से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। समुंद्र तल से गुरसौं बुग्याल की ऊंचाई 3056 मीटर है। खूबसूरत नजारो से भरपूर यह मैदान मीलो तक फैला हुआ है।

चिनाब झील

प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर यह जगह चाई थेंग की दुर्गम चढाई के बाद सामने आती है। यहा पहुंचने के लिए कठिन चढाई चढनी पडती है।

वंशीनारायण कल्पेश्वर

इस स्थल तक पहुंचने के लिए पहले जोशी मठ से हेलंग चट्टी आना पडता है। जो कि औली से 12 किलोमीटर दूर है। हेलंग चट्टी से 10 किलोमीटर पैदल चलने के बाद कल्पेश्वर की घाटी आती है। वंशीनारायण मंदिर कल्पेश्वर से केवल 2 किलोमीटर दूर है।

औली का तापमान

औली ऊचाई पर स्थित होने के कारण यहा का मौसम अधिकतर ठंडा ही रहता है। औली जाने के लिए सबसे अच्छा मौसम गर्मीयो का होता है गर्मीयो में औली का तापमान अधिकतम 15℃ से न्यूनतम 7℃ तक रहता है। अगर आप औली में बर्फबारी देखना चाहते है या आईस स्पोर्टस का आनंद उठाना चाहते है तो आप सर्दीयो के मौसम में भी जा सकते। सर्दीयो में औली का तापमान अधिकतम 4℃ से माइनस -8℃ तक रहता है। इस समय यहा चारो तरफ बर्फ की चादर ढकी होती है और ठंड अधिक होती है। छोटे बच्चो को साथ लेकर इस मौसम में औली की यात्रा बच्चो के लिए कष्टदायक हो सकती है। मानसून यानि बरसात के मौसम में यहा वर्षा औसत से कम होती है इस समय यहा का तापमान 12℃ तक रहता है जो वर्षा होने की स्थिति में और भी नीचे तक चला जाता है। इसलिए औली पर्यटन स्थल की यात्रा पर आने से पहले पेंकिग करते समय गर्म वस्त्र रखने न भूंले।

चमोली जिले के पर्यटन स्थल

रूद्रप्रयाग जिले के पर्यटन स्थल

पौडी गढवाल जिले के पर्यटन स्थल

औली कैसे जाएं

औली के लिए रेल सेवाएं उपलब्ध नही है। रेल द्वारा आप ऋषिकेश या काठगोदाम तक ही पहुंच सकते है। यहा से आगे आपको सडक मार्ग द्वारा जाना पडेगा। ऋषिकेश से औली 253 किलोमीटर दूर है। ऋषिकेश से औली बस या कार द्वारा जोशी मठ होकर औली पहुंचा जा सकता है। या फिर काठगोदाम से पौडी श्रीनगर होते हुए जोशी मठ पहुचा जा सकता है। जोशी मठ से आप रोपवे का भी इस्तेमाल कर सकते है। जोशी मठ से औली रोपवे की दूरी 4 किलोमीटर है। औली में ठहरने के स्थान के लिए यहा गढवाल मंडल विकास निगम द्वारा फाइबर हट्स बनाई गई है। जहा रहने के अलावा खाने पीने की भी व्यवस्था भी है।

 

 

 

 

उत्तराखंड पर्यटन पर आधारित हमारे यह लेख भी जरूर पढ़ें

 

दार्जिलिंग ( एक यादगार सफ़र )Read more.
आफिस के काम का बोझ   शहर की भीड़ भाड़ और चिलचिलाती गर्मी से मन उब गया तो हमनें लम्बी Read more.
गणतंत्र दिवस परेडRead more.
गणतंत्र दिवस भारत का एक राष्ट्रीय पर्व जो प्रति वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाता है । अगर पर्यटन की Read more.
मांउट आबू ( रेगिस्तान का एक हिल्स स्टेशन) – माउंट आबू दर्शनीय स्थल – mauntabu tourist place information in hindiRead more.
पश्चिमी राजस्थान जहाँ रेगिस्तान की खान है तो शेष राजस्थान विशेष कर पूर्वी और दक्षिणी राजस्थान की छटा अलग और Read more.
शिमला(सफेद चादर ओढती वादियाँ) शिमला के दर्शनीय स्थल – shimla tourist place in hindiRead more.
बर्फ से ढके पहाड़ सुहावनी झीलें, मनभावन हरियाली, सुखद जलवायु ये सब आपको एक साथ एक ही जगह मिल सकता Read more.
नेपाल ( मांउट एवरेस्ट दर्शन) नेपाल पर्यटन nepal tourist place information in hindiRead more.
हिमालय के नजदीक बसा छोटा सा देश नेंपाल। पूरी दुनिया में प्राकति के रूप में अग्रणी स्थान रखता है । Read more.
नैनीताल मल्लीताल, नैनी झील
नैनीताल( सुंदर झीलों का शहर) नैनीताल के दर्शनीय स्थलRead more.
देश की राजधानी दिल्ली से लगभग 300किलोमीटर की दूरी पर उतराखंड राज्य के कुमांऊ की पहाडीयोँ के मध्य बसा यह Read more.
मसूरी के पर्यटन स्थलों के सुंदर दृश्य
मसूरी (पहाड़ों की रानी) मसूरी टूरिस्ट पैलेस – masoore tourist placeRead more.
उतरांचल के पहाड़ी पर्यटन स्थलों में सबसे पहला नाम मसूरी का आता है। मसूरी का सौंदर्य सैलानियों को इस कदर Read more.
कुल्लू मनाली (बर्फ से अठखेलियाँ) कुल्लू मनाली दर्शनीय स्थल – kullu manali tourist placeRead more.
कुल्लू मनाली पर्यटन :- अगर आप इस बार मई जून की छुट्टियों में किसी सुंदर हिल्स स्टेशन के भ्रमण की Read more.
हरिद्धार ( मोक्षं की प्राप्ति)Read more.
उतराखंड राज्य में स्थित हरिद्धार जिला भारत की एक पवित्र तथा धार्मिक नगरी के रूप में दुनियाभर में प्रसिद्ध है। Read more.
गोवा( बीच पर मस्ती) goa tourist place information in hindiRead more.
भारत का गोवा राज्य अपने खुबसुरत समुद्र के किनारों और मशहूर स्थापत्य के लिए जाना जाता है ।गोवा क्षेत्रफल के Read more.
जोधपुर ( ब्लू नगरी) jodhpur blue city – जोधपुर का इतिहासRead more.
जोधपुर का नाम सुनते ही सबसे पहले हमारे मन में वहाँ की एतिहासिक इमारतों वैभवशाली महलों पुराने घरों और प्राचीन Read more.
पतंजलि योग पीठ – patanjali yog peeth – योग जनकRead more.
हरिद्वार जिले के बहादराबाद में स्थित भारत का सबसे बड़ा योग शिक्षा संस्थान है । इसकी स्थापना स्वामी रामदेव द्वारा Read more.
खजुराहो(कामुक कलाकृति का अनूठा संगम) kamuk klakirti khujrahoRead more.
खजुराहो ( कामुक कलाकृति का अनूठा संगम भारत के मध्यप्रदेश के झांसी से 175 किलोमीटर दूर छतरपुर जिले में स्थित Read more.
लाल किला ( दिल्ली रेड फोर्ट) – लाल किले का इतिहास- red fort dehli history in hindiRead more.
भारत की राजधानी दिल्ली के पुरानी दिल्ली इलाके में स्थित ऐतिहासिक मुगलकालीन किला है ” लाल किला”। लाल पत्थर से Read more.
जामा मस्जिद दिल्ली का इतिहास- jama masjid dehli history in hindiRead more.
जामा मस्जिद दिल्ली मुस्लिम समुदाय का एक पवित्र स्थल है । सन् 1656 में निर्मित यह मुग़ल कालीन प्रसिद्ध मस्जिद Read more.
दुधवा नेशनल पार्क – doodhwa national parkRead more.
उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जनपद के पलिया नगर से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित दुधवा नेशनल पार्क है। Read more.
पीरान कलियर शरीफ – दरगाह करियर शरीफ – कलियर दरगाह का इतिहास – दरगाह साबीर पाक – dargah piran kaliyarRead more.
पीरान कलियर शरीफ उतराखंड के रूडकी से 4किमी तथा हरिद्वार से 20 किमी की दूरी पर स्थित   पीरान  कलियर Read more.
सिद्धबली मंदिर – सिद्धबली मंदिर का इतिहास – sidhbali tample kotdwar history in hindiRead more.
सिद्धबली मंदिर उतराखंड के कोटद्वार कस्बे से लगभग 3किलोमीटर की दूरी पर कोटद्वार पौड़ी राष्ट्रीय राजमार्ग पर भव्य सिद्धबली मंदिर Read more.
राधा कुंड यहाँ मिलती है संतान सुख प्राप्ति – radha kund mthuraRead more.
राधा कुंड उत्तर प्रदेश के मथुरा शहर को कौन नहीं जानता में समझता हुं की इसका परिचय कराने की शायद Read more.
सोमनाथ मंदिर का इतिहास somnath tample history in hindiRead more.
भारत के गुजरात राज्य में स्थित सोमनाथ मंदिर भारत का एक महत्वपूर्ण  मंदिर है । यह मंदिर गुजरात के सोमनाथ Read more.
जिम कार्बेट नेशनल पार्क jim corbet national park information in hindiRead more.
जिम कार्बेट नेशनल पार्क उतराखंड राज्य के रामनगर से 12 किलोमीटर की दूरी  पर स्थित जिम कार्बेट नेशनल पार्क  भारत का Read more.
अजमेर शरीफ दरगाह ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती ajmer dargaah history in hindiRead more.
भारत के राजस्थान राज्य के प्रसिद्ध शहर अजमेर को कौन नहीं जानता । यह प्रसिद्ध शहर अरावली पर्वत श्रेणी की Read more.
Jammu kashmir tourist place जम्मू कश्मीर टूरिस्ट पैलेस जानकारी हिन्दी मेंRead more.
जम्मू कश्मीर भारत के उत्तरी भाग का एक राज्य है । यह भारत की ओर से उत्तर पूर्व में चीन Read more.
वैष्णो देवी यात्रा माँ वैष्णो देवी की कहानी veshno devi history in hindiRead more.
जम्मू कश्मीर राज्य के कटरा गाँव से 12 किलोमीटर की दूरी पर माता वैष्णो देवी का प्रसिद्ध व भव्य मंदिर Read more.
मानेसर झील ऐसा लगता है पानी कम मछलियां ज्यादाRead more.
मानेसर झील या सरोवर मई जून में पडती भीषण गर्मी चिलचिलाती धूप से अगर किसी चीज से सकून व राहत Read more.
हुमायूँ का मकबरा मुगलों का कब्रिस्तान humanyu tomb history in hindiRead more.
भारत की राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन तथा हजरत निजामुद्दीन दरगाह के करीब मथुरा रोड़ के निकट हुमायूँ का मकबरा स्थित है। यह Read more.
कुतुबमीनार का इतिहास Qutab minar history in hindi कुतुबमीनार एशिया की सबसे ऊची मीनारRead more.
पिछली पोस्ट में हमने हुमायूँ के मकबरे की सैर की थी। आज हम एशिया की सबसे ऊंची मीनार की सैर करेंगे। जो Read more.
Lotus tample history in hindi कमल मंदिर एशिया का एक मात्र बहाई मंदिरRead more.
भारत की राजधानी के नेहरू प्लेस के पास स्थित एक बहाई उपासना स्थल है। यह उपासना स्थल हिन्दू मुस्लिम सिख Read more.
Akshardham tample history in hindi स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर दिल्ली विश्व का सबसे बड़ा हिन्दू मंदिरRead more.
पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कमल मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर की थी। इस पोस्ट Read more.
Charminar history in hindi- चारमीनार का इतिहासRead more.
प्रिय पाठकों पिछली पोस्ट में हमने दिल्ली के प्रसिद्ध स्थल स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर के बारे में जाना और उसकी सैर Read more.

3 comments found

  1. Yese to bahut acha place hai par waha antkwadi log bhi rahate hai .Kahi Goli mar di tab Kiya hoga.very dangerous area hai.

    1. भाई औली उत्तराखंड में है और औली में आज तक ऐसी कोई घटना नही हुई है और उत्तराखंड पर्यटन की दृष्टि से काफी सुरक्षित राज्य माना जाता है

  2. औली वाकई में बहुत खुबसुरत जगह है. उत्तराखंड के औली में बसता है धरती का स्वर्ग

write a comment